मृतक जवान के पार्थिव शरीर पर पुष्प चढ़ाना किसी ने मुनासिब नही समझा बड़े नेताओ सहित जिला प्रशासन ने !

1007

देश जब चैन की नींद सोता है तो सरहदें पर रात भर जाग कर हमारी चैन की नींद को सार्थक करता है । पर जव वे मौत की आगोश में से जाते है तो उसके पार्थिव शरीर पर एक फुल भी चढ़ाना मुनासीब नही समझ जाता ये मामला सामने आया है बिहार के सहरसा जिले में।

मृतक सेना के जवान के पार्थिव शरीर पर पुष्प चढ़ाना किसी ने मुनासिब नही समझा

कश्मीर के कारगिल सेक्टर से सेना के एक टुकड़ी को पहुंचाकर कर वापस जम्मू बैस केंम्प आ रहे सेना सेवा कोर संगठन के एक जवान विभाष कुमार विमल की मौत सड़क हादसे में 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के दिन हो जाने के बाद उसका पार्थिक शरीर बुधवार को उनके पैतृक निवास स्थान सहरसा जिले के सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल के बनमा इटहरी प्रखंड स्थित परसाहा गांव लाया गया।

इंसानियत को शर्मसार किया बड़े नेताओ सहित जिला प्रशासन ने

सेना के इस जवान का पार्थिव शरीर सुबह पटना विशेष विमान से पटना आया जहां से सेना के नायव सुबेदार रबीन्द्र चौवे के नेतृत्व में तीन जवान सड़क मार्ग से दोपहर 2:00 बजे उनके पैतृक गांव लाई गई जहां उसके ढ़ेर वर्षीय पुत्र मयंक राज ने मुखाअग्नि दी। इस अवसर पर जिला प्रशासन की ओर से किसी ने भी सेना के इस जवान को श्रद्धांजलि देना मुनासिब नहीं समझा यहां तक कि अनुमंडल प्रशासन के भी किसी पदाधिकारी ने इस गांव में झांकने तक की जहमत नहीं उठाई वही खगड़िया सांसद चौधरी महबूूब अली केसर का भी सिमरी बख्तियारपुर गृहक्षेत्र है वे भी नही पहुंचे। स्थानीय ओपी प्रभारी जितेन्द्र साहनी अपने जवानों के साथ सुरक्षा व्यवस्था में मात्र नजर आए वही जिले के बड़े नेताओ ने भी यहां आने की जहमत नहीं उठाई।

मृतक सेना के जवान के पार्थिव शरीर पर स्थानिय पंचायत प्रतिनिधियों को छोड़एक पुष्प चढ़ाना किसी ने मुनासिब नही समझा

सिमरी बख्तियारपुर के विधायक दिनेश यादव का गृह क्षेत्र है वही बिहार सरकारी के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री अब्दुल गफूर भी इसी जिले के महिषी विधानसभा से विधायक हैं और सरकार में मंत्री का पद पर सुशोभित है इन लोगों ने भी इस सेना के जवान के पार्थिव शरीर को श्रद्धांजलि देना मुनासिब नहीं समझा (इन लोगों के संबंध में बताया गया ये लोग विधानसभा सत्र में भाग ले रहे है) वही बिहार के चर्चित सांसद पप्पू यादव का संसदीय क्षेत्र है इतना ही नहीं मृतक सेना के जवान का पैतृक निवास स्थान उनके आदर्श ग्राम के तहत आता है उन्होंने भी यहां आना मुनासिब नहीं समझा वही स्थानीय विधायक एवं सरकार के मुख्य सचेतक रत्नेश सादा भी नही पहुंचे।सिर्फ स्थानिय पंचायत प्रतिनिधि जिप सदस्य जफर आलम,बीस सुत्री प्रखंड अध्यक्ष रमेश चन्द्र यादव,प्रखंड प्रमुख प्रतिनिधि चंदन कुमार,पूर्व प्रमुख रोहित यादव आदि ने सिरकत किया।