बाढ पीड़ित बन गये तमाशा : देखने आ रहे रहे सब,पर राहत देने वाला कोई नहीं !

1854
मुकेश कुमार मिश्र :बिहार में बाढ़ की तबाही जारी है | खगड़िया जिले के परबत्ता प्रखंड अंतर्गत माधवपुर,कवेला,जोरावरपुर, दरियापुर भेलवा,सियादतपुर अगुवानी,तेमथा करारी,लगार,भरसो, सौढ दक्षिणी तथा सौढ उत्तरी पंचायत के कई गांवों की स्थिति भयावह स्थिति बनी हुई है।हजारों घरों में पानी घुस जाने के कारण लोग अपने घरों को छोड़ कर पलायन करने को विवश हो गये हैं।इनमें से अधिकतर गोगरी नारायणपुर बाँध पर शरण लिये हुए हैं।इतना ही नहीं इन बाढ प्रभावित लोगों के जानवरों का भी बुरा हाल है। koshixpress

शिविर है परंतु राहत नदारद

  • कागज पर खुले राहत शिविर

बाढ पीड़ितों के लिये प्रशासन द्वारा राहत शिविर खोला गया है।लेकिन इन शिविरों में राहत सामग्री नदारद है।स्थिति यह है कि मध्य विद्यालय उदयपुर में राहत शिविर में प्रशासन ने बाढ पीड़ितों को भोजन कराने हेतु एल पी जी सिलिंडर उपलब्ध कराया लेकिन चूल्हा नदारद था।किसी प्रकार गांव के लोगों से माँगकर दिन में भोजन बनाया गया।वह भी कम पड़ गया व्यवस्थापकों ने बताया कि प्रशासन का निर्देश है कि जो बाढ पीड़ित इन राहत शिविरों में निवास करे उन्हें ही भोजन कराना है।लेकिन पीड़ितों का कहना है कि वे अपने डूबे घरों में फँसे हुए सामान को निकालने,घर की सुरक्षा आदि के कारण लगातार शिविर में नहीं रह सकते हैं।बहरहाल मध्य विद्यालय उदयपुर के शिविर में कुल 58 पीड़ितों की संख्या गिनी गयी।जो भोजन करने के समय एक सौ हो गयी।लेकिन इन सौ लोगों को भोजन कराने के बावजूद करीब पचास लोग भोजन की प्रतीक्षा करते रह गये।koshixpress

जुगाड़ के नाव का सहारा

प्रखंड में प्रशासन बाढ पीड़ितों को नाव उपलब्ध कराने के लाख दावे करे लेकिन यह कहीं भी दिखायी नहीं दे रहा है।आमतौर पर लोग टिन के बने जुगाड़ या केले के थम्भ को आने जाने के लिये उपयोग करने को विवश हैं।एक सच यह भी है कि प्रखंड में जितने बड़े क्षेत्र में बाढ का प्रकोप है उसमें कोई भी व्यवस्था नाकाफी साबित होगा।लेकिन राहत शिविरों के संचालन के साथ साथ नाव संचालन के मामले में कागजी घोड़े ज्यादा दौड़ाये जा रहे हैं।koshixpress

मांगकर खाने को विवश हैं 80 लोग

  • नाव के लिये हाहाकार

गंगा नदी के जलस्तर में अचानक बढोतरी से आयी बाढ के प्रकोप से बचने के लिये भागलपुर जिला के नारायणपुर प्रखंड के 80 लोग विगत तीन दिनों से अपने सामान तथा पशुओं के साथ मध्य विद्यालय थेभाय में आकर रुके हुए हैं।इस स्कूल को भी राहत शिविर घोषित किया गया है।इस शिविर के संचालन के लिये चार शिक्षकों को प्रतिनियुक्त किया गया है।लेकिन इस कागजी प्रतिनियुक्ति आदेश के अलावा कोई राहत या भोजन सामग्री उपलब्ध नहीं है।इन प्रतिनियुक्त कर्मियों को यह जानकारी देने वाला कोई नहीं है कि दूसरे जिले के निवासी को राहत भोजन उपलब्ध कराया जा सकता है या नहीं।भागलपुर जिले के फुलवरिया, गंगापुर गौरा,मोजमा तथा दुधेला दियारा गांव के रहने वाले सुरेन्द्र मंडल,डब्लू कुमार,ज्ञानी मंडल,रेखा देवी,विलास मंडल,मीरा देवी,रिंकू देवी,सलिता देवी,रीता कुमारी,झूना देवी,रविता देवी आदि ने बताया कि पिछले तीन दिनों से थेभाय गांव के लोगों से माँगकर उनका काम चल रहा है।लेकिन यह कब तक चलेगा।सरकार की तरफ से अब तक कोई देखने नहीं आया है।

दियारा से पलायन जारी

गंगा के जलस्तर में रुक रुक कर हो रही बढोतरी के कारण दियारा क्षेत्र से लोगों का पलायन जारी है।दियारा क्षेत्र में ऊँचे स्थानों पर अस्थायी निवास बनाकर रहने वाले लोग भी अब वहाँ से पलायन कर अपने घर के सामानों के साथ जी एन बाँध के अंदर आ रहे हैं।पूर्व के वर्षों में बाढ में डूबने से बचे हुए स्थान भी इस बार डूब गये हैं।koshixpress

जी एन बाँध में कई जगह रिसाव जारी

गोगरी नारायणपुर तटबंध पर गंगा नदी के जल के दबाब के कारण कई जगहों पर रिसाव शुरु हो गया है।हलाँकि जल संसाधन विभाग के इंजीनियर दिन रात इसे ठीक करने में अपनी ताकत झोंके हुए हैं।मंगलवार को भरसो तथा लगार के निकट जी एन बाँध से रिसाव शुरु हो गया।पहले सड़क निर्माण विभाग के लोगों ने रोड ऐम्बुलेंस के माध्यम से इसे ठीक करने का प्रयास किया।विफल रहने पर जल संसाधन विभाग के लोग इसमें लगे हुए हैं।वहीं वर्ष 2013 में उदयपुर ढाला के निकट जहाँ बाँध टूटा था वहाँ जल संसाधन विभाग के लोग जी एन बाँध को मजबूत करने में लगे हुए हैं।इसमें दिन रात जियो बैग में मिट्टी भरकर क्रेटिंग का काम किया जा रहा है।

रेस्क्यू में लगी है एस डी आर एफ

इधर एस डी आर एफ की टीम लोगों को उनके डूबते घरों से सुरक्षित निकालने के काम में लगी हुई है।इस टीम के इंस्पेक्टर शिवजी सिंह ने बताया कि उनकी टीम को सौढ दक्षिणी से लगार तक का जिम्मा दिया गया है और वे चार अन्य जवानों की मदद से 4 सौ लोगों को उनके डूबते घरों से निकालकर सुरक्षित स्थानों तक पहुँचाने में सफल रहे हैं।koshixpress

नेताओं का दौरा जारी

बाढ से प्रभावित इलाकों में विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं का दौरा जारी है।इस कड़ी में मंगलवार को परबत्ता विधानसभा क्षेत्र की पूर्व प्रत्याशी प्रो सुहेली मेहता तथा सी पी आई एम के जिला स्तर की टीम ने बाढ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया।