PUSU के अध्यक्ष के अवैध नामांकन मामले में JACP पहुंचा हाई कोर्ट !

251

नवनिर्वाचित PUSU के अध्यक्ष के अवैध नामांकन मामले में जन अधिकार छात्र परिषद पहुंचा हाई कोर्ट

पटना: जन अधिकार छात्र परिषद ने पटना यूनिवर्सिटी छात्र संघ के अध्यक्ष बने दिव्यांशु भारद्वाज के पटना यूनिवर्सिटी में नामांकन को अवैध बताया है और नामांकन की जांच की मांग का ज्ञापन कुलपति को सौंपा। कुलपति को जांच  के लिए ज्ञापन सौंपने के बाद आज सारे दस्तावेज को लेकर जन अधिकार छात्र परिषद पटना हाई कोर्ट गए। इस दौरान जन अधिकार छात्र परिषद के पटना यूनिवर्सिटी के प्रभारी अवधेश लालु ने कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन की लापरवाही के कारण दिव्यांशु भारद्वाज फर्जी नामांकन करने में सफल रहे। अब विश्वविद्यालय प्रशासन को चाहिए कि उसकी जांच कर नामंकन रद्द कर,कानूनी कार्रवाई करे। इस दौरान जाप के राष्ट्रीय महासचिव राजेश पप्पु,सूर्यकांत कुमार,आलोक आनंद,नीरज यादव आदि उपस्थित रहे।उधर, जन अधिकार छात्र परिषद के प्रदेश अध्यक्ष गौतम आंनद ने कहा कि श्री भारद्वाज ने बीएन कॉलेज में राजनीतिक शास्त्र के प्रतिष्ठा की परीक्षा में असफल होने पर उसी सत्र में बिना माइग्रेशन सर्टिफिकेट लिए किसी अन्य विश्विद्यालय से बीए प्रतिष्ठा की डिग्री लेकर विभाग को झांसा में रखकर स्नातकोत्तर विभाग में नामांकन करा लिए हैं। एक ही विश्विद्यालय में दो-दो बार  रजिस्ट्रेशन कैसे संभव हो गया। यही आधार नामांकन रद्द करने का पर्याप्त कारण है और जब एक नामांकन की अवैध है, तो ये किस हैसियत से छात्र संघ चुनाव प्रत्याशी बने।

छात्र परिषद के प्रधान महासचिव और PUSU के ज्‍वाईंट सेक्रेटरी मो असजद ने कहा कि जो छात्र जन अधिकार छात्र परिषद को वोट किये हैं, उन सभी छात्रों को धन्यवाद। छात्र परिषद के जीते हुए प्रत्याशी कॉलेज कैम्पस में बेहतर माहौल बनाने और छात्र हितों के लिए संकल्पित होकर काम करेंगे। ज्ञापन सौंपने के दौरान जन अधिकार छात्र परिषद के विश्वविधालय अध्यक्ष नीरज यादव, मनीष यादव, कर्मवीर कुमार, हर्ष रंजन, विवेक, मयंक आदि उपस्थित रहे।