सदभावना क्रिकेट कप 2017 का हुआ सफल आयोजन !

0
113

मधेपुरा : सदभावना क्रिकेट कप 2017 का फाइनल मुकाबला मधेपुरा बनाम पस्तपार के बीच खेला गया। आज के फाइनल मुकाबले में मुख्य अतिथि छातापुर विधायक नीरज कुमार सिंह बबलू, पूर्व विधायक सोनवर्षा किशोर कुमार मुन्ना एवं विशिष्ठ अतिथि पूर्व मुख्य पार्षद नगर परिषद् मधेपुरा डॉ विजय कुमार बिमल, डॉ जवाहर पासवान सिंडिकेट सदसय, जिला भाजपा अध्यक्ष सह मुखिया संघ अध्यक्ष स्वदेश कुमार, भाजपा नेता आभाष झा, जाप महिला अध्यक्ष नूतन सिंह,युवा नेता  प्रिन्स गौतम, ध्यानी यादव आदि उपस्थित थे।

निर्णायक सत्यप्रकाश एवं वसीम ने दोनों टीमों को टॉस के लिए आमंत्रित किया। पस्तपार के कप्तान इश्तेखार ने टॉस जीत कर बल्लेबाजी करने का निर्णय लिया। पस्तपार की सुरुवाती बल्लेबाजी निराशाजनक रही लेकिन राजेश सिंह 76 रन और इस्तियाक 65 रन की सधी हुई बल्लेबाजी की बदौलत पस्तपार ने 6 विकेट के नुकसान पर 178 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया। इन दोनों ने अपनी टीम के लिए रिकॉर्ड 62 गेंद में 125 रन की साझेदारी निभाई।

मैन ऑफ़ द मैच राजेश सिंह को पूर्व विधायक किशोर कुमार मुन्ना ने सम्मानित किया और युवा नेता भानुप्रताप ने चाँदी का सिक्का देकर सम्मानित किया। मैन ऑफ़ द सीरीज मुकेश भारती को गोपी कृष्ण  ने सम्मानित किया और अफज़ल ने मोबाइल देकर सम्मानित किया। उपविजेता मधेपुरा के कप्तान अमित आनंद को डॉ बिमल ने कप देकर सम्मानित किया एवं नूतन सिंह ने उपहार देकर सम्मानित किया और विजेता टीम के कप्तान इश्तेखार को दोनों मुख्य अतिथि नीरज सिंह बबलू और किशोर कुमार मुन्ना ने विजेता कप देकर सम्मानित किया।

बेस्ट कमेंट्रेटर ओमप्रकाश और अभिनव को भाजपा नेता आभाष झा और बेस्ट स्कोरर कर्तव्य जॉन गुप्ता और प्रशांत शर्मा को धयानी यादव ने उपहार देकर सम्मानित किया ।वही बेस्ट अंपायर हर्षप्रकाश और वसीम को प्रिंस गौतम ने सम्मानित किया। वही आयोजन समिति अध्यक्ष रोहित सिन्हा ने आये हुए सभी अतिथि को धन्यवाद् ज्ञापित किया।

इस अवसर पर बिहार अंडर 16 में चयनित मधेपुरा के 11 वर्ष के खिलाड़ी अंकित के परिवार को भानुप्रताप और वसीम ने ट्रैकसुट और स्पोर्ट्स शूज देकर सम्मानित किया।

इस अवसर पर आयोजन समिति के सदश्य पिंटू, बिट्टू यादव, नीरज,ओपी, जिसु, बंटी, चन्दन स्टार, प्रशांत , फुदो,अमरदीप,रजनीश आदि ने इस आयोजन को सफल बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। मंच संचालन का कार्य गणेश शंकर विद्यार्थी और समापन धन्यवाद् समीक्षा यदुवंशी ने दिया।