जिम्मेदारी को ईमानदारी से अपना काम समझ कर करे – मौलाना इरफान अहमद कादरी

964
संबोधित करते मौलाना

मधेपुरा (संजय कुमार सुमन) : प्रखंड के चंदा में दाता अलीजान शाह का 78 वाॅं सलाना उर्स बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया गया। शाह की मजार पर श्रद्धालुओं ने चादरपोशी एवं गुलपोशी कर अपनी मुरादें पूरी होने की कामना की। चौसा प्रखंड में आयोजित सालाना उर्स के मौके पर एक दिवसीय जलया का भी आयोजन किया गया।koshixpress
जलसा को संबोधित करते हुए मौलाना इरफान अहमद कादरी भागलपुरी ने कुरानों के हदीश की रौशनी में दुनियां वालों को पैगाम देते हुए कहा कि अमन शांति भाई-चारा के साथ जीवन गुजर करें।कोई भी जिम्मेदार अपनी जिम्मेदारी को ईमानदारी से अपना काम समझ कर करे। अगर ऐसा नहीं करता है तो वो जहन्नम में डाला जायेगा।

मौलाना अबुसालेह फरीदी बिहपुरशरीफ,सब्बर अली खान भागलपुरी,शायरे इस्लाम हाफिज नोमान रहमानी ने कहा कि अपनी जिम्मेदारी को अल्लाह से डरते हुए अदा करने की कोशिश करें। आज लोग सुस्ती एवं गफलत के शिकार हैं। आज हर आदमी को मोतहरिक एवं सक्रिय होने की जरूरत है। हर लोग अपना एवं अपने परिवार का सही मार्गदर्शन करें।

मदरसा फरीदिया मोहब्बतिया ने कहा कि तुम तब तक ईमान वाले नहीं हो सकते जब तक आपस में मुहब्बत न करने लग जाओ। अगर हमारी वजह से कोई तकलीफ के आंसू बहाए तो याद रखना जब रब इन आंसूओं का हिसाब लेगा तो यह नहीं पूछेगा कि रोने वाली आंखों का मजहब कौन सा था।

मजार पर चादर पोशी करते
मजार पर चादर पोशी करते

मौलाना रजा अली रिजवी,मौलाना अनवर आलम,मौलाना जाकिर हुसैन साहब मुफ्ती,कहा कि इल्म का तलब करना हर मुसलमानों का फर्ज है। अल्लाहतआला ने दुनिया में इंसान को भेजने के बाद इल्म को जरूरी दर्जा देने का काम किया है। जलसा के पूर्व हजरत अली जान शाह की मजार पर बिहपुर के मोहम्मद कौनेन के द्वारा चादरपोशी का शुभारंभ किया गया। इसके बाद सैकड़ों लोगों ने चादर पोशी कर अपनी मुरादें पूरी होने की कामना की।

जलसा के सफल आयोजन में शहंशाह कैफ,डा0 मंजूर आलम,मंसूर आलम,औरंगजेब आलम,नसरूल आलम,श्मशाद आलम,रउफ सिद्दीकि,इमदाद आलम की भूमिका देखी गई।