24 वर्षो बाद भी फुलौत ओपी को अपना भवन नही,सामुदायिक भवन में चल रहा कार्य !

1251
राजस्व कचहरी में चल रहा फुलौत ओपी

संजय कुमार सुमन : बढ़ते अपराध को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने मधेपुरा जिले के चौसा प्रखंड अन्तर्गत फुलौत बाजार में स्थापित फुलौत ओपी की समस्याओं की फेहरिस्त काफी लंबी है। 24 वर्षो बाद भी फुलौत ओपी को अपना भवन नहीं मिल पाया है। प्रशासनिक उपेक्षा के कारण बुनियादी सुविधाओं से भी महरूम है। थाने में तैनात पुलिसकर्मी संसाधनों के अभाव में अपने को असमंजस की स्थिति में पा रहे हैं।

स्थापना काल से उद्धारक को खोज रहा 

मालूम हो कि अपराध नियंत्रण के लिए 1992 में स्थापित फुलौत ओपी तत्कालीन जिला पदाधिकारी केपी रमैया,पुलिस अधीक्षक मनमोहन सिंह एवं उदाकिशुनगंज पुलिस उपाधीक्षक बरूण कुमार सिंहा के संयुक्त हस्ताक्षर से हुई थी। आनन फानन में उस वक्त राजस्व कचहरी के एक छोटे से भवन में फुलौत ओपी का कार्य प्रारंभ किया गया। जो आज भी उसी भवन में चल रही है। 24 वर्षो बाद भी फुलौत ओपी को आज तक अपना भवन नसीब नहीं हो पाया है,जो प्रशासनिक उदासीनता को दर्शाता हैं। ईंट खपरैल के बने जिस भवन में फुलौत ओपी चल रहा है,वर्तमान में उसकी स्थिति अत्यंत ही दयनीय है। बरसात के मौसम में आसमान से सीधे पानी कमरे में आ पहुंचता है। जिस कारण पुलिस बल के रहने एवं आवश्यक कार्यो की पूर्ति करने में काफी कइिनाइयों का सामना करना पड़ता है। पुलिस कर्मी अपने पैसे से प्लास्टिक देकर अपने कार्य को अंजाम देते हैं। ओपी के अंदर ना तो पुलिसबल के रहने की सुविधा है और ना ही यहां पदस्थापित पुलिस अधिकारियों को ही पूर्ण रूपेण आवास की व्यवस्था है। लोगों को सुरक्षित रखने वाला पुलिस कर्मी आज खुद अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। फुलौत ओपी में हाजत नहीं रहने के कारण अपराधियों को भगवान भरोसे रखा जाता है या फिर भाग्य भरोसे। हाल के वर्षो में एक सामुदायिक भवन का निर्माण कराया गया है जिसमें ओपीध्यक्ष का कार्यालय एवं सरकारी कागजात सुरक्षित रखें गये हैं।

राजस्व कचहरी में चल रहा फुलौत ओपी
राजस्व कचहरी में चल रहा फुलौत ओपी

बताया जाता है कि फुलौत चौक  पर एनएच 106 के बगल में वर्ष 1998 में फुलौत ओपी भवन का निर्माण कार्य प्रारंभ किया गया था। भवन का निर्माण कार्य कुर्सी तक पूरा किया ही गया था कि एनएच विभाग द्वारा यह कह कर रोक लगा दिया गया कि भवन का निर्माण कार्य एनएच की जमीन में की जा रही है। रोक लगते ही तब से आज तक भवन का निर्माण कार्य बंद है।

स्थानीय ग्रामीण रामदेव मेहता,अंजू कुमारी,युवा समाजसेवी अखिलेश कुमार यादव,श्यामदेव पासवान,भाजपा नेता शिवेन्द्र प्रसाद मोदी,कांग्रेस नेता ओमप्रकाश शर्मा,जिला परिषद अनिकेत कुमार मेहता,मुखिया पंकज मेहता आदि ने पुलिस अधीक्षक से फुलौत पुलिस भवन निर्माण कराये जाने की मांग की है।

बहरहाल जो भी हो,फुलौत ओपी की समस्याओं एवं साधन विहीनता के कारण पुलिस कर्मियों की तत्परता,कार्यकुशलता एवं अपराध नियंत्रण के प्रति उनकी कर्तव्यनिष्ठा एवं चाहत के बावजूद संदेह के घेरे में फंस गयी है।