परीक्षा केंद्र पर उतरवा दिए छात्रों के कपड़े, नंगे पैर भेजा गया एग्जाम हॉल में

Kunal Kishor
kunal@koshixpress.com
2022

जिले के एम एल टी कॉलेज में  रविवार की सुबह अजीब नजारा देखने को मिला। बी०एड संयुक्त प्रवेश परीक्षा में परीक्षार्थियों के कपड़े तक उतर दिये। इसके चलते परीक्षा केंद्र में प्रवेश करने समय छात्र काफी असहज दिखे।

सहरसा में केंद्र की तस्वीर वायरल

परीक्षार्थियों को बनियान या फिर बिना बनियान और खाली पैर परीक्षा सेंटर के अंदर भेजा गया। सुरक्षाकर्मी परीक्षा सेंटर पर ही गेट पर ही जांच के दौरान परीक्षार्थियों के कपड़े देख रहे थे। जो परीक्षार्थी फूल शर्ट, फूल टी शर्ट या जूते में परीक्षा केंद्र के अंदर जाने की कोशिश करते थे। सुरक्षाकर्मी उनका शर्ट और जूते उतरवा ले रहे थे।असमंजस में पड़े छात्र
आलम ये था कि छात्र एडमिट कार्ड लेकर बगैर शर्ट और बिना जूते के परीक्षा केंद्र में प्रवेश करने को मजबूर थे। इस फैसले के बाद जहां दूर-दूर से आए छात्र असमंजस में पड़ गए। वहीं, दूसरी तरफ इस फैसले से विभाग की भी काफी किरकिरी हुई।बताते चले कि सहरसा ज़िले में परीक्षा को लेकर एम एल टी कॉलेज एवं रमेश झा महिला कॉलेज को केंद्र बनाया गया था ।

फ़ाइल तस्वीर : शनिवार को परीक्षा को लेकर की गई बैठक
ज़िला प्रशाशन ने पूर्व में ही दी थी गाईड लाइन
 बी.एड. संयुक्त प्रवेश परीक्षा का आयोजन नालंदा खुला विश्वविद्यालय पटना द्वारा किया गया था ।परीक्षा को कदाचारमुक्त एवं शांतिपूर्ण आयोजन के लिए 
शनिवार को समाहरणालय सभा कक्ष में जिला पदाधिकारी  शैलजा शर्मा की अध्यक्षता में बैठक कर कई महत्वपूर्ण निर्देश दिया गया था ।
  • फुल शर्ट और जूता पहन कर परीक्षार्थी केंद्र में प्रवेश नहीं कर पाएंगे।
  • परीक्षार्थी केवल एडमिट कार्ड, पोस्टकार्ड साईज का फोटो चिपका हुआ फोटो शीट, आधार कार्ड अथवा कोई भी फोटो पहचान-पत्र एवं नीली/काली बॉल पेन ही परीक्षा केंद्र के अंदर ले जा सकेंगे।
  • मोबाइल, कोई भी इलेक्ट्रोनिक गैजेट्स, कैमरा, ब्लू टूथ, कैलकुलेटर, पेजर, इंस्ट्रुमेंट बॉक्स, घड़ी, ए.टी.एम.कार्ड के साथ प्रवेश वर्जित रहेगा।
  • केंद्र पर प्रतिनियुक्त स्टैटिक दंडाधिकारी/पुलिस पदाधिकारी, प्रतिनियुक्त वरीय शिक्षक पूरी तरह जांच के बाद ही परीक्षार्थियों को केंद्र में प्रवेश करने देंगे।
  • प्रत्येक परीक्षा केंद्र के प्रत्येक कमरे, बाथरूम में अभ्यर्थियों की संख्या, कमरों के आकार के अनुसार जैमर लगाया जाएगा सहित अन्य निर्देश जारी किया गया था।

अधिकारियों की माने  सरकारी नियम और निर्देश के आलोक में परीक्षा ली गयी  है और सभी परीक्षा केंद्र पर शांतिपूर्वक परीक्षा सम्पन्न हो गयी ।

मालूम हो कि बीएड में एडमिशन के लिए पहली संयुक्त प्रवेश परीक्षा के 32 हजार सीटों के लिए 90 हजार 530 अभ्यर्थी बिहार के 122 परीक्षा केन्द्र पर 9 बजे से 11 बजे तक परीक्षा में शामिल हुए ।
छात्र संगठनों ने जताया विरोध
परीक्षा केंद्र से छात्रों की तस्वीर वायरल होते ही NSUI, ABVP सहित अन्य छात्र संगठनों के नेताओं ने जिला प्रसाशन,शिक्षा विभाग एवं सरकार के विरोध सोशल मीडिया पर इस तुगलकी फरमान का विरोध शुरू कर दिया। NSUI के राष्ट्रीय छात्र नेता मनीष कुमार ने जानकारी देते हुए कहा शिकायत करने के बाद सहरसा DM, BNMU के प्रो वीसी MLT कॉलेज पहुंच कर मामले की जानकारी लिए जाने की बात कहा । मनीष ने यह भी बताया कि छात्रों को मिले गाइडलाइंस पुस्तिका एवं एडमिट कार्ड में भी फूल शर्ट और जूते नहीं पहन कर आने की जानकारी नही दी थी तो फिर किस कारण परीक्षार्थियों के फूल शर्ट और जुते उतरवाए गए । NSUI इस तुगलकी फरमान को लेकर चुप नहीं बैठेगा ।