यादों के झरोखों में : अटल की अंतिम कोसी यात्रा

1011
नहीं रहे भारत रत्न अटल
@कुणाल
 
सहरसा : वर्ष 2000 में बिहार विधानसभा के चुनाव के क्रम में NDA प्रत्याशियों के लिए वोट मांगने सहरसा पहुंचे थे अटल बिहारी वाजपेय ।बताते चले की वाजपेय जी की कोसी क्षेत्र में यह अंतिम यात्रा थी 
 
तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वापपेयी विधानसभा से चुनाव लड़ रही NDA प्रत्यशी लवली आनंद के लिए पटेल मैदान में आयोजित महती जन सभा को 17 फरबरी को 2000को संबोधित किया था । पूर्व सांसद आनंद मोहन की अध्यक्षता और शैयद शहनवाज हुसैन के संचालन में संम्पन हुई थी सभा ।
बात वर्ष दो हजार के बिहार विधान सभा चुनाव की है।टिकट बंटवारे को लेकर संयोजक जॉर्ज फर्नांडिस  के घर महवपूर्ण बैठक थी।बिहार पीपुल्स पार्टी की नेत्री के नाते लवली आनंद को भी बैठक में शामिल होने के लिएआमंत्रित किया गया था।लवली आनंद उस समय ओरंगाबाद ज़िले के नवीनगर विधान सभा क्षेत्र का
प्रतिनिधित्व कर रही थी ।
बैठक में शामिल होने से पूर्व लवली आनंद ने दूरभाष पर पीएमओ से मिलने का समय माँगा और समय मिल भी गया। पीएमओ से मिलने पर उन्होंने ने ‘घर वापसी’ की इच्छा प्रकट की तथा सहरसा विधान सभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने की मांग रख दी । पीएमओ ने इस पर अपनी सहमति भी दे दी ।
हालांकि  पीएमओ ने सहरसा विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने की सहमति तो दे दी लेकिन घटक दल के शरद यादव सहित कुछ अन्य नेता इससे नाराज हो गये और बात बिगड़ने लगी । स्वयं आनंद मोहन भी घटक दल के नेताओं के व्र ओढ़ स्वर को सुनकर आक्रोशित हो गए ।लेकिन अपने वादा अनुसार अटल जी ने सहरसा पहुंचकर आम जन सभा को संबोधित करते हुए मतदाताओं से लवली आनन्द के पक्ष में वोट करने की अपील  की ।
सभा मंच पर मौजूद वरीय नेता तब आवक रह गए जब मंच से नीचे उतरने के दौरान पूर्व संसाफ आनंद मोहन की ओर मुखतिब हो कर अटल जी ने कहा “आनंद अब तो आप खुश है ना” । 
पूर्व आनंद लोवली आनंद के अनुसार एनडीए घटक दल के नेता शरद यद्नअव के मन के विपरीत न केवल मुझे टिकट दिलवाया बल्कि स्वयं मेरे प्रचार में एन०डी०ए० की पूरी टीम जार्ज फर्नाडीज ,नीतीश कुमार, राम विलास पासवान,सुशील मोदी , शाहनवाज हुसैन सहित अन्य वरीय नेताओ की मौजूदगी में अटल जी ने सहरसा पटेल मैदान पहुंच कर  जन सभा को संबोधित किए थे ।