जलजमाव से अनुमंडल क्षेत्र में लोगों का जीवन अस्त व्यस्त,सड़क जाम !

927

सहरसा : विगत कुछ दिनो से लगातार हो रही बारिश के कारण सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल क्षेत्र में लोगों का जीवन अस्त व्यस्त हो गया है जिसकी वजह से सैकड़ों घरों में बारिश का पानी प्रवेश कर गया है वही खेतो में लगी धान का फसल डुब गया है ।

जलजमाव से आक्रोशित लोगों ने बलवाहाट-बरियाही सड़क को घंटों किया जाम

गुरूवार को सिमरी बख्तियारपुर बरियाही एनएच 107 के तेघरा के समीप आक्रोशित ग्रामीणों ने सड़क को जाम कर दिया। खुजरी पंचायत के दर्जनों टोला में पानी घर घर में प्रवेश कर दिया है। खजुर पंचायत के अलावा मोहनपुर पंचायत के विकास गांव बाढ़ के पानी से प्रभावित हो गया है ।तेघरा के पास सड़क जाम की सूचना पर अंचलाधिकारी धर्मेंद्र पंडित बलबा ओपी प्रभारी सुमन कुमार स्थल पर पहुंच आक्रोशित लोगों को समझाया जाए बाबू से बात किया ग्रामीणों का कहना है कि तेघरा गांव नीचे एरिया में पड़ता है। मछुआरे के द्वारा बलवाहाट के समीप एवं सरोजा के समीप मछली मारने के लिए पानी के बहाव को रोक देता है। लगातार वर्षा का पानी हो रहा है जिन कारन धान की फसल तो डूबी रही है कई घरों में पानी प्रवेश कर गया है। गंभीर समस्या को देख श्री पंडित एवं बलवा ओपी प्रभारी सुमन कुमार ने तेघरा के ग्रामीणों से जाम तोड़ने की अपील की एवं तुरंत ही रोके गए पानी को खुलवाने के बात कहा। उसी समय सीओ एवं ओपी प्रभारी ने सरोजा पुल के पास पहुच मछुआरे के द्वारा रोके गए पानी को खुलवाया। वही सीओ ने मछुआरे को सख्त निर्देश दिया की अगर दुवारा पानी को रोका गया तो करवाई होगी।

गत वर्ष भी इस समस्या को लेकर आक्रोशित हूये थे ग्रामीण

सीओ ने लिया जायजा – किसानो के द्वारा फसल डूबने एवं कई घरों में पानी घुसने की शिकायत कई बार अनुमंडल एवं अंचल प्रशासन से किया गया था। इसी वावत गुरुवार को सीओ धर्मेंद्र पंडित ने खजुरी ,मोहनपुर ,मोहम्मदपुर ,सकरा पहाड़पुर ,सहित कई पंचायतों के फसल क्षति का जायजा लिया प्रखंड कृषि पदाधिकारी को तत्काल फसल क्षति का आकलन करने का निर्देश दिया। मोहम्मदपुर के पंचायत के मुखिया रमेश यादव ने बताया कि उनके पंचायत के लगभग सभी फसले पानी में डूब गई है एवं सेकड़ो घरों में बाढ़ एवं बरसात का पानी प्रवेश कर दिया।

दिया जाँच का आदेश– किसानों द्वारा लगातार फसल के डूब जाने की शिकायत अंचलाधिकारी से द्वारा किया गया था। इस बाबत अंचलाधिकारी कृषि विभाग से फसल क्षति की आकलन की जानकारी मांगी है वही राजस्य कर्मचारियों से सभी जांच रिपोर्ट माग है।