थाना परिसर की साफ-सफाई का जिम्मा मासूम बच्चों के हाथ !

992

स्वाधीन भारत में कौन खुली सांसे लेना नहीं चाहता है | स्वतंत्रता का स्वाद ना केवल हर कोई चखना चाहता है बल्कि स्वतंत्रता महापर्व को यादगार भी बनाना चाहता है |लेकिन बिहार के खगड़िया महिला थाने से जो तस्वीरें आई है वह स्वतंत्रता दिवस सक्षम और समर्थ लोगों ले लिए है, यह चीख-चीख के कह रही है |koshixpresskoshixpress

बताते चले की महिला थाना में 15 अगस्त को झंडोत्तोलन के लिए साफ-सफाई कराई जा रही है| लेकिन साफ-सफाई की जिम्मेवारी मासूम-कंधो पर है| पशुपालन विभाग के एक भवन में चलने वाले इस महिला थाना में भी स्वतंत्रता दिवस की गर्माहट बनी रहे इसके लिए मासूम नोनिहाल अपना पसीना बहा रहे है| महिला थानाध्यक्ष  किरण कुमारी से जब इस बाबत जानकारी ली गयी की आपने मजदूरों से सफाई ना कराते हुए बच्चों से सफाई क्यों कराई का जबाब उन्होंने यह कहते हुए दिया की पशुपालन कॉलोनी में रहने वाले एक परिवार के ये बच्चें है जो अपने मन से काम कर रहे थे |koshixpress

कहते है कि बच्चे देश के भविष्य होते है लेकिन यह शरीफ के बच्चों पर कहीं से भी फिट नही बैठता है | आप तस्वीर देखिये और खुद फैसला कीजिए की यहाँ क्या सही है क्या गलत है |

सभी पाठकों को कोशी xpress की और से स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं