अपराध एवं अपराधियों पर नकेल डालने का कमान खुद डीआईजी ने संभाला

Kunal Kishor
kunal@koshixpress.com
1094

719 है जिसमे से 219 को जेल भेजा गया

सहरसा: अपराध और अपराधियों पर नकेल डालने का कमान खुद डीआईजी ने संभाला।इसके लिये न सिर्फ उनके द्वारा बल्कि कोशी प्रमंडल के तीनों पुलिस अधीक्षक द्वारा भी मोनिटरिंग शुरू की गयी।जिसका परिणाम शनै शैने बेहतर होने की उम्मीद भी जतायी गयी।कोशी प्रक्षेत्र के तीनो जिलों में चली पुलिस की कार्रवाई एवं उपलब्धि से सम्बंधित ब्यौरा पेश करते हुये कोशी प्रक्षेत्र के डीआईजी सुरेश प्रसाद चौधरी द्वारा उक्त बातें कही गयी।

उन्होंने बताया कि कोशी प्रक्षेत्र में टोटल गिरफ्तारी 719 है जिसमे से 219 को जेल भेजा गया है।इसमें से मुख्य अपराधी कूल18 है।आर्म्स बरामदगी कुल 8 पिस्टल 2 मैगजीन जिसमे कार्टिज 47 एवं 4 मोटरसायकिल एवं एक स्कोर्पियो जब्त किया गया है।साथ ही वाहन से जुर्माना के रूप में 2 लाख 47 हजार रुपये वसूला गया है।इसके अलावे देशी शराब 127 लीटर एवं विदेशी शराब 148 लीटर जब्त किया गया है साथ ही 7 मोबाइल सायकिल 3 एवं लूटी गयी मोटर सायकिल दो है।

इन्होंने बताया कि ये हमारी साप्ताहिक उपलब्धि है।इसमें गिरफ्तारी की गुणवत्ता बढ़ाई जाएगी।मुख्य अपराधियों की गिरफ्तारी की संख्यां बढ़ायी जायेगी।हालाँकि इन्होंने इस उपलब्धि को पर्याप्त नहीं मानते हुये कहा कि दिन प्रति दिन गिरफ्तारियों को तबज्जों देते हुये इसकी संख्यां बढ़ाने की बातें भी कहीं। साथ ही आर्म्स एवं लूट के कांडों में काफी संख्यां में हमलोगों ने उद्भेदन किया है।और अवैध शराब की बारामदगी हुयी और ज्यादा से ज्यादा बरामदगी का प्रयास जारी है।

जबकि हथियार बरामदगी के मामले में मधेपुरा में उपलब्धि अच्छी रहने की बाते बताते हुये इन्होंने ने कहा कि इसके लिये पुलिस पदाधिकारियों को मनोबल बढ़ाने के लिये पुरस्कृत भी किया गया है।

डीआईजी की माने तो वो खुद मोनिटरिंग कर रहे है साथ ही सहरसा,सुपौल एवं मधेपुरा जिला के एसपी  खुद मोनिटरिंग कर रहे हैं तो परिणाम अच्छा ही होगा।इस तरह कोशी प्रक्षेत्र के डीआईजी ने खुद अपराधियों के विरुद्ध की गयी कार्रवाई एवं उपलब्धि का ब्यौरा पेश कर एवं खुद के द्वारा मोनिटरिंग करने की बात कह कर अपराध व अपराधी के विरुद्ध एक अभियान छेड़ दिया है जो शांति अमन चैन की स्थापना के साथ अपराधों पर अंकुश लगाने का एक सकारात्मक प्रयास के रूप में देखा जा सकता है।