प्रमाण पत्र नही दिए जाने से गुस्साए छात्रों ने किया सड़क जाम !

825

संजय कुमार सुमनजहाॅ एक ओर गंगा में उफान के कारण उत्तर बिहार को दक्षिण से जोड़ने वाली प्रमुख चौसा- नवगछिया पथ बंद है वहीं दूसरी ओर जिले के चौसा प्रखंड स्थित गांधी उच्च विद्यालय अरजपुर के मैट्रिक पास सैकड़ों बच्चों को अब तक प्रमाण पत्र नहीं मिल पाने के कारण चौसा रूपौली पथ को अरजपुर में घंटो जाम कर आवागमन को बाधित कर दिया। आवागमन बंद होने से सड़को पर वाहनों की लंबी कतार देखी गई। दूर सफर करने वाले यात्रियों को काफी कठिनाईयों का सामना करना पड़ा।koshixpress

मालूम हो कि गांधी उच्च विद्यालय अरजपुर से सत्र 2015-16 में करीब 417 बच्चे मैट्रिक की परीक्षा पास की है। लेकिन अब तक उन्हें विद्यालय की ओर से प्रमाण पत्र नहीं दिया गया है। बिहार में मैट्रिक परीक्षाफल निकलने के बाद बिहार विद्यालय परीक्षा समिति पटना ने अरजपुर विद्यालय का परीक्षाफल यह कह कर रोक लगा दिया कि विद्यालय में नामांकन से अधिक बच्चों को परीक्षा में शामिल कराया गया है।

परीक्षा समिति द्वारा अरजपुर के मैट्रिक परीक्षा में शामिल बच्चों का अब तक परीक्षाफल नहीं दिया है। जिससे बच्चों के साथ अभिभावकों में जबरदस्त आक्रोश है। बच्चों एवं अभिभावकों को यह परेशानी सता रही है कि अब बच्चे का भविष्य क्या होगा। किस महाविद्यालय में बच्चों का नामांकन इंटर में होगा। सच्चाई यह है कि सभी इंटरस्तरीय महाविद्यालय में नामांकन का सीट निर्धारित होता है। यदि परीक्षाफल दे भी दिया जाता है तो क्या बच्चे का सिलेबस पूरा हो पाऐगा।इसी के कारण आज शुक्रवार को गांधी उच्च विद्यालय के सैकड़ो बच्चों ने चौसारूपौली को अरजपुर के पास घंटों सड़क जाम कर विरोध प्रदर्शन किया।koshixpress

प्रदर्शन कर रहे बच्चे मुकेश कुमार,रोहित कुमार,उज्ज्वल कुमार,करन कुमार,दीपक कुमार,संदीप कुमार,कुमोद कुमार,सुमित कुमार ने बताया कि परीक्षा के छह माह बीत जाने के बाद भी हमलोगों का परीक्षाफल नहीं आया है। लापरवाही विद्यालय के शिक्षकों की है तो इसका नतीजा हम बच्चे क्यों को भुगत रहे हैं। जिन शिक्षकों ने ऐसा किया है उस पर कार्रवाई होनी चाहिए। अरजपुर में सड़क जाम होने से यातायात घंटो बाधित रहा। सड़क पर वाहनों की कतार देखी गई बच्चे एवं अभिभावक काफी आक्रोश थे। आक्रोशित लोगों ने विद्यालय के शिक्षकों के प्रति जमकर अपनी भरास निकाली। 

विद्यालय के प्रभारी प्रधानाध्यापक प्रदीप कुमार ने कहा कि जिला शिक्षा पदाधिकारी मधेपुरा के स्तर से जांच पड़ताल कर ली गई है एक दो दिन में रिजल्ट आ जायेगा। जहां तक परीक्षाफल रोकने का सवाल है यह तो बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की अधिकार क्षेत्र में है। इस में हमलोग क्या कर सकते है।