थानेदार प्रकरण :थाना चौक पर थानेदार का पुतला दहन !

1314

सहरसा (मुकेश कुमार सिंह) : बीते तीन अगस्त को मारपीट के मामले में जख्मी हुए सुशील भगत को न्याय दिलाने और पीड़ित के बयान पर मामला दर्ज कर अनुसंधान करने की जगह सदर थानाध्यक्ष संजय सिंह ने पीड़ित की ना केवल गालियों से खिदमत की बल्कि धक्के मारकर उन्हें थाने से बाहर भी कर दिया ।थानेदार की काली करतूत के वायरल होने के बाद भी जब इस दादा किस्म के दबंग थानेदार पर बड़े अधिकारियों ने कोई कार्रवाई नहीं की तो,विभिन्रा राजनीतिक दल ने इस मामले में आज से हस्तक्षेप करना शुरू कर दिया है ।koshixpresskoshixpress

राजद का प्रतिनिधिमंडल मिला एसपी से 

सबसे पहले राजद के जिलाध्यक्ष जफ़र आलम और वरिष्ठ राजद नेता रंजीत यादव के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने एसपी अश्वनी कुमार से मुलाक़ात कर संजय सिंह पर अविलम्ब कार्रवाई की मांग की ।लेकिन एसपी साहब ने कहा की इस मामले में जांच चल रही है ।जांच रिपोर्ट आने के बाद ही वे कुछ कर सकेंगे।राजद जिलाध्यक्ष जफ़र आलम ने कड़े लहजे में कहा की अगर 24 घंटे के अंदर इस थानेदार पर कार्रवाई नहीं हुयी,तो इस मामले को वे माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार,राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद तक ले जाएंगे और इस थानेदार पर कार्रवाई करवा कर रहेंगे ।

यह थानेदार नहीं कसाई है…इसे थाना से हटाओ सरकार के नारे लगते रहे 

बात इतने पर ही खत्म नहीं हुयी ।जन अधिकार पार्टी ने थानेदार पर शीघ्रता से बड़ी कार्रवाई हो,इसके लिए आज शाम में थाना चौक पर थानेदार का पुतला दहन किया ।इस दौरान पार्टी कार्यकर्ताओं ने थानेदार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की ।पुतला दहन में सांसद प्रतिनिधि जितेन्द्र भगत,जीबू आलम,बमबम तिवारी,मुखिया इंदल यादव,प्रवक्ता शलेन्द्र शेखर सहित दर्जनों जाप एवं जाप छात्र परिषद् के कार्यकर्त्ता थे |koshixpress

इस मामले में भी सभी कुछ टांय-टांय फिस्स ना हो जाए

koshixpress

धीरे-धीरे यह थानेदार प्रकरण अब सियासी रंग पकड़ने लगा है ।एक तरफ जहां यह लग रहा है की इस बार इस आतातायी थानेदार का विकेट गिरकर रहेगा और बड़ी कार्रवाई होकर रहेगी,तो दूसरी तरफ कयास यह भी लगाया जा रहा है की बड़े अधिकारियों तक मोटा नजराना पहुंचाकर यह जीवट थानेदार फिर से बच निकलेगा ।
संसय बरकरार है की आखिर इस थानेदार का क्या होगा ?साक्ष्य रहते हुए इस थानेदार पर कार्रवाई में आखिर देरी क्यों हो रही है ?आखिर बड़े अधिकारी इस थानेदार पर कार्रवाई करने से डर क्यों रहे हैं ?कहते हैं की समरथ के नहीं कछु दोष गोसाईं….पैसा,रसूख,पैरवी और प्रभाव के सामने में अक्सर न्याय घुटने टेक देता है ।कहीं ….