Ration Card में पुत्री और एसडीओ के Recovery आदेश में बना दिया पत्नी !

2716
लाल राशन कार्ड, जिस पर बच्ची का फोटो,नाम

जारी किए गए आदेश में राशनकार्डधारी से खाद्यान्न की राशि वसूलने व राशनकार्ड बीडीओ को देना है |

कैमूर@बंटी जायसवाल :रामपुर प्रखंड के बेलांव पंचायत के अकोढ़ी गांव के अशोक प्रसाद का राशनकार्ड में उनकी पुत्री का नाम अंजली कुमारी 3 वर्ष अविवाहिता बताया गया है. लेकिन भभुआ एसडीओ के राशनकार्ड धारी से राशन का रिकवरी करने के लिए दिये 13 जुलाई को जारी किए आदेश में अशोक प्रसाद के 3 वर्षीय पुत्री अंजली कुमारी को श्रीमति अंजली देवी और पति का नाम अशोक बिंद, ग्राम अकोढ़ी, ग्राम पंचायत बेलांव, थाना बेलांव लिख कर रामपुर प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी के पास सत्यापन के लिए भेज दिया गया और उसका प्रतिलिपि राशनकार्ड धारी अशोक प्रसाद को भेजा गया. इसके साथ ही सम्बंधित डीलर, प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी, सहायक जिला आपूर्ति पदाधिकारी भभुआ, बीडीओ रामपुर, जिला आपूर्ति पदाधिकारी, डीडीसी भभुआ के पास, यही नहीं जिलाधिकारी के पास भी सूचनार्थ व कार्रवाई के लिए आदेश पत्र भेज दिया गया.

अनुमंडल कार्यालय द्वारा राशन रिकवरी जारी आदेश पत्र

मामला कैमूर जिले के रामपुर प्रखंड के बेलाव पंचायत के अकोढ़ी गांव का 

एसडीओ कार्यालय से जारी किए गए आदेश पत्र में राशनकार्डधारी अंजली देवी, पति अशोक बिंद द्वारा दाखिल कारण पृच्छा में अंकित तथ्यों के सम्बन्ध में कार्यालय द्वारा पत्रांक 321, दिनांक 13 अप्रैल को रामपुर प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी से सत्यापन प्रतिवेदन का मांग किया गया. सत्यापन प्रतिवेदन में अंकित किया गया कि कार्डधारी जिस मकान में रहती है उस मकान में सभी कमरों में पक्की दीवारों व छत के साथ 3 कमरे है. यह भी लिखा है कि उक्त सत्यापन प्रतिवेदन से स्पष्ट होता है कि राशन कार्ड धारी श्रीमती अंजली देवी बिहार सरकार खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग की अधिसूचना 8815 दिनांक 19 नवंबर 2015 द्वारा निर्धारित राज्य के ग्रामीण क्षेत्र के लिए निर्धारित मापदंड एवं राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 की कंडिका 8 के आलोक में पात्र परिवारों की श्रेणी में नहीं आती है.अतएव  इसलिए पूर्वीकता प्राप्त गृहस्थी राशन कार्ड संख्या 103100900 41014500101 को रद्द किया जाता है तथा पूर्व में उठाए गए खाद्यान्न की राशि भी इनसे वसूल करने का आदेश दिया जाता है. श्रीमती अंजली देवी को आदेश दिया जाता है कि राशन कार्ड प्रखंड विकास पदाधिकारी रामपुर को प्रत्यार्पण करें. तथा इनका नाम एसईसीसी डाटा के पात्र परिवार की श्रेणी से हटा दिया जाए.

इस आशय की सूचना सभी संबंधित अधिकारियों को दिया जा रहा है. जब अधिकारियों द्वारा इस तरह की गलती करते हुए आदेश को सही तरीके नहीं पढ़ कर किसी राशनकार्डधारी के 3 वर्षीय पुत्री को उसकी पत्नी बना दिया जाए. इसे क्या कह सकते है लापरवाही या मजाक. यही नहीं इस आदेश का प्रतिलिपि सभी अधिकारी के साथ डीएम के पास भेज दिया गया. लेकिन किसी भी अधिकारी ने इस मामले को ध्यान नहीं दिया.

क्या कहते है राशनकार्डधारी 

राशनकार्डधारी अशोक प्रसाद का कहना है कि डीलर शिवमूरत सिंह द्वारा 85 क्विंटल 21 किग्रा राशन अधिकारियों के मिलीभगत से एक माह का गायब कर दिया गया. जब ग्रामीणों द्वारा इसका शिकायत एमओ व एसडीओ के पास किया गया तो उस डीलर को हटा दिया गया. मेरा नाम राशनकार्ड में रहने के बाद भी ढाई साल से राशन डीलर द्वारा नहीं दिया गया. मेरा राशनकार्ड ही गायब कर दिया गया था. इसका कई बार एसडीओ व एमओ के पास शिकायत करने के बाद किसी तरह राशन कार्ड सितंबर 2016 में मिला और राशन मिलना चालू. लेकिन मेरा ढाई वर्ष राशन का रिकवरी कौन देगा. मेेरे जैसे गांव में दर्जनों लोगों है जो राशनकार्डधारी के पात्रता नहीं रखते है फिर भी वह प्रतिमाह राशन का लाभ ले रहे है. हमारे जैसे राशन का लाभ लेने वाले सभी लोगों का जांच करते हुए राशनकार्ड को रद्द करते हुए रिकवरी राशि वसूला जाना चाहिए. ढाई वर्ष राशन नहीं मिलने के बाद सितंबर 2016 से जुलाई 2017 तक राशन का एसडीओ भभुआ द्वारा रिकवरी का मांग किया रहा है. वह भी मेरे नाम आदेश जारी नहीं करते हुए मेरी पुत्री अंजली कुमारी को अंजली देवी पति अशोक बिंद करके एसडीओ द्वारा आदेश जारी कर दिया गया. यह अधिकारियों द्वारा मेरे साथ मजाक बनाया गया है. तीन दिन पहले ही एसडीओ के रिकवरी आदेश का कॉपी मिला है.

इस मामले में मैं डीएम साहब को आवेदन देकर जांच कराने का मांग करूँगा. इसके साथ ही पटना जाकर खाद्य आपूर्ति मंत्री व अधिकारियों से भेंट कर राशन किराशन में हो घोर धांधली का जांच कराते हुए दोषी पर कार्रवाई का मांग किया जायेगा. इस मामले में मैं भभुआ एसडीओ ललन प्रसाद पर मानहानि का केस भी दर्ज कर सकता हूँ.

बोले प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी

इस संबंध में प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी एजाज अहमद से पूछे जाने पर बताया कि गलती से आदेश जारी कर दिया गया होगा. राशनकार्ड का संख्या तो ठीक है न. उक्त राशनकार्डधारी को रिकवरी करना होगा.

बात नहीं हो पायी

इस संबंध में एसडीओ ललन प्रसाद से कई बार फोन से बात कर जानकारी लेने की कोशिश किया गया लेकिन उन्होंने रिंग होने के बाद भी फोन नहीं उठाया.