संसार के सुख दुःख से बचने का उपाय है ईश्वर भजन : स्वामी शम्भू चेतन देव जी महाराज !

1351

सहरसा : शहर के गाँधी पथ स्थित सतसंग मंदिर में हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी नवरात्रि के पावन अवसर पर सात दिनों का ध्यान साधना शिविर का आयोजन किया गया है । इस ध्यान साधना शिविर में आयोजित सतसंग में हरिद्वार से आऐ महर्षि मेँहीँ परमहंस जी महाराज के शिष्य स्वामी शम्भू चेतन देव जी महाराज ने उपस्थित श्रोताओं से कहा कि संसार का सुख तबतक है,जब तक मृत्यु नहीं हुई है ।संसार में सुख दुख लगा रहता है ।जैसे -जैसे सुख होता है,वैसे – वैसे दुख भी होता है ।संसार में सभी लोग सुख चाहते हैं लेकिन कोई दुख नहीं चाहता है,अगर आप संसारिक सुख – दुख से बचना चाहते हैं तो ईश्वर का भजन करे ।उन्होंने कहा कि शरीर और संसार से छुट जाये तभी मुक्ति मिलता है,इस मुक्ति को पाने के लिए अन्तः साधना करना होगा ।koshixpress

सात दिवसीय ध्यान साधना शिविर अंतिम पड़ाव पर 

इस ध्यान साधना शिविर में स्वामी किशोरानंद जी महाराज ने कहा कि जीवात्मा,शरीर और संसार में बन्दी हो गया है उसका इससे छूट जाना उसकी मुक्ति है ।इस बन्दीगृह में पडे रहने में स्वतंत्रता नहीं है ।स्वतंत्रता नहीं रहने से कष्ट होता है ।शरीर और इन्द्रियों के घेरे में रहने से चेतन आत्मा विषयों की ओर रहती है ।विषयों में रहने से चंचलता रहती है और तृष्णा बढ जाती है ।स्वामी महेशानंद बाबा ने कहा सदगुरू वह है , जो ज्ञान देते हैं परमेश्वर की भजन करने की प्रेरणा देते हैं ।उन्होंने कहा गुरु के बताए तरीके से जो चलता है उसका कल्याण होता है ।इस ध्यान साधना शिविर 8 अक्टूबर तक चलेगा ।