सावन की पहली सोमबारी पर बाबा मटेश्वरधाम में हजारों श्रद्धालुओं ने किया जलाभिषेक !

3320

सहरसा (ब्रजेश भारती) : प्रखंड के प्रसिद्ध बाबा मटेश्वरधाम बलवाहाट कांठों में श्रावण मास कि प्रथम सोमवारी को हजारों श्रद्धालुओं ने बाबा भोले को जलाभिषेक किया वही सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडलाधिकारी सुमन प्रसाद साह ने फीता काट कर एक माह तक चलने वाले श्रावणी मेला का उद्धाघाटन किया | इस अवसर पर उन्होंने कहा कि यहां जो शिवलिंग है वह देश दुनिया में अदभुत हैं। प्रशासनिक पहल कर मंदिर परिषर को विकसित करने कि जरूरत है साथ ही पर्यटन विभाग को भी इस मंदिर कि ओर घ्यान आर्कषित करने कि जरूरत हैं।

उमड़ी भक्तो की भीड़
उमड़ी भक्तो की भीड़
उद्घाटन करते एसडीओ सहित अन्य
उद्घाटन करते एसडीओ सहित अन्य

वही एक मास तक चलने वाले मेले पर कहा कि मेले से आपसी भाई चारे का विकास होता है साथ ही आज कि भगदौर कि जिंदगी में मेले से मनोरंजन भी प्राप्त होता हैं। इससे पूर्व रात 12 बजे के बाद मंदिर का द्वार खुलते ही मुंगेर के छर्रापटटी से जलभर कर 109 किलोमीटर पैदल चलकर आये डाकबम कांबरियों ने जलाभिषेक किया लगभग 10 हजार डाकबम कांबरिया के जलाभिषेक करने का अनुमान लगाया गया हैं। वही 50 हजार से अधिक सामान्य श्रद्धालुओं के द्वारा जल चढ़ाने का अनुमान लगाया गया।

उद्वधाटन के मौके पर अंचलाधिकारी धमेन्द्र पंडित, बख्तियापुर पुलिस सर्किल इन्सपेक्टर आरके शरण,बलवाहाट थानाध्यक्ष सुमन कुमार,कमेटी के जितेन्द्र सिह बधेल,प्रसुन सिह,रामचन्द्र मुखिया,कृत नारायण सिह,शिव नारायण राय,चन्द्र्रकिशोर यादव,नरेश सिह,रामाधार सिह,शिवेन्द्र साह,मुन्ना भगत,भवेश ठाकुर,दीपक कुमार सिह आदि मौजूद थे।koshixpresskoshixpress

मुंगेर जिले के छर्रापटटी से जल भरते है कांबरिया

मुंगेर जिले के छर्रापटटी जलभर कर सहरसा मानसी रेलखंड के अलावे अन्य रास्तों से करीब 109 किलोमीटर कि यात्रा कर डाकबम एवं कांबरिया यहां जलाभिषेक के लिये आते हैं। छर्रापटटी से जलभर कर आने वाले कांबरियों के सेवा के लिये फनगों हाल्ट से कोपरिया गांव सलखुआ सैनीटोला चौक सहित करीब एक दर्जन स्थानों पर ग्रामीणों के द्वारा स्टाल लगाया जाता हैं।

स्वयं अकुरित है शिवलिंग

बाबा मटेश्वरधाम का अनोखा शिवलिंग स्वंय अंकुरित हैं।यह शिवलिंग 14 वीं शताब्दी कि बताई जा रही हैं।समतल जमीन से करीब 40 फीट उंचाई पर यह मंदिर स्थापित है शिवलिंग कि मोटाई करीब 4 फीट हैं। शिवलिंग के चारों ओर करीब एक इंच खाली स्थान है जिनमे पानी भरा रहता है गर्मी के मौसम में खाली स्थान में पानी का स्तर उपर चला आता है वही बरसात में नीचे चला जाता हैं।

डाक बम
डाक बम
दंड प्रणाम कर बाबा दरवार में जाते श्रद्धालु
दंड प्रणाम कर बाबा दरवार में जाते श्रद्धालु

प्रशासनिक उपेक्षा का शिकार बना है मंदिर

उत्तर बिहार का मिनी बाबा धाम का रूप ले चुका यह मंदिर अभी तक प्रशासनिक उपेक्षा का शिकार बना हुआ है आज भी सरकार कि ओर से कोई सहायता मंदिर को नही मिल रहा है स्थानिय लोग एवं मंदिर कमेटी ही यहां मेले का आयोजन करती है साथ ही मंदिर के रख रखाव में भी सहयोग से ही काम होता हैं।