व्यंगय : जिंदाबाद व मुर्दाबाद करने से नही चम्मच बन बनिए उम्मीदवार !

579

BNMU में नामांकन खत्म हो चुका है अब छात्र संगठनों द्वारा प्रचार-प्रसार मतदान के लिए जुट गए है। कल और आज हुए नामांकन में ऐसे ऐसे प्रत्याशी भी है जो अपने कॉलेज के शिक्षकों, कर्मचारियों के नाम तक नही जानते और पहचानने की बात तो छोड़ दीजियेगा ।

युवा पत्रकार कुमार आशीष की यह व्यंग्य और छात्र नेता बनने की प्रयोगशाला बता रहे है…
सहरसा : मैं आपको आज अपने आस पास बीएनएमयू में पैदा हो रहे नए छात्र नेताओं की जिन्दगी से अनुभव लेते हुए “कैसे एक छात्र नेता बने?” की विधि बता रहा हूं. .कुल लागत/इन्वेस्टमेंट : 02 से 4 लाख
आवश्यक सामग्री : एक चारपहिया दस-बारह लाख की किराये या दूसरे की चलेगी, सफ़ेद कलफ लगे कुर्ते-पजामे, सफ़ेद लिनेन के शर्ट पेंट, सोने की 2 चेन हो तो बेहतर, सोने की अंगूठी-ब्रेसलेट, 2 आई फोन, ब्रांडेड जूते-सेंडिल, ब्रांडेड कलाई घडी, 1 चश्मा रेबेन कंपनी का, क्लासिक का सिगरेट पैकेट ऑफर करने के लिए, रजनीगंधा का डिब्बा, 4-6 जी हुजूरी करते चेले.. इसके अलावा शहर के बड़े नेताओं के दरबार में चाकरी का अनुभव शामिल है.
.कैसे बनेंगे नेता- अपने गाड़ी के नंबर प्लेट में नंबर की जगह अपनी पार्टी के झंडे का चिन्ह बनवाये और अपने चार-पांच चेलो को अपनी गाड़ी में सदैव बैठा कर रखे. गाड़ी में बैठ के मोबाइल कान में ही लगा के रखे.. भले ही आप काले हो और ये वस्त्र आप पर जमे नहीं पर अपनी देह को सफ़ेद कुर्ते-पजामे और सोने के आभूषण से सुसज्जित करे.. और किसी भी एक बड़े नेता के इर्द गिर्द परिक्रमा प्रारम्भ करे.. अपने नेता को प्रसन्न करने के लिए मंच-माइक-माला की यथासंभव ज्यादा से ज्यादा व्यवस्था करे.. नेता जी के आगे पीछे घूमते हुए उनकी सेवा-पूजा करते रहे, अपने नेता जी के साथ और उनके भी नेता जी के साथ फोटो खिंचवा कर घर एवं अपने व्यापारिक प्रतिष्ठान में लगावे..हर छोटे बड़े कार्यक्रम, त्यौहार, जन्मदिन पर पूरे शहर में फ्लेक्स लगवाये..
जरुरी अर्हता :
मीडिया के लोगो से सेटिंग कर अपनी फ़ोटो अखबारो में छपाते रहे..समय समय पर अपने क्षेत्र में चतुर्थ श्रेणी के सरकारी अधिकारियों पर रौब झाड़ते रहे..
* भले ही घर का आटा भी पिसवाने नहीं गए हो पर लोगो से मिलकर उनके काम करे
* भले माता पिता की रत्ती भर सेवा और प्यार से बात न की हो पर लोगो से हमेशा हाथ जोड़कर और कोमलता से ही बात करे
* अपने छर्रे तमंचो के छोटे फ़ोटो भी साथ में फ्लेक्स पर लगवाते रहे और नास्ता पानी की व्यवस्था कराते
रहे तभी वो आपके आसपास मंडराएंगे.
* भले ही कितने पापी हो और बचपन से मंदिर नहीं गए हो पर समय समय पर धार्मिक अनुष्ठान, यज्ञ और भंडारों में अपनी उपस्थिति और भजन का आयोजन कराते रहे. ध्यान रखे इसमें भी होर्डिंग बाजी जरुरी है.
* भजन आयोजन में भले ही आवाज फटे बांस जेसी हो पर कभी कभी भजन भी गायें.
* मोबाइल के साथ, कभी दाढ़ी में, काले चश्मे में, तिलक लगाकर हाथ जोड़े हुए फ़ोटो फ्लेक्स पर लगाते रहे ताकि जनता हर रूप में पहचानने लगे.
*प्रदर्शन में बढ़ चढ़कर हिस्सा ले और ध्यान रखे की पेपर की फोटो और टीवी न्यूज़ में आप ज्यादा दिखे…. इसके लिए थोडा ख़र्च भी करें ..ताकि आप मीडिया में दिखते रहें.
*रैली में लोगो की गाडी में 100 रुपये का पेट्रोल भरा कर नाश्ता पानी करा के रैली में ज्यादा से ज्यादा लोगो को इक्ठ्ठा करने की जुगाड़ करे.
* वादे ,झूट और आश्वासन देंना सीखे.
लो जी अब तैयार हैं शहर का एक और छात्र नेता.

ये 2 से 4 लाख लागत नहीं इन्वेस्टमेंट है कोई पद मिलने पर इसका 1000 गुना रिटर्न पक्का है… एक बार सफलता मिलने पर नेतागिरी आपकी खानदानी जायदाद बन जाएगी ..
(एडवाइजर प्रशांत किशोर का मौसेरा भाई द्वारा जनहित में जारी)

नोट : यह सिर्फ हास्य व्यंग्य मात्र है,इसे कोई अन्यथा ना ले ।