बिहार पुलिस आपकी सेवा में : जुर्म कबूल करवाने के लिए थर्ड डिग्री टॉर्चर !

1350

मुकेश कुमार सिंह : बिहार में पुलिस की छवि सुधरने का नाम नहीं ले रही है। हर रोज पुलिस अपने बर्बर और अमानवीय चेहरे के लिए सुर्खियां बटोर रही है।अपनी बिगडैल कार्यशैली के लिए खासी बदनाम रही बिहार पुलिस ने इस बार हद की तमाम सीमाएं तोड़ डाली हैं ।बिहार पुलिस का बर्बर चेहरा एक बार फिर देखने को मिला है ।आरोपी से जुर्म कबूल करवाने के लिए पुलिस ने एक युवक की इस कदर पिटाई की है की वह अस्पताल में आज जीवन और मौत के बीच झूल रहा है ।

बिहार पुलिस तेरे कितने चेहरे

सीतामढ़ी में एक पुल निर्माण कंपनी से रंगदारी मांगने के आरोप में सीतामढ़ी के मेजरगंज से पुलिस ने गुड्डू सिंह नाम के युवक को 22 अगस्त को गिरफ्तार किया था ।बताया जा रहा है कि गुड्डू सिंह को पुलिस ने उसका जुर्म कबूल करवाने के लिए इस बेरहमी से प्रताड़ित किया है कि वह ना केवल अस्पताल पहुंच गया बल्कि उसकी बेहद नाजुक बनी हुयी है ।गुड्डू के साथ पुलिस ने मानवता की सारी हदें पार करते हुए ना केवल उसके साथ बर्बर तरीके मारपीट की बल्कि उसे बुरी तरह से टॉर्चर भी किया गया ।koshixpress

बिहार पुलिस की फितरत बदलती रहती है

बेशर्मी की इंतहा जानिये की कलयुगी पुलिस ने गुड्डू सिंह को ना केवल बेरहमी से मारा बल्कि उसके प्राइवेट पार्ट पर गर्म चाय तक टाल दी । पुलिस ने गुड्डू को इस कदर पिटाई की है की उसका जबड़ा भी टूट गया है ।इतना ही नहीं, पुलिस वालों ने उसे टॉर्चर करने के लिए बिजली के झटके तक लगाए ।इससे भी पुलिस का मन नहीं भरा तो उन्होंने उसे जेल की सलाखों के पीछे पहुंचा दिया ।

बिहार पुलिस हक से लुटती भी है और बेरहमी से पीटती भी है

जब पुलिस की इस प्रताड़ना से जेल में गुड्डू की हालत खराब होने लगी तो जेल प्रशासन ने उसे ईलाज के लिए सीतामढ़ी सदर अस्पताल भेज दिया ।हालांकि इस मामले में कोई भी पुलिस के बड़े अधिकारी कुछ भी बोलने से इनकार कर रहे हैं ।वैसे चोरी और बल–धकेली पुलिस वालों की आदत रही है लेकिन मामला फंसता देख पुलिस अधिकारी चुप रहना ही ज्यादा बेहतर समझ रहे हैं ।गुड्डू सिंह के जिश्म पर भी जख्मों के कई गहरे निशान हैं,जो पुलिस की गुंडई की चुगली कर रहे हैं ।koshixpress

क्या है मामला

20 जून 2016 को रंगदारी नहीं मिलने पर बदमाशों ने मेजरगंज में सड़क व पुल निर्माता एजेंसी के मुंशी धर्मवीर सिंह की गोली मार हत्या कर दी थी ।घटना की जिम्मेदारी न्यू क्षत्रिय संगठन फौज नामक संगठन ने ली थी ।तब से पुलिस को हत्यारों की तलाश थी ।इसी क्रम में पुलिस ने चार लोगों को दबोचा था ।प्राथमिकी में पुलिस ने 25 अगस्त को गिरफ्तारी दिखा 26 अगस्त को सभी को जेल भेज दिया था ।परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने पूछताछ के नाम पर तीन दिनों तक पहले तो गुड्डू को हिरासत में रखा,और इसी दौरान उसकी बेरहमी से पिटाई की गयी ।

एक बार फिर बिहार पुलिस का क्रूर और बहशी चेहरा आया सामने

हम इस विषय पर कुछ नहीं कहना चाहते की गुड्डू सिंह अपराधी है की सन्यासी ?लेकिन पुलिस ने जो गुंडागर्दी की है,उस पर आवाम  कहेंगे की ऐसे पुलिस वालों को नौकरी में बने नहीं रहने देना चाहिए ।ये खाकीधारी गुंडे हैं जिनसे अवाम को खतरा है ।कुछ दिन पहले हमने सहरसा सदर थाना के थानेदार संजय सिंह की गुंडागर्दी दिखाई थी ।फिर उसके कुछ ही दिनों के बाद सुपौल के किशनपुर थाना के एक दारोगा अरविन्द सिंह की दादागिरी से हमने अपने पाठको को रूबरू कराया था ।आखिर बिहार में ये हो क्या रहा है । क्या सरकार ने गुंडों को खाकी पहनाकर जनता की धुनाई का जिम्मा सौंपा है ।ये दारोगा राज अधिक दिनों तक चलने वाला नहीं है ।