अगर रेल प्रशासन सजग रहती तो नही होता सहरसा-मानसी रेलखंड बाधित !

1551
फनगो के पास चल रहा कार्य

सहरसा (ब्रजेश भारती) : पिछले कई दिनों से नेपाल के तराई व पहाडी ईलाकों के अलावा उत्तर बिहार में लगातार हो रही मानसुन के बारिश कि बजह से कोशी के जलस्तर में भारी बृद्धि के कारण सहरसा मानसी रेलखंड पर पानी का दबाव बन गया जिसके कारण रविवार को समस्तीपुर मंडल के डीआरएम सुधाशु शर्मा ने रेल परिचालन तीन दिनों के लिये बंद कर दिया। पिछले 15 दिनों से विभिन्न समाचार पत्रों के माध्यम से रेलप्रशासन को आगाज किया जा रहा था कि इस रेलखंड पर कभी भी पानी के दबाव के कारण रेलपरिचालन बाधित हो सकता है लेकिन रेलप्रशासन अपनी कुंभकर्णी से जगने का नाम नही ले रही थी शनिवार को डीआरएम ने जब स्वंय कटाव स्थल का निरक्षण किया तो यात्री सुरक्षा नजर आने लगी और रेलपरिचालन बंद करने कि धोषणा कर दी।koshixpresskoshixpress

  • कटाव निरोधी कार्य पर प्रत्येक वर्ष करोड़ों रूपये कोशी के पानी में बहाया जा रहा हैं।

प्रत्येक साल परिचालन पर पड़ता असर

जब से छोटी लाईन से बड़ी लाईन बना है तब से ही फनगों हाल्ट के बीच नदी का कटाव होता रहा है जब पानी का स्तर कम होता है तो रेलप्रशासन कुछ नही करती पानी का स्तर बढ़ जाने के बाद कटाव निरोधी कार्य शुरू किया जाता हैं। स्थानिय ग्रामीणों का कहना है कि ठीकेदार व रेल अधिकारी कि मिलीभगत के कारण कभी रेलवे के अधिकारी कटाव का स्थाई निदान करना ही नही चाहती हैं एक बार स्थाई निदान हो जायेगा तो भी कटाव का खेल कैसे होगा यही कारण है कि प्रत्येक साल करोड़ों कि रशि पानी में बहा दी जाती हैं।koshixpress

koshixpress
बोल्डर के प्रयोग पर उठ रहा सवाल

रविवार को रेलपरिचालन के बाद 29 बैगन बोल्डर कटाव स्थल पर लाया गया कहने को तो 29 बैगन बोल्डर लाया गया लेकिन किसी भी बैगन में 200 पीस बोल्डर नही देखा गया वही स्थानिय जिप सदस्य ओमप्रकाश नारायण ने वहां मौजूद इंजिनियर को बताया कि बोल्डर डालकर कटाव रोकने का फामूर्ला सही नही है चुकि एक एक बोल्डर डालने से नदी का पानी उसे बहा ले जाती है साथ ही केरेटिंग भी कुछ देर के लिये कटाव को रोक देती है लेकिन कोशी नही अपनी रोद्र रूप् के लिये जानी जाती है जब वह अपना उस रूप में आ जाती है तो सभी केरेटिंग बोल्डर को भी बहा ले जाती हैं। WhatsApp-Image-20160724 (8)koshixpress

उठने लगी स्थाई निदान कि मांग

रविवार को रेलपरिचालन बद हो जाने के बाद नेतओं का कटाव स्थल पर पहुंचने का शिलसिला शुरू हो गया पूर्व जिप उपाध्यक्ष रितेश रंजन ने कटाव स्थल पर मौजूद डीआरएम से बार्ता कर कहा कि अगर तीन दिनों के अन्दर परिचालन शुरू नही हुआ एवं इसका स्थाई निदान कि ओर कोई ठोस कदम नही उठाया गया तो वे धरणा प्रर्दशन कर अपनी बात को रखने का काम करेंगें।koshixpress

koshixpress
रेल परिचालन से बड़ी आबादी हुआ प्रभावित

रेल परिचालन बंद होेने के साथ कोशी का सीधा सम्र्पक राज्य कि राजधानी से भंग हो गया है लगभग 90 लाख कि आबादी प्रभावित हुई हैं।इससे पूर्व कोशी का सीधा सड़क सम्र्पक डुमरी पुल के टुट जाने के कारण पहले से ही प्रभावित है ऐसे में रेल पर निर्भर था ईलाका लेनिक वह भी खत्म हो गया हैं।