पुलिस को शराबबंदी में लगाकर सरकार करा रही है वसूली : पप्‍पू यादव

1436

मजबूत महागठबंधन की राजनीति के पक्ष है जन अधिकार पार्टी 

नेता व अपराधियों के बीच सांठगांठ को खत्‍म करने के पक्ष में अडिग है जाप (लो)

पटना: जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्‍ट्रीय संरक्षक सह सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्‍पू यादव ने कहा कि बिहार में अपराध का ग्राफ चार गुणा बढ़ गया है। ये आकड़ा सरकार का ही है, जो बताता है कि यहां अपराधी ही सरकार चला रहे हैं। सत्‍ता और विपक्ष दोनों अपराधियों को संरक्षण देते हैं और उनका इस्‍तेमाल करते हैं। राजनीति का अपराधीकरण लोकतंत्र और बिहार की करोड़ों जनता के लिए ठीक नहीं है। जाप (लो) प्रमुख ने उक्‍त बातें आज पटना में पत्रकारों से चर्चा में कही।

उन्‍होंने राज्‍य सरकार पर शराबबंदी के नाम पर पुलिस बल को उलझाये रखने और पैसे वसूली का आरोप लगाया और कहा कि नीतीश कुमार ने जब पुलिस को शराबबंदी, शराब पकड़ने, पैसा वसूलने और उसे नेता तक पहुंचाने में लगा रखा है, तो वो अपराधियों पर लगाम कैसे लगा पायेंगे। जबकि प्रदेश में आपराधिक वारदातों में लगातार इजाफा हो रहा है। बिहार में कोई सुरक्षित नहीं है। सासंद ने कहा कि जाप (लो) का स्‍पष्‍ट मानना है कि अपराधियों को चिन्हित कर उन पर कठोर से कठोर कार्रवाई होनी चाहिए। साथ ही उन्‍होंने तमाम राजनीति दलों के नेता, पार्टी पदाधिकारी और प्रशासनिक-पुलिस अधिकारियों की डीएनए जांच कराने की मांग की, ताकि यह स्‍पष्‍ट हो सके कि शराबबंदी में लगे लोग ही शराब का सेवन कर रहे हैं। बिहार में 90-95 फीसदी सकराकी अधिकारी शराब पीते हैं।

पप्‍पू यादव ने जन्‍दाहा में किसानों के अपहरण के बाद हत्‍या पर चर्चा करते हुए कहा कि बिहार में अब अपराधी और नेताओं का चोली दामन का हाथ हो गया है। वोट, सियासत और पैसा जैसी चीजें अपराधी व माफिया नेताओं को परोस रहे हैं। आज बिहार की जनता इससे छुटकारा पाना चाहती है। गुंजन खेमका की हत्‍या को सुलझाने में पुलिस विफल रही है। अखिलेश जायसवाल, लड्डू, शाही जैसी घटना से बिहार के लोग भयाक्रांत है। उन्‍होंने बड़े व्‍यवासयी संगठनों को सत्ता पक्ष के हाथों गिरवी रख देने का आरोप लगाया। उन्‍होंने कहा कि चैंबर ऑफ कॉमर्स के लोगों को अपराधियों के साथ साठगांठ है। छोटे व्‍यापारी को बड़े व्‍यापारी दबा कर रखना चाहते हैं।

उन्‍होंने कहा कि सरकार ने अपराध के जो आंकड़े जारी किया हैं, वे एकदम निराधार हैं। अपराधी व नेताओं के साथ व्‍यावसायिक संगठनों की मिलीभगत है और यही कारण है कि गुंजन खेमका की हत्‍या के खिलाफ व्‍यावसायिक संगठन मौन हैं। सांसद ने भी कहा कि थाना और जिला, दलाल और बिचौलिये चला रहे हैं। हमारा मानना है कि अपराधियों को जीने का अधिकार नहीं है। इसलिए हमारी पार्टी लोकतंत्र की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। नेता व अपराधियों के बीच सांठगांठ को खत्‍म करने के पक्ष में है।  सांसद ने कहा कि संगीन अपराध के मामलों में स्‍पीडी ट्रायल करा कर फांसी की सजा दे देनी चाहिए।

आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर पप्‍पू यादव ने कहा कि हम बिहार में मजबूत महागठबंधन की राजनीति के पक्ष में हैं। इस संबंध में कांग्रेस के शीर्ष नेताओं से बातचीत की है और अपनी भावनाओं से अवगत करा दिया है। हम तीन सीटों पर चुनाव लड़ना चाहते हैं। अब फैसला कांग्रेस को करना है। आज पटना में पत्रकारों से चर्चा में हमने कहा कि लालू यादव हमारे लिए सब दिन आदरणीय रहे हैं। सांप्रदायिकता की चुनौती से मुकाबला करना लालू प्रसाद जानते हैं, नफरत फैलाने वालों को रोकना जानते हैं। महागठबंधन को लेकर बड़े नेता व बड़ी पार्टी को फैसला करना चाहिए। लालूजी के परिवार के सदस्‍यों को पंचायत नहीं करना चाहिए। महागठबंधन में अनुभवी नेताओं को सम्मान मिलना चाहिए।

संवाददाता सम्‍मेलन में प्रदेश अध्यक्ष अखलाक अहमद,राष्ट्रीय प्रधान महासचिव एजाज अहमद, राष्ट्रीय महासचिव सह प्रवक्ता प्रेमचंद सिंह, राघवेंद्र कुशवाहा, राष्ट्रीय महासचिव राजेश रंजन पप्पू, प्रदेश महासचिव अरुण कुमार सिंह,  शिक्षक प्रकोष्ठ के अध्यक्ष मोहम्मद अली उपस्थित थे।