एक दिवसीय रबी फसल सह प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित !

999

सहरसा (राजीव झा) : जिले के कला भवन सभागार में सोमबार को जिला स्तरीय रबी फसल कार्यक्रम सह प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्धघाटन उप विकास आयुक्त दारोगा प्रसाद यादव ने किया ।

जिले के कृषि पदाधिकारी नबीन कुमार ने बैठक में बताया कि रबी फसल के तहत मिलने वाली योजना के बारे में किसान को पूरी जानकारी होना चाहिये। जीरो टिलेज से खेती,2272 एकड़ में, स्वी विधि से गेहूं की खेती 435 एकड़ में, मसूर प्रत्यक्षण 289,मटर 125 एकड़ में, मुंग 58 एकड़ में, उरद 58 एकड़ में, अंतरवर्ती दलहन प्रत्यक्षण,संकर मक्का के साथ मुंग की खेती 695 एकड़ में एवं अनुदानित दाम पर 50 रुपये किलोग्राम अरहर,मसूर,चना,मुंग,उरद,का कुल लक्ष्य 166 क्विंटल है। वहीं 10 रूपया किलो अनुदान पर जिला का लक्ष्य 6122  क्विंटल है। कृषि विभाग के द्वारा सोडबिन अनुदानित दर पर सामान्य जाति में 40 प्रतिशत अधिकतम 812 रुपए एवं अनुसूचित जाति एवं जन जाति के लिये 56 प्रतिशत अधिकतम 1136 ,यांत्रिकरण योजना है। इसी तरह जैविक खेती के लिए किसान को 2053 यूनिट का लक्ष्य 3000 हजार रूपया प्रति यूनिट का लक्ष्य है। इसका लाभ लेने के लिये किसान अधिकतम पांच यूनिट की खेती करके पंद्रह हजार रूपया प्राप्त कर सकते है। वायोगेस  की योजना में 02 घन मीटर के कार्य करने पर 19000 हजार रूपया किसान को मिलेगा।रबी फसल के किट नासक आदि पर 40 लाख का लक्ष्य है जो किसान को उपलब्ध कराया जायेगा। सहकारिता विभाग के अधिकारी अरविन्द कुमार पासवान ने बताया कि प्रधानमंत्री कृषि योजना का लाभ किसान को प्रदान किया जायेगा।koshixpress

कृषि विभाग के उप निदेशक ब्रजेश कुमार मिश्रा ने अपने बातें रखते हुए कहा कि कृषि सलाहकार,कृषि समन्यक ईमानदारी पुर्बक काम करें। वहीं वैज्ञानिक तरीके से खेती के बारे में बिनोद कुमार ने बताया कि अगर किसान खेती तकनिकी से करे तो समय और लागत से राहत मिलेगी।

मंडन भारती कृषि महाविद्यालय के प्राचार्य उमेश सिंह ने कहा कि अब लोगो को तकनिकी के आधार पे खेती करनी चाहिये। डॉ प्रेम चंद्र ने बताया कि मिट्टी जाँच कर खेती करने से किसान को बहुत खेती में लाभ मिलता है।

आत्मा के राजेश कुमार सिन्हा कहा कि किसान और जवान देश की शान है किसान को सब लाभ मिलता है और मिलेगा,आत्मा के द्वारा किसान को दूसरे राज्य भी प्रशिक्षण प्राप्त करवाने का प्रोग्राम होता है और आगे होगा जिसमें किसान को जम के भागीदारी लेनी चाहिये |कृषि विभाग के परामर्शी मनोज कुमार ने कहा कि किसान को जब भी कोई दिक्कत हो तुरंत संपर्क करने पर उनका समाधान होगा और विभाग से लाभ मिलेगा।

इस बैठक में उप कृषि निदेशक ब्रजेश कुमार मिश्रा,कृषि कॉलेज के प्रचार्य उमेश सिंह,सहायक  निदेशक उद्यान अधिकारी संतोष कुमार सुमन,जिला सहकारिता पदाधिकारी अरविन्द कुमार पासवान,के0भी0 के0 विमलेश पाण्डे, जिला प्रबंधक  जीविका निखिल कुमार,जिला परामर्शी मनोज कुमार सिंह,उप परियोजना निदेशक आत्मा के राजेश कुमार सिन्हा,लेखापाल पंकज कुमार,सहायक तकनिकी प्रबंधक आदि लोग मौजूद थे।