कश्मीर सड़क हादसे में जवान का शव पहुंचते ही उमड़ा जनसैलाब !

1133

जम्मू कश्मीर के बनिहाल में सड़क हादसे में मृत सेना सेवा कोर संगठन के जवान विभाष कुमार विमल का अंतिम संस्कार बुधवार को बिहार के सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल के बनमा ईटहरी प्रखंड के परसाहा गांव में किया गया।परसाहा जवान का पैतृक गांव है |koshixpress

मृतक जवान (फाइल फोटो)
मृतक जवान (फाइल फोटो)

इससे पूर्व दोपहर 12 बजे के करीब सेना के नायव सुबेदार रवीन्द्र चौबे  व सुवेदार मुद्रिका प्रसाद के नेतृत्व में वाहन से शव पहले सलखुआ थाना लाया गया उसके बाद बनमा ईटहरी ओपी पहुंचने के बाद हजारों की संख्या में आमजन अपने बेटे के अंतिम दर्शन को उमड़ पड़े। गाड़ीयों के काफिले के साथ प्रखंड मुख्या से शव यात्रा पैतृक गांव परसाहा के लिये रवाना हुआ रास्ते के विभिन्न चैक चैराहों पर ग्रामीणों की हुजुम अंतिम दर्शन के लिये फुल माला लेकर खड़े रहें।जैसे ही शव गांव पहुंचा पुरा गांव गमहीन हो गया इसी बीच विभाष अमर रहे के नारों से वातावरण गुंजायमान हो गया। परिजनों को अंतिम दर्शन के बीच पत्नी किरण देवी भाई सुभाष कुमार,पिता सुरेश यादव के करूणमय चित्कार से समुचा बातावरण गमहीन हो गया। स्थानिय बनमा ओपी प्रभारी जितेन्द्र सहनी के नेतृत्व में गाड आफ आनर दी गई। हिन्दु रिति रिवाज के तहत मृतक विभाष के ढ़ेर वर्षीय पुत्र मयंक राज ने मुख्य अग्नि दी |koshixpress

यहां बताते चले कि सोमवार 15 अगस्त के करीब सुबह 5 बजे के करीब सेना सेवा कौर के जवान विभाष कुमार विमल एवं 16 डोगरा रेजिमेंट के जवान कारगिल सेक्टर से सेना के एक टुकड़ी को छोड़ पुन दुसरी टुकड़ी को लेने सेना के बस से जम्मू वापस आ रहे थे की बनिहाल से 5 किलोमीटर आगे गाड़ी सड़क किनारे करीब 100 फीट गडडे में पलट गई जिसमें दोनों जवान की मौत हो गई।koshixpress

अनुमंडलीय प्रसाशन ने नही ली सुधी

देश जिस सेना के जवान की सुरक्षा पर चैन की नींद सोता है उसी सेना के जवान की मौत होने पर अनुमंडल प्रसाशन के किसी ने झांकने तक की जहमत नही ली सिर्फ बनमा ओपी पुलिस ओपी क्षेत्र होने के कारण अपनी उपस्थिती दर्ज कराई वही स्थानिय जिला परिषद सदस्य जफर आलम,बीस सु़त्री अध्यक्ष रमेश चन्द्र यादव,रोहित यादव,चंदन कुमार,अमरेन्द्र यादव,दिलीप वर्मा आदि ने स्थानिय होने के नाते शव यात्रा में सामिल हुये वही अनुमंडल स्तर के कोई वरीय पुलिस पदाधिकारी या प्रसाशनिक प्रदाधिकारी ने यहां आने की जहमत नही उठाई।