शराब का निर्माण जारी रहा :अब इस थानेदार को दस वर्षों तक नहीं मिलेगी थानेदारी !

1072

पुर्णिया (संजय कुमार सुमन) :राज्य पुलिस मुख्यालय ने थाना अध्यक्ष द्वारा राज्य पुलिस मुख्यालय को इस बात का शपथ दायर कर देने के बाद की उनके थाना क्षेत्र में शराब का निर्माण नहीं हो रहा है ।लेकिन बाद में शराब निर्माण का मामला पकड़ में आया । मामला पकड़ में आने के बाद राज्य पुलिस मुख्यालय के निर्देश पर रूपौली के पूर्व थाना अध्यक्ष नवीन कुमार को निलंबित कर दिया गया है ।

रूपौली के पूर्व थाना अध्यक्ष नवीन कुमार पर निलंबन की कार्रवाई

बताया जाता है कि सूबे में शराबबंदी लागू होने के पहले राज्य पुलिस मुख्यालय ने सभी जिलों के सभी थाना अध्यक्षों से इस बात का शपथ पत्र दायर कर देने को कहा था ।और यह निर्देश भी दिया था कि उनके थाना क्षेत्र में किसी भी तरह के शराब निर्माण एवं उसकी खरीद-बिक्री नहीं हो रही है,तो उनके खिलाफ बड़ी कार्रवाई होगी ।रूपौली के पूर्व थाना अध्यक्ष ने भी अपने शपथ पत्र में इस बात का उल्लेख किया था ।मगर बाद में वहां उत्पाद विभाग एवं पुलिस की संयुक्त छापामारी में अवैध शराब फैक्ट्री पकड़ी गयी ।यहां से पुलिस को छापामारी में अवैध शराब निर्माण के कई उपकरण भी मिले थे ।इस मामले को गंभीरता से लेते हुए राज्य पुलिस मुख्यालय ने रूपौली के पूर्व थाना अध्यक्ष को निलंबित कर दिया है । वहीं शराबबंदी लागू होने के बाद सरकार ने इस बात की भी घोषणा की थी कि जिस थाना क्षेत्र में शराबबंदी के बाद शराब निर्माण का मामला पकड़ में आयेगा वहां के थाना अध्यक्ष को दस साल तक किसी थाने की कमान नहीं सौंपी जायेगी ।

इस बात की पुष्टि करते हुए पुर्णिया एसपी निशांत कुमार तिवारी ने बताया की पूर्व थाना अध्यक्ष के खिलाफ यह कार्रवाई राज्य पुलिस मुख्यालय द्वारा की गयी है ।

रूपौली के पूर्व थाना अध्यक्ष नवीन कुमार पूर्णिया के पहले थाना अध्यक्ष होंगे जिनके ऊपर शराबबंदी अभियान के तहत इतनी बड़ी कार्रवाई की गाज गिरी है । राज्य पुलिस मुख्यालय के इस कार्रवाई के बाद वैसे थानेदारों की नींद उड़ गयी है जिनके थाना क्षेत्र में सूबे में शराबबंदी लागू होने के बाद शराब की बड़ी खेप या अवैध फैक्ट्रियां, भट्ठी आदि पकड़ी गयी है ।चूँकि उन थानेदारों पर नेता-मंत्री और अफसरान की कृपा बरस रही है,इसलिए उनपर नवीन जैसी कार्रवाई मुश्किल है ।

शराब का निर्माण रहा जारी,नपे थानेदार  

यहां हम चलते-चलते यह बात दावे के साथ कहेंगे की अगर ईमानदारी से थानेदारों पर कार्रवाई होगी तो थोक में नवीन कुमार मिलेंगे लेकिन यहां तो जो पकड़ा गया वह चोर,वर्ना सन्यासी की कहावत चरितार्थ हो रही है ।