गुजरात में गरजे पप्‍पू यादव, कहा – बिहारियों को अपमानित करने वालों के खिलाफ अब होगा युद्ध

596

गलती एक की और सजा पूरे समाज को, ये नहीं चलेगा : पप्‍पू यादव

सांसद ने की गुजरात रेप पीड़िता के परिजनों को एक लाख रुपए की सहायता

पटना : जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्‍ट्रीय संरक्षक और सांसद पप्‍पू यादव ने गुजरात में एलान कर दिया है कि अब बिहारियों को अपमानिक करने वालों के खिलाफ युद्ध होगा, याचना नहीं। गुजरात में बिहारियों पर हो रहे हमले और उन्हे जबरन पलायन करने पर मजबूर करने के मामले को लेकर पप्पू यादव गुजरात पहुंच थे। इस दौरान उन्‍होंने साफ तौर पर कहा कि बिहार और यूपी के लोगों पर हुई हमलों के लिए भारतीय जनता पार्टी की सरकार जिम्मेदार है। मगर अब हम यह अत्‍याचार बर्दाश्‍त नहीं करेंगे। उन्‍होंने रेप की घटना की जांच पर भी सवाल उठाए और कहा कि दुष्‍कर्म पीडि़त बच्‍ची के लिए उठने वाले आवाज को दबाने के लिए बिहार के लोगों को टारगेट कर राजनीति की जा रही है। अब यह हम बदार्श्‍त नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि रेप के मामले को लेकर बिहारियों को निशाना बनाना एक राजनीतिक साजिश है। आखिर क्यों महाराष्ट्र, गुजरात तो कभी मणिपुर तो कभी असाम में बिहारियों को ही निशाना बनाया जाता है?सांसद ने पीएम नरेंद्र मोदी पर भी जमकर निशाना साधा और कहा कि बिहार – यूपी में आकर कहते हैं गंगा मैइया ने बुलाया है और उसी गंगा किनारे के वासियों के साथ जब उनके रण में मार पीट कर अपमानित किया जाता है, तब भी वे चुप्‍पी साध लेते हैं।  उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और खास कर गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी इस मामले पर चुप क्यों रहे? सन 47 के बाद पहली बार ऐसा हुआ है, जब लाखों की संख्‍या में लोगों को एक राज्‍य भाग दिया गया। गुजरात की रूपाणी सरकार पर हमला बोलते हुए पप्पू यादव ने कहा कि जो सरकार संविधान के अनुसार काम नहीं कर सकती ऐसे सरकार और उसके सीएम को तुरंत इस्‍तीफा दे देना चाहिए।

सांसद ने साबरकंठा जिले के हिम्मतनगर अंतर्गत डाबूई गाँव के पास ताड़पतरा में पीड़ित बच्ची के परिजनों से भी मुलाकात की और उन्‍हें डेढ़ लाख रूपए की आर्थिक मदद की। बाद में कहा कि रेप की घटना नहीं बात नहीं है, हम भी बिहार मे इससे जूझ रहे हैं। मगर किसी एक के पाप की सजा पूरे समाज को नहीं दी जा सकती। दुष्‍कर्मी को फांसी दे देनी चाहिए। उन्‍होंने कहा कि जहां बात दुष्‍कर्म पीडि़त बच्‍ची को न्‍याय दिलाने की होनी चाहिए थी, वहीं, आज इस पर क्षेत्रवाद की राजनीति हो रही है। इससे बच्‍ची को न्‍याय दिलाने की बात दब गई है। मेरा मानना है कि दुष्‍कर्म करने वालों को सरेआम फांसी दी जानी चाहिए, ताकि ऐेसे लोग अगली बार बेटियों को नजर उठाकर भी देखने का हिम्‍मत न करें।

सांसद ने इस पूरे प्रकरण में कांग्रेस नेता अल्‍पेश ठाकोर की भूमिका पर कहा कहा कि अल्पेश ठाकोर को बिहार का सह प्रभारी होने के कारण निशाना बनाया गया है। अगर उनकी या ठाकोर सेना की भूमिका थी तो ठाकोर के खिलाफ अब तक राज्‍य सरकार ने कार्रवाई क्यों नहीं की है? उनपर एफआईआर दर्ज क्‍यों नहीं हुआ? यह भाजपा सरकार की मंशा को स्‍पष्‍ट करता है कि इस मामले में अपना राजनीतिक रोटी सेंक रहे हैं। सांसद ने ये भी कहा कि गुजरात से हुए अभूतपूर्व पलायन को रोकने की कोशिश क्यों नहीं की गई? खबरों के मुताबिक गुजरात के एक मंत्री घटना से तीन दिन पहले डोमिसाइल के आधार पर स्थानीय लोगों को तरजीह देने की बात कही थी, इसकी जांच हो। उन्‍होंने गुजरात के डीजीपी पर रूपाणी सरकार की चमचागिरी का भी आरोप लगाया। साथ ही बिहार की नीतीश सरकार और पूर्व की लालू सरकार भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि इन 15 सालों के अगर बिहार में रोजगार की संभावनाएं सृजित होती तो आज हम गाली नहीं खाते है।