कोसी का कहर : लोगों की नींद गायब !

1302
टूटी सड़के

मधेपुरा (संजय कुमार सुमन) : कोसी नदी के जलस्तर में लगातार वृद्धि हो रही है। पानी के बढ़ने से भयावह स्थिति पैदा होने लगी है। जहां धनेशपुर से मोरसंडा तक जाने वाली मुख्य सड़क पर पानी के दवाब बढ़ने से सड़क टूट गई वहीं चौसा फुलौत के फरदापारी पुल पर पानी आर पार हो गया है। बाढ़ की स्थिति को देखते हुए लोगों की नींद गायब होने लगी है।पदाधिकारियों का दौरा जारी है लेकिन अब तक सरकारी सहायता उपलब्ध नहीं कराई जा सकी है। कई विद्यालयों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है। बच्चों एवं शिक्षकों के लिए विषम स्थिति पैदा हो गई है।koshixpress

बताया जाता है कि कोसी का पानी मोरसंडा,अमनी,महादलित टोला करेलिया मुसहरी,श्रीपुर बासा,परवत्ता,सिढ़ो बासा,करेल बासा,अनूपनगर नयाटोला,पिहोड़ा बासा,बड़ी खाल,बड़बिग्घी,झंडापुर बासा,पनदही बासा,घसकपुर,सपनी मुसहरी आदि गांवों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है। पानी बढ़ने से धनेशपुर से मोरसंडा तक जाने वाली मुख्य सड़क पर दवाब बढ़ने से कई स्थान पर कटाव की स्थिति बन गई है, जो कभी भी सड़क कट कर पानी के साथ बहाव में शामिल होे सकता है। इसी सड़क में मोरसंडा गांव के पास सड़क टूट कर पानी में बह गया। सड़क टूटने से कई इलाकों में पानी का प्रवेश कर गया है और दर्जनों किसानों का फसल पानी में डूब गया। चौसा फुलौत के फरदापारी पुल पर पानी आर पार हो गया है।

टूटी सड़के

लगातार बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों का दौरा जिला पदाधिकारी मु0सौहेल कर रहे हैं लेकिन अब तक पीड़ितो के लिए राहत की व्यवस्था नहीं की गई है। पानी आने से कई गांवों का आवागमन ठप्प हो गया है। प्रशासन की ओर से बाढ़ पीड़ितों के बीच सरकारी सहायता उपलब्ध नहीं कराने से लोगों की परेशानी और बढ़ती ही जा रही है। जिला पदाधिकारी के निर्देश पर प्रखंड विकास पदाधिकारी मिथिलेश बिहारी वर्मा,अंचल अधिकारी अजय कुमार,जिला परिषद रोहित सोरेन,अनिकेत मेहता ने भी बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों का भ्रमण कर स्थिति का जायजा लिया। बाढ़ पीड़ितों का कहना है कि पदाधिकारी से लेकर जनप्रतिनिधि तक कई बार दौरा कर चुके लेकिन अब तक हमलोगों के लिए कोई व्यवस्था तक नहीं की गई है।