बाढ़ से इंसान ही नहीं पशु पक्षी भी बेहाल !

1969
मुकेश कुमार मिश्र : बिहार के खगड़िया जिला अंतर्गत परबत्ता प्रखंड के विभिन्न पंचायतों में आयी बाढ से न केवल इंसान प्रभावित हुआ है।बल्कि पशु पक्षी भी बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं।सोमवार को एक बड़ा सा गरुड़/सारस घायल अवस्था में गंगा किनारे पाया गया।स्थानीय लोगों ने उपचार करा दिया।लेकिन बच्चे उसे तंग करते रहे।
koshixpress
बाढ से पशु पक्षी भी हुए प्रभावित
दरअसल यह पक्षी कम पानी में कीट पतंगों का शिकार कर अपना पेट भरता है।चारों तरफ पानी हो जाने के कारण घने जंगलों या निर्जन स्थानों पर रहने वाले इस पक्षी को आबादी की तरफ आना पड़ा।प्रखंड के अधिकांश बाढ प्रभावित पंचायतों में गंगा के पानी से घास वाले खेत डूब चुके हैं।यह स्थिति बाँध के बाहर अर्थात् नदी की तरफ अवस्थित खेतों की है।वहीं विगत दो दिनों से भूगर्भीय जल के लगातार निकलते रहने के कारण बाँध के अंदर के घास भरे खेतों में भी पानी जमने लगा है।बाढ का पानी भूसाघर में घुसने के कारण अधिकांश किसानों का भूसा पहले ही सड़ चुका है।बहरहाल इस स्थिति में प्रखंड के अधिकांश दुधारु पशुधन पेट भर खाना के लिये तरस रहे हैं।अधिकांश पशुपालक अन्य प्रखंडों के लिये पलायन कर चुके हैं।वहीं कुछ अपने पशुओं के लिये अन्य प्रखंडों से चारा मंगवा रहे हैं।