नम आंखों के हुई माँ दुर्गा की विदाई,दर्शन को उमड़ी भीड़ !

3426
खगडिया (मुकेश कुमार मिश्र ) : विजयादशमी के दिन माँ का अंतिम दर्शन करने के लिये विभिन्न दुर्गा मन्दिरों में श्रद्धालुओं की अपार भीड़ उमड पड़ी। विजयादशमी के दिन चतुर्भुजी माँ दुर्गा ने अपने हाथों से पुष्प दिया। जिसे आमतौर पर फूलाईस कहा जाता हैं । माँ विजयादशमी के दिन अपने भक्तों को आशीर्वाद के रूप में पुष्प देती हैं। उस आशीर्वादी पुष्प को पाने के लिए भक्तगण झोली फैलाये रहते हैं। वहीं  संध्या में नम आंखों से माँ दुर्गा की विदाई हुई।चर्चित अति प्राचीन सिद्धि पीठ दुर्गा मंदिर बिशौनी में संध्या के समय माँ का प्रतिमा को मंदिर से ज्यों ही विसर्जन के लिए निकाला गया। उपस्थित श्रद्धालुओं की आंखें नम हो गई। माँ की जयकार से वातावरण गुंजायमान हो उठा। ” प्रेम से बोलो जय माता दी”  एवं शंख घंटे की गुंज  घंटों तक चलता रहा। महिलाओं ने  विदाई गीत गाईं। चतुर्भुजी माँ दुर्गा की प्रतिमा को श्रद्धालुओं ने मंदिर से सटे पोखर में विसर्जित किया।koshixpresskoshixpress
गले मिलकर किया प्रेम का इजहार
प्रतिमा विसर्जन के बाद  मंदिर प्रागंण में उपस्थित सभी ग्रामीण एक दूसरे से गले मिलकर प्रेम का इजहार किया। ओर सभी लोग एक दूसरे के यहां जाकर बड़े से आशीर्वाद लिया ओर छोटे को शुभ प्यार का आशीर्वाद दिया। विजयादशमी के दिन एक दूसरे से गले मिलने  की परंपरा सदियों पुरानी है। ग्रामीण बताते  हैं कि लगातार दस दिनों तक श्रद्धा एवं भक्ति के साथ धूम धाम से माँ दुर्गा की पूजा अर्चना किया गया। ग्रामीण एवं इलाके के लोगों ने चतुर्भुजी माँ दुर्गा से आराधना किया कि इलाके में सुख, शांति एवं समृद्धि बने रहें। इस शारदीय नवरात्रा में जिले के सभी इलाके से श्रद्धालु माँ का दर्शन करने हेतु पहुँचे थे।
नयागांव एवं  डुमरिया बुजुर्ग
नयागांव सतखुट्टी में विसर्जन के समय श्रद्धालुओं की अपार भीड़  उमड पड़ी। सिद्धि पीठ ( स्वर्ण दुर्गा )  माँ दुर्गा की अंतिम दर्शन हेतु भक्तजनों की अपार भीड़ देखने को मिला। माँ दुर्गा की प्रतिमा को गंगा में विसर्जित किया गया। वहीं सियातदपुर  अगुवानी पंचायत के डुमरिया बुजुर्ग में कलश विसर्जन में भी भक्तजनों का सैलाब उमड़ पड़ी। यहाँ एक साथ  दर्जनों  की संख्या में कलश  विसर्जन किया जाता हैं। कलश विसर्जन की  भव्य अनूठी परंपरा देखने को मिलती हैं। जो सदियों से चली आ रही हैं। कलश विसर्जन यात्रा में हजारों की संख्या में श्रद्धालु भाग लिए।