नमस्‍ते बिहार का गीत ‘शत शत प्रणाम तोह के बिहार’ : कृष्‍ण कुमार ऋषि

Kunal Kishor
kunal@koshixpress.com
173

बेजोड़ तोहफा नमस्‍ते बिहार का गीत ‘शत शत प्रणाम तोह के बिहार’ : कृष्‍ण कुमार ऋषि

पटना : कला, संस्‍कृति एवं युवा विभाग के मंत्री  कृष्‍ण कुमार ऋषि द्वारा आज सचिवालय स्थित मंत्री कार्यालय में हिंदी फीचर फिल्‍म ‘नमस्‍ते बिहार’ का एक वीडियो गाना ‘शत शत प्रणाम तोह के बिहार’ को ऑनलाइन रिलीज किया गया। इस गाने को श्‍यामला म्‍यूजिक ने जारी किया है। इस मौके पर उन्‍होंने कहा कि यह गीत बिहार के लिए बेजोड़ तोहफा है। यह समस्‍त बिहार समेत भोजपुरी जनपद में बिहार का गौरव बिखेरेगी। राजन कुमार द्वारा निर्मित इस फिल्म के बारे में जितना जान सका हूं, उसके आधार पर यह गौरवशाली बिहार को वर्तमान में फिर से स्‍थापित करने वाला प्रयास साबित होगा। श्री ऋषि ने कहा कि इस फिल्‍म की सबसे बड़ी विशेषता है कि इसमें सुशासन में बढ़ते बिहार की विहंगम झांकी प्रस्‍तुत की गई है। अतीत से लेकर वर्तमान तक बिहार के गौरव को फिल्‍म के माध्‍यम से निर्माता – अभिनेता व बहुआयामी प्रतिभा के धनी राजन कुमार की परिकल्‍पना प्रदेश वंदन का बेजोड़ उदाहरण पेश करेगा।वहीं मौके पर मौजूद प्रतिष्ठित फिल्‍म समीक्षक, कला संस्‍कृ‍ति एवं युवा विभाग द्वारा प्रकाशित पत्रिका ‘पटना कॉलम’ के संपादक विनोद अनुपम ने कहा कि स्‍वस्‍थ और स्‍वच्‍छ बिहार की छवि को लेकर आज तक जितनी फिल्‍में बनी, उनमें राजन कुमार की फिल्‍म ‘नमस्‍ते बिहार’ एक अभिनव सृजन होने के साथ – साथ दर्शकों को बिहार के गौरव और बिहारी स्‍वाभिमान के प्रति जागरूक करेगा। फिल्‍म में नमस्‍ते बिहार एक अखबार का नाम है, जिसमें तेजतर्रार क्राइम रिपोर्ट रश्मि सिन्‍हा के किरदार में भूमिका कलिता नजर आ रही हैं और डबलू के किरदार में खुद राजन कुमार नजर आ रहे हैं। इसका निर्देशन लक्ष्‍मण एस सिन्‍हा ने किया है। संगीत अमन श्‍लोक, कला निर्देशन गोविंद साहनी, एक्‍शन दामोधर्मा और एडिटिंग नकुल के प्रसाद ने किया है।

वरिष्‍ठ पत्रकार, गायक, गीतकार एवं योग विशेषज्ञ हृदयनारायण झा ने कहा कि वर्तमान बिहार के सभी फिल्‍म स्‍टारों के बीच राजन कुमार सबसे अलग चरित्र के रूप में बिहार को गौरवान्वित कर रहे हैं। इन्‍हें साल 2005 में चार्ली चैपलिन 2 की संज्ञा दी गई और उनका नाम गिनिज बुक ऑफ वर्ल्‍ड दर्ज हुआ। राजन समाज, प्रदेश तथा देश हित में युवा कवि के रूप में बाल कविताओं का संग्रह ‘हंसता बचपन’ और ‘अंकुर’ की रचना कर बिहार को गौरवान्वित किया है। अब उनकी एक और किताब ‘एक कलाकार का देश प्रेम’ आने वाला है, जो गद्य है। उन्‍होंने कहा कि क्‍योंकि ‘नमस्‍ते बिहार’ बिहार की गौरव को उंचा करने वाली फिल्‍म है, इसलिए अगर यह टैक्‍स फ्री हो जाये, तो राज्‍य के दूसरे फिल्‍मकारों को भी प्रोत्‍साहन मिलेगा।

मुंगेर के स्‍वतंत्रता सेनानी परिवार से आने वाले अभिनेता – निर्माता राजन कुमार ने कहा कि क्रांतिकारी स्‍वतंत्रता सेनीनी अयोध्‍या प्रसाद सिंह के पौत्र हाने के कारण राष्‍ट्र व प्रदेश भक्ति का भाव विरासत के रूप में मेरे चरित्र में समाहित है। इसलिए अपने जज्‍बे और जुनून को अपने कर्तव्‍य व कर्म मे समर्पित करता हूं। मेरी फिल्‍म ‘नमस्‍ते बिहार’ की खास बात ये है कि इसमें आधे से अधिक कलाकार व तकनीशियन बिहार के ही हैं और फिल्‍म की शूटिंग भी बिहार (पटना, नालंदा, राजगीर, वैशाली) में ही हुई है। मुझे विश्‍वास है कि फिल्‍म देखने के बाद लोग खुद का बिहारी होने पर गर्व करेंगे। इसमें बिहार की मिट्टी में रची बसी प्रेम और बलिदान की कथा से दर्शक अवगत हो पायेंगे।

गौरतलब है कि फिल्‍म ‘नमस्‍ते बिहार’ के निर्माता – अभिनेता राजन कुमार सिनेमा में अभिनय की ट्रेनिंग किशोर नमित कपूर से ले चुके हैं, जिन्‍होंने ऋतिक रौशन, विवेक ओबराय जैसे कलाकारों को ट्रेन किया। इसके अलावा राजन कुमार को 1998 में एचआरडी मंत्रालय द्वारा प्रसिद्ध लोक नृत्‍य छउ के लिए नेशनल अवार्ड भी मिल चुका है। ये परफॉर्मिंग आर्ट के लिए साल 2015 में पद्मश्री सम्‍मान के लिए नामित हुए थे। रंगमंच विद्या की भी शिक्षा राजन ने राष्‍ट्रीय नाट्य विद्यापीठ नई दिल्‍ली के सहयोग से संचालित हिमाचल सांस्‍कृतिक शोध संस्‍थान मंडी, हिमाचल प्रदेश से ली है। इसके अलावा प्रख्‍यात गुरू पद्मश्री नेपाण महतो, दक्षा सेठ, डेवी शो (अस्‍ट्रेलिया) और डॉ राम जी तिवारी के सानिध्‍य में नृत्‍य, अभिनय, संगीत और लेखन की शिक्षा ले चुके। इनके बारे में सबसे अहम ये है कि राजन पिछली तीन वर्षों से स्‍वतंत्रता दिवस व गणतंत्र दिवस पर आयोजित होने वाले समारोह में लीड आर्टिस्ट का काम कर रहे हैं। पिछली बार बिहार की झांकी में इन्‍होंने युवा गांधी का किरदार निभाया था।