मधुबनी – हस्तशिल्प शिविर का जिला पदाधिकारी ने, दीप प्रज्वलित कर किया शुभारंभ

हस्तशिल्प शिविर का जिला पदाधिकारी ने किया दीप प्रज्वलित कर शुभारंभ
मधुबनी: स्थानीय नगर भवन,मधुबनी में शनिवार को हस्तशिल्प शिविर का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ श्री शीर्षत कपिल अशोक, जिला पदाधिकारी, मधुबनी के द्वारा दीप प्रज्वलित कर किया गया।
इस अवसर पर शिल्प गुरू तथा पद्मश्री से सम्मानित श्रीमती गोदावरी दत्त, श्री मुकेश कुमार, सहायक निदेशक, हस्तशिल्प, श्री सुजीत कुमार, जिला परिवहन पदाधिकारी, मधुबनी, श्री एच.के.सिंह,सिविल सर्जन, मधुबनी समेत काफी संख्या में शिल्पकार उपस्थित थे।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जिला पदाधिकारी, मधुबनी ने कहा कि 100 दिवसीय एम0एस0एम0ई0 सहयोग एवं संपर्क कार्यक्रम जो दिनांक 02 नवंबर 2018 से शुरू किया गया था उसका दिनांक 08 फरवरी 2019 को 100 दिन पूरे हुए है। कार्यक्रम की सफलता के लिए कार्यालय, विकास आयुक्त, हस्तशिल्प सेवा केन्द्र, मधुबनी के द्वारा उठाए गये कदमों के लिए सहायक निदेशक एवं उनके सभी सहयोगी अधिकारियों एवं कर्मचारियों एवं अग्रणी जिला प्रबंधक और जिले के सभी बैंको के द्वारा किये गये कार्यो की सराहना की। उन्होंने यह भी बताया कि इस कार्यक्रम के अंतर्गत कुल 2374 शिल्पियों के मुद्रा ऋण हेतु आवेदन अनुशंसित कर संबंधित बैंकों को अग्रसारित किया गया। जिसमें से अब तक 213 शिल्पियों के आवेदन बैंकों द्वारा स्वीकृत किया गया। कुल राशि लगभग 1.40 करोड़ संबंधित शिल्पियों के खाते में अनुमोदित किया गया साथ ही शेष आवेदनों पर कार्य प्रगति पर है। इस कार्यक्रम के अंतर्गत 5510 नए शिल्पियों की पहचान कर उनको पंजीकृत किया गया और 1411 नए पहचान पत्र शिल्पियों के बीच बांटे गए। शिल्पियों को पहचान एवं पंजीकरण के लिए जिले में जिला प्रशासन एवं कार्यालय विकास आयुक्त, हस्तशिल्प के सहयोग से जिले में हस्तशिल्प पहचान रथ को चलाया गया है।
उन्होंने बताया कि पूरे देश भर में हस्तशिल्प सेक्टर में कुल चयनित 19 जिलों में मधुबनी जिला शिल्पियों को मुद्रा ऋण मुहैया कराने में अग्रणी है।
सहायक निदेशक, हस्तशिल्प श्री मुकेश कुमार ने बताया कि शिल्पियों को मिलने वाली योजनाएं यथा पहचान कार्ड, मुद्रा योजना, बीमा योजना इत्यादि का लाभ कार्यालय के माध्यम से 100 दिन पूरे होने के पश्चात भी निरंतर दिया जायेगा।
सुश्री निमिषा एवं सन्नी गुप्ता(डिजाइनर) द्वारा उत्पाद के विविधता के बारे में पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन के माध्यम से शिल्पियों को विस्तारपूर्वक जानकारी दी गयी।
कार्यक्रम में शिल्प गुरू से सम्मानित श्रीमती गोदावरी दत्त को भारत सरकार के द्वारा मिथिला कला के क्षेत्र में पद्मश्री पुरस्कार मिलने की घोषणा के पश्चात कार्यालय,विकास आयुक्त,हस्तशिल्प सेवा केन्द्र, मधुबनी की ओर से सम्मान सभा कार्यक्रम का आयोजन किया गया। श्रीमती गोदावरी दत्त ने अपने अनुभवों को साझा करते हुए सभी युवा शिल्पियों को कला के प्रति प्रोत्साहित किया एवं कला के संरक्षण हेतु सुझाव दिया। उन्होंने इस सम्मान के लिए सभी प्रासंगिक विभागों को धन्यवाद दिया।
जिला पदाधिकारी द्वारा पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किये जाने को लेकर श्रीमती गोदावरी दत्त का सम्मान शाल एवं पुष्प गुच्छ से किया गया।
कार्यक्रम में राज्य पुरस्कृत श्रीमती विमला दत्त द्वारा प्राकृतिक रंगों को तैयार करने एवं उनका उपयोग करने के संबंध में अपने अनुभव एवं विचार युवा शिल्पियों के साथ साझा किया गया।