देशभर से आये डॉक्‍टरों ने कैंसर के आधुनिक इलाज पर की चर्चा !

Kunal Kishor
kunal@koshixpress.com
264
????????????????????????????????????

 अधुनिक इलाज पर की चर्चा

पटना :Society of Oncology, Patna द्वारा दो दिवसीय 4th  Annual Conference SOOCON 2018 का शुभारंभ शनिवार को होटल मौर्या में शुरू हो गया, जहां देश भर से आये करीब 25 फैकेल्‍टी ने भाग लिया। उन्‍होंने राज्‍य के 250 से अधिक डॉक्‍टरों, स्‍टूडेंट और ट्रेनी के बीच ब्रेस्‍ट कैंसर, लंग्‍स कैंसर, जी आई ट्यूमर्स, कोलेरैक्‍ट्रॉल कैंसर और हेममेटालॉजिकल मेलिंग्‍स के साथ – साथ अनकोलॉजी के क्षेत्र में डेवलपमेंट पर अपने विचारों को साझा किया। कार्यक्रम का शुभारंभ विधिवत रूप से टाटा मेमोरियल हॉस्‍पीटल के डॉ. राजेंद्र भट्ट, मणिपाल हॉस्‍पीटल से डॉ. सोम शेखर, डॉ राजेंद्र सरकार, डॉ राम, डॉ भार्गव, डॉ सुप्रिया चोपड़ा ने किया।

 

 

वहीं, कार्यक्रम में शि‍रकत कर रहे कोकिलाबेन हॉस्‍पीटल और रिलायंस ग्रुफ के हॉस्‍पीटल के नेशनल हेड डॉ. कौसतुब कुलपात्रा ने बिना सर्जरी रेडिएशन के जरिये कैंसर और लंग्‍स ट्यूमर के इलाज के बारे में विस्‍तार से चर्चा की। उन्‍होंने बताया कि हमारे यहां 20 प्रतिशत ही कैंसर पहले व दूसरे फेज में डिटेक्‍ट हो पाते हैं, जिनका 80 प्रतिशत तक क्‍योर हो जाता है। तीसरे स्‍टेज में 50 प्रतिशत कैंसर डिटेक्‍ट होता है, जिसमें 30 से 35 प्रतिशत तक क्‍योर हो पाता है। मगर वेस्‍टर्न कंट्री में 80 प्रतिशत पहले फेज में ही कैंसर डिटेक्‍ट हो जाता है, जिसे वहां क्‍योर का प्रतिशत भी काफी अधिक है।

डॉ कुलपात्रा ने SOOCON 2018 में कहा कि इस तरह के कांफ्रेंस मेडिकल फर्टेनिटी के लिए काफी फायदेमंद हैं, जहां डॉक्‍टरों को एक दूसरे के अनुभवों और तरीकों से वाकिफ होने का मौका मिलता है। उन्‍होंने कहा कि कैंसर के इलाज के लिए कई तरह की आधुनिक तकनीक मौजूद है, जिससे कैंसर का उपचार आसानी से किया जा सकता है। इसी में से एक है रेडिएशन थेरेपी, जिसके जरिये बिना किसी सर्जरी के भी कैंसर व ट्यूमर का सफलतापूर्वक इलाज किया जाता है। ये तब और भी ज्‍यादा कारगर होता है, जब मरीज किसी भी प्रकार का मेडिकल कंपलसंस होते हैं। यह‍ तरीका आज फाइनेसियली भी सक्षम है। हालांकि पहले इसके लिए भी विदेश जाना पड़ता था।

SOOCON 2018 में सीएमसी वेल्‍लोड़ से आये डॉ. थॉमस राम ने बताया कि कैंसर जैसी बीमारियों से बचने और उपचार के लिए सेल्‍फ एग्‍जामिनेशन व रेगुलर चेक गाइडलांइस को फॉलो करना जरूरी है, ताकि ऐसी बीमारियों का पहले फेज में पता लगाया जा सके। उन्‍होंने कहा कि आज अधुनिक तकनीक से लंग्‍स ट्यूमर का उपचार किया जा सकता है। रेडिएशन तकनीक से ऐसे मामलों में सिटी स्‍कैन से ट्यूमर को ट्रैक कर फोकस्‍ड रेडिएशन के जरिये उपचार किया जाता है, ताकि बॉडी के अन्‍य हिस्‍सों को नुकसान न पहुंचे। उन्‍होंने बताया कि कैंसर दो कारणों से शुरू होते हैं, जिनमें एक खुद ब खुद होता है और दूसरा ट्यूमर की वजह से होत है। इसकी वजह लाइफ स्‍टाइल और खान – पान भी है। उन्‍होंने कहा कि तांबकू लंग्‍स ट्यूमर की प्रमुख वजह है। इससे बचना चाहिए।

कार्यक्रम के बारे मेंSOOCON 2018 ऑर्गनाइजिंग को-चेयरमैन डॉ. वी पी सिंह ने बताया कि Society of Oncology बिहार का लीडिंग अनकोलॉजिकल फोरम हैं, जो इस क्षेत्र में सक्रिय सभी छोटे से बड़े डॉक्‍टरों और प्रोफेशनल्‍स को आईडिया शेयरिंग के लिए एक मंच देता है। इसमें लोग एक दूसरे से इंटरेक्‍ट कर एकेडमिक बातों और उनमें आई डेवलपमेंट को शेयर करते हैं और अपने अनुभवों से अवगत कराते हैं। साथ ही इसमें एक एकेडमिक एक्‍सपोजर मिलता है और एक प्रोटोकॉल सेट करते हैं। यह कांफ्रेंस पहले भी तीन बार सफलतापूर्वक संपन्‍न हो चुका है। यह चौथी बार है, जब हम इसका आयोजन पटना में कर रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि आज मेडिकल क्षेत्र में रोबोटिक सर्जरी का क्रेज है, जिससे नयी पीढ़ी अट्रैक्‍ट होती है। मगर यह अभी पटना में उपलब्‍ध नहीं है, क्‍योंकि ये काफी महंगा है।

श्री सिंह के अनुसार, आज बिहार में सर्वाइकल कैंसर के बाद ब्रेस्‍ट कैंसर तेजी से फैल रहा है। जबकि ब्रेस्‍ट कैंसर आने वाले दिनों सर्वाइकल कैंसर से भी आगे निकल जायेगा।

गौरतलब है कि कार्यक्रम मेंSOOCON 2018 के ऑर्गनाइजिंग चेयरमैन डॉ. सुमंत्रा सिरकर, ऑर्गनाइजिंग को-चेयरमैन डॉ. वी पी सिंह और ऑर्गनाइजिंग सेक्रटरी डॉ. प्रीतांजलि सिंह, ज्‍वाइंट सक्रेटरी डॉ आर के गोस्‍वामी, डॉ दिनेश कुमार सिन्‍हा, रिसेप्‍शन कमेटी के डॉ एस नासिर हुसैन, साइंटिफिक कमेटी की डॉ विनिता त्रिवेदी, डॉ अविनाश कुमार सिंह, डॉ अविनाश पांडेय और डॉ एन पी नारायण भी मौजूद रहे।