जबरन मंदिर हटाये जाने को लेकर उग्र ग्रामीणों ने सड़क जाम कर किया प्रर्दशन !

1178

बिहार के सहरसा जिले में मंदिर हटाये जाने को लेकर ग्रामीणों ने घंटो सड़क जाम कर विरोध किया | सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल क्षेत्र के बनमा-ईटहरी प्रखंड के परसबन्नी मोड़ के समीप निमार्णधीन महावीर मंदिर को अंचलाधिकारी के द्वारा जबरन हटाये जाने के विरोध में मंगलवार ग्रामीणों ने सुबह 9 बजे से पीडब्लूडी सड़क को जाम कर उग्र प्रर्दशन कर अंचलाधिकारी रंधीर प्रसाद का पुतला दहन किया।koshixpresswhatsapp-image-2016-09-14-at-6-42-26-pm

अंचलाधिकारी के द्वारा जबरन मंदिर हटाये जाने को लेकर उग्र ग्रामीणों ने सड़क जाम कर किया प्रर्दशन

प्रर्दशन कर रहे ग्रामीण विजय दास,रंजन कुमार,अमरेन्द्र यादव,अशनिल यादव,सेन्टु यादव,धमेन्द्र कुमार,सुमन कुमार,रमन कुमार,बालकिशोर यादव,चन्द्रकिशोर यादव,राजेश यादव,ललन यादव,मुकेश कुमार,भवेश कुमार,दिपक कुमार,रूपेश कुमार,आंनद कुमार,सत्यनारायण शर्मा,टुनटुन कुमार आदि ने बताया की इस सड़क के परसबन्नी मौड़ के समीप सड़क किनारे निजी जमीन में करीब तीन वर्षो से महावीर मंदिर का निमार्ण किया जा रहा है अधुरे मंदिर में एक मिटटी से बनी हनुमान जी की प्रतिमा लगा कर एक पुजारी लाल दास पुजा अर्चना करते आ रहें है मंगलवार को बनमा ईटहरी के अंचलाधिकारी रंधीर प्रसाद अंचल गार्ड के साथ शाम के बक्त आया और पुजारी को डरा डमका कर बोला की यहां से मंदिर हटाने की बात कहा पुजारी नही माना तो गार्ड के द्वारा मुर्ति को जबरन वहां से हटा कर कुछ दुरी पर रख दिया जिसके कारण मुर्ति का हाथ पैर टुट गया उसके बाद निमार्ण के लिये रखे 10 बोरा सिमेन्ट को पानी में फेंक देने के बाद अर्ध  निर्मित मंदिर को तोड़ दिया।इसी बात से आक्रोशित ग्रामीणों ने वुधवार की सुबह से ही सड़क को जामकर उग्र प्रर्दशन करते हुये अंचलाधिकारी रंधीर प्रसाद का पुतला दहन किया एवं जमकर नारेबाजी किया |koshixpresskoshixpress

करीब 5 घंटों के जाम के बाद बीडीओं,थानाध्यक्ष के आश्वासन पर जाम हटा

करीब पांच घटों के बाद बीडीओं नुतन कुमारी,ओपी अध्यक्ष जितेन्द्र साहनी,बीस सुत्री प्रखंड अध्यक्ष रमेश चन्द्र यादव जामस्थल पहुंच प्रर्दशनकारीयों से वार्ता कर अंचलाधिकारी के द्वारा किये गये इस कार्य पर दुख प्रकट करते हुये कहा कि इस समस्या का स्थाई निदान जमीन के नापी के बाद कर लिया जायेगा। इस संबंध में अनुमंडलाधिकारी सुमन प्रसाद साह से पुछे जाने पर बताया कि न्यायालय के आदेशानुसार सड़क किनारे सरकारी जमीन पर किसी प्रकार धार्मिक स्थल होने पर हटाने का आदेश दिया गया है जहां तक बिना नापी कर हटाने की बात है तो इस बात की जांच किया जायेगा।