मधुबनी – दो दिवसीय दौरे पर स्मार्ट सिमरी पहुंचे गुजरात के मुख्य सचिव , कई कार्यक्रमों में हुए शामिल

मधुबनी – सिमरी के राजकुमार एवं गुजरात के मुख्य सचिव डा. जगदीप नरायण सिंह’ अपने पैतृक गांव सिमरी आने वाले थे । पुलिस प्रशासन’ उनके स्वागत एवं सुरक्षा के लिए निर्धारित रास्तों पर’ बड़ी संख्या में तैनात थे । वहीं उनके निवास स्थान सिमरी ड्योढ़ी पर भी पुलिस की फौज तैनात थी । दोपहर के डेढ़ बजे श्री सिंह अपने घर पहुंचे । 
 घर पहुंचते ही पुलिस प्रशासन के द्वारा उनका स्वागत किया गया एवं सलामी दी गई । सलामी का कार्यक्रम समाप्त होते ही उन्होंने पुलिस प्रशासन को फ्री होकर जाने के लिए बोल दिए । क्योंकि वो जानते थे कि पुलिस उनके स्वागत के लिए सुबह से ही परेशान होंगे। 
 अपने बिजी कार्यक्रम से फ्री होकर वो अपने घर आए थे।  परंतु आराम करना उन्हें जैसे पता ही ना हो । आते ही अपने घर के सदस्यों से मिलें और फिर निकल गए स्मार्ट विलेज के तहत चल रहे कार्यो का निरीक्षण करने ।
सबसे पहले राम जानकी मंदिर पहुंचे । जहां मिथिला पेंटिंग के द्वारा उकारी गई श्री राम सीता के जीवनी पर बनी पेंटिंग का मुआयना करने। 
फिर मंदिर के बगल में उनके द्वारा बनाई गई राम जानकी सरोवर का भी निरीक्षण किए । 
काफी देर के बाद वापस अपने घर आए । जहां काफी संख्या में ग्रामीण उनसे मिलने के लिए आए हुए थे । फिर बारी बारी से सभी से मुलाकात किए । सबकी समस्या सुनते गए । ये सिलसिला काफी रात तक चलता रहा । 
दूसरे दिन भी मुलाकातियों का दौर चलता रहा । सब अपनी अपनी परेशानी बताते रहे । सभी की परेशानियों का हल भी निकालने का भरसक प्रयास वो करते रहे । 
कुछ ऐसे भी सज्जन थे जो गुजरात में उनके नेतृत्व में सम्पन्न किये जाने वाले कार्यों के लिए उन्हें बधाई दी और शुभकामनाएं दीं। विशेषकर सरदार पटेल की विश्व की सबसे ऊंची मूर्ति के निर्माण के पूर्ण होने पर उन्हें बधाइयाँ दी। इस कड़ी में गुजरात सरकार द्वारा गांधी जी की शिक्षा पद्धति पर आधारित बुनियादी विद्यालयों के पुनरुद्धार के लिए प्रयास किये जाने की गुजारिश भी की गई ताकि गुजरात सरकार के प्रयासों को बिहार में भी अपनाया जा सके और बौद्धिक आदान-प्रदान की नई पहल शुरू हो।
फिर रामजानकि मंदिर के नवनिर्मित सरोवर का उद्घाटन के लिए’ श्री सिंह’ आम आदमी की तरह’ धार्मिक अनुष्ठान के साथ’ पूजा पाठ में तल्लीन हो गए। ये कार्यक्रम लगभग दो घंटे तक चला । 
पूजा पाठ सम्पन्न होने के बाद श्री सिंह’ फिर से गांव घूमने के लिए पैदल ही निकल पड़े । शाम का समय था । गांव का सुहाना मौसम पकड़ वो हर्षित भी हो रहे थे । गांव के गरीब बुजुर्ग को पांव छूकर आशीर्वाद लेने का मौका नहीं छोड़ रहे थे । 
काफी देर के बाद जब वापस घर आए तो मधुबनी जिला पदाधिकारी शीर्षत कपिल अशोक आए हुए थे। उनके साथ लगभग एक घंटे तक गांव और जिले में विकास के कार्य पर गहन चर्चा की । 
फिर जिला पदाधिकारी एवं उनके टीम के साथ श्री सिंह राजनगर के सुंदरवन के श्मशान भूमि पहुंचे , जहां काली पूजा महोत्सव सह सांस्कृतिक उत्सव का उद्घाटन किए । उक्त कार्यक्रम के संबोधन में भी उन्होंने देश की सांझी विरासत को मिल-जुलकर आगे ले जाने के लिये सांस्कृतिक आदान-प्रदान को जरूरी कदम बताया और लोगों को बेहतर भविष्य के लिए शुभकामनाएं भी दीं। उन्होंने मधुबनी जिलापदधिकारी श्री शीर्षत कपिल अशोक द्वारा जिले के उत्थान की दिशा में किये जा रहे विभिन्न प्रयासों की सराहना की विशेषकर मधुबनी चित्रकला के लिए उनके प्रयासों की भूरी भूरी प्रसंसा की। सरकार की नीतियों को ठीक प्रकार लागू करने के उनके लगन को रेखांकित किया।
 श्री सिंह’ गांव वालों के लिए वरदान साबित हो रहे हैँ । उन्होंने स्मार्ट विलेज प्रोग्राम के तहत सिमरी को स्मार्ट सिमरी बनाने में लगे हुए हैँ । गांव के कुछ महिनों के प्रगति पर नजर डालें , तो यही प्रतीत होता है कि सिमरी अब बहुत जल्द स्मार्ट सिमरी बन जाएगा । जिसमें जिला पदाधिकारी शीर्षत कपिल अशोक , राजनगर प्रखंड विकास पदाधिकारी आशुतोष कुमार एवं अन्य पदाधिकारी का योगदान सराहनीय रहा है ।