नियोजित शिक्षकों का फोल्डर जमा नही करने वाले 19 नियोजन ईकाई पर एफआईआर दर्ज !

2775

सहरसा (ब्रजेश भारती) : प्रखंड के कुल 22 पंचायतों में से 19 पंचायतों के नियोजन ईकाईयों को शिक्षक नियोजन से संबंधित सभी नियोजित शिक्षकों के कागजात एवं मेघा सुची प्रखंड कार्यालय को उपल्बध नही कराया महगा पड़ा। शनिवार 30 जुलाई 16 को समय सीमा समाप्ती होने के साथ ही प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी चन्द्रकिशोर सिंह ने 19 नियोजन ईकाईयों के सभी सदस्यों पर माननीय उच्च न्यायालय के आदेश के अवहेलना का दोषी मानते हुये बख्तियारपुर थाना में मामला दर्ज करवा दिया हैं। जिन जिन नियोजन ईकाईयों के विरूद्ध मामला दर्ज किया गया है |

22 नियोजन ईकाईयों में 19 ने नही किया कागजात जमा,माननीय उच्च न्यायालय के आदेश के आलोक में बीईओं ने किया कार्यवाही

उनमें खजुरी,बेलवारा,काठो,माहम्मदपुर,सरोंजा,सिमरी,धनपुरा,तरियामा,भटौनी,पहाड़पुर,कठडुमर,बघबा,रायपुरा,खम्हौती,सरडीहा,घोघसम,माहखड़,सिटानाबाद उत्तरी एवं सोनपुरा पंचायत हैं।दर्ज प्राथमिकी में कहा गया है कि प्रधान सचिव पटना ने अपने पत्रांक 820 दिनांक 20 जुलाई 16 व जिला शिक्षा पदाधिकारी सहरसा के पत्रांक 1664-2 दिनांक 23 जुलाई 16 एवं बीईओं कार्यालय के पत्रांक 47 दिनांक 27 जुलाई 16 के द्वारा प्रखंड के सभी नियोजन ईकाईयों के पंचायत सचिवों को निर्देश दिया गया था कि बिना चुक किये 30 जुलाई 16 तक नियोजित शिक्षकों से संबंधित सभी कागजात एवं पंचायत मेधा सुची जमा कर दें लेकिन समय सीमा के अन्दर 19 पंचायत सचिवों ने फोल्डर जमा नही किया जिसके कारण इन लोगों पर प्राथमिकी दर्ज कि गई हैं। बख्तियारपुर थानाध्यक्ष महेन्द्र प्रसाद यादव से पुछे जाने पर बताये कि दिये गये आवेदन के आलोक में मामला दर्ज कर लिया गया दोषी पर कानुनी कार्यवाही कि जायेगी।

क्या है मामला

वर्ष 2006 में राज्य सरकार ने पंचायत के माघ्यम से शिक्षकों कि बहाली किया पंचायत नियोजन ईकाई का गठन कर किया।नियोजन ईकाई में पंचायत के मुखिया,पंचायत सचिव एवं वरीय शिक्षक की एक कमेटी बनाई गई थी। राज्य सरकार ने सभी नियोजित शिक्षकों के कागजात कि जांच निगरानी विभाग से कराने का निर्णय लिये जाने के बाद कागजात कि मांग कि गई थी जो अभी तक नही उपल्बध करायाी गई जिसके आलोक में ये कार्यवाही कि गई हैं।

कहीं गोलमाल तो नही

प्राथमिकी दर्ज करने के बाद शिक्षा विभाग सहित सभी नियोजन कमेटी में हड़कंप मच गया है वही सुत्रों से मिली जानकारी के अनुसार शिक्षक नियोजन में जमकर हुई धांधली की पोल खुलने की डर से दोषी लोग समहे हुये है। सुत्र बताते है कि तीन नियोजन ईकाई मोहनपुर,चकभारों एवं सिटानाबाद दक्षिणी ने पहले ही सभी कागजात निगरानी विभाग सहरसा को उपल्बध करा दिया है बाकी ईकाईयों में से कुछ ईकाई ने कागजात जमा किये है लेकिन वे अधुरे है।