मानवता हुआ है शर्मशार : घंटो पोस्टमार्टम के इंतजार में पड़ी रही लाश !

1160

शादाब आलम : बिहार के कटिहार में मानवता हुआ है शर्मशार उस वक़्त हुआ जब 14 दिन पहले गंगा में आई बाढ़ के बाद कुर्सेला थानाक्षेत्र के बालुटोला का रहने वाला युवक सिंटू साह नाव से उतरने के क्रम में गंगा नदी में डूब गया था |जिसका शव परिजनों ने 14 दिनों बाद खोज निकाला,स्थानीय थाना के द्वारा 25 सितंबर को पोस्टमार्टम के लिए शव को कटिहार सदर अस्पताल भेजा लेकिन अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही की वजह से 24 घंटा बीत जाने के बाद भी शव का पोस्टमार्टम नही किया गया और अंत में पोस्टमार्टम के लिए भागलपुर भेजा गया |अस्पताल प्रबंधन की मानवता तो देखिये शव को ले जाने के लिए इन गरीब को शव वाहन भी उपलब्ध नही कराया गया,हद तो तब हो गई जब इन गरीब परिजनों को पोस्टमार्टम के लिए खुद से प्लास्टिक के बारे में बंधे शव को हाथों से टांग कर ले जाना पड़ा |

जैसे ही मीडिया द्वारा अस्पताल के सिविल सर्जन श्याम चन्द्र झा को पूछा कि आखिर 24 घंटा शव को क्यों रखा गया तो उनका जबाब था समझने-बुझने में समय लगता है… फिर शव को ले जाने के लिए शववाहन क्यों नही मुहैया किया गया तो जबाब था कि मुझे नही मालुम यानी गोल मटोल जबाब… है न मानवता को शर्मसार करने वाली बात.. हालंकि लाकि बाद में खुद को अस्पताल प्रबंधन फंसता देख रास्ते में शव को रोक कर उसे एम्बुलेंस मुहैया करने में जुट गई थी |