60 हजार में सुपारी देकर बाप ने करायी बेटी की हत्या,ऑनर किलिंग से दहला इलाका !

1854

मधेपुरा (संजय कुमार सुमन) : बीते 3 जुलाई को चौसा प्रखंड के खलीफा टोला से बेहोशी की हालत में लाई गई गुड़िया कुमारी के साथ हुए हादसा का खुलासा आखिरकार हो ही गया ।लड़की को प्यार करना,वह भी किसी दूसरी जाति के लड़के से ना केवल मंहगा पड़ा बल्कि इसकी कीमत उसे अपनी जान गंवाकर चुकानी पडी ।पिछले तीन जुलाई को एक पिता ने अपने मान और सम्मान को लेकर बेटी की जान की कीमत 60 हजार रूपये लगाई और उसकी हत्या कराने की सुपारी दे डाली ।

  • गुड़िया की हत्या ने समाज के क्रूर चेहरे को किया वेपर्दा

आप को याद होगा जब हमने चौसा के एक पोखर में घायल मिली लड़की की कहानी को प्रमुखता से उठाया था ।यही नहीं,उसी समय हमने ये बात भी उठाई थी की लड़की की मौत सहज नहीं बल्कि ऑनर किलिंग से जुड़ा यह हत्या का मामला हो सकता है ।मधेपुरा जिला के सीमावर्ती चौसा थाना क्षेत्र के अरजपुर पश्चिमी पंचायत के खलीफा टोला के पोखर में 03 जुलाई की सुबह एक अज्ञात लड़की बेहोशी की हालत में मिली थी जिसे गला दबा कर मारने का प्रयास किया गया था ।बाद में पता चला था की उसे जहर भी खिलाया गया था ।5 दिनों तक जिंदगी और मौत से जूझने के बाद आखिरकार उसकी मौत डीएमसीएच में हो गई थी ।

गुड़िया (फाइल फोटो)
गुड़िया (फाइल फोटो)
  • झूठी शान में हुयी गुड़िया की ह्त्या

शुरूआती समय में,गुड़िया की मौत सभी के लिए एक रहस्य बना हुआ था ।लेकिन 20 दिन बाद पुलिस ने इस रहस्य पर से पर्दा उठा दिया है ।और अब जो सच्चाई सामने आई है,वह ना केवल चौंकानेवाली बल्कि रोंगटे खड़े करने वाली है । गुड़िया के बारे में बताया गया की वो फ़रवरी 2016 को घर से अपने कथित प्रेमी गजेन्द्र के साथ भाग गई थी ।महीनों बाद 04 जून को वो वापस अपने घर आई लेकिन 21 जून को वो फिर अपने घर से गायब हो गई ।लेकिन इस बार वह सही सलामत वापिस नहीं आई बल्कि 03 जुलाई को बेहोशी की हालत में चौसा थाना क्षेत्र के खलीफा टोला के पास सड़क किनारे पोखर में फेकी मिली ।गुड़िया जिंदगी और मौत के बीच झूल रही थी ।गुड़िया को बचाने की भरपूर कोशिश हुयी लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका ।गुड़िया की मौत की गुत्थी अनसुलझी थी ।लेकिन पुलिस हर तरह की जांच में जुटी हुयी थी ।आखिरकार पुलिस ने सच को बेनकाब कर ही दिया ।अब पुलिस को दिए बयान में गुड़िया के पिता ने बताया की गुड़िया के बार-बार घर से भागने से समाज में उनकी प्रतिष्ठा पर असर हो रहा था इसलिए उन्होनें अपने रिश्ते के एक साले को 60 हजार में गुड़िया को मारने की सुपारी दे दी ।

  • प्रेम में गुड़िया ने गंवाई जान

गुड़िया बचपन से शंकरपुर थाना क्षेत्र में अपने-नाना–नानी के साथ रहती थी ।बताया जाता है की उसी गाँव के दूसरी जाति के उसके एक सहपाठी से उसके मधुर संबंध थे और धीरे–धीरे वह उसके प्रेमपाश में समाती चली गयी ।मिले साक्ष्य के मुताबिक़ गुड़िया ने अपने आधार कार्ड बनवाने के लिए अपने प्रेमी के मोबाईल नंबर का इस्तेमाल किया था ।बाद में कथित प्रेमी के साथ गुड़िया का यह प्रेम प्रसंग परिवार वालों को नागवार गुजरा । जब गुड़िया गंभीर हालत में अस्पताल लाई गई थी तो उसने पुलिस को अपनी कुछ पहचान भी बतायी थी लेकिन गला दबने के कारण गुड़िया कुछ बोल नहीं पा रही थी इसलिए कुछ स्पष्ट नहीं हो रहा था ।जाहिर तौर पर पुलिस को भी अनुसंधान में परेशानी हो रही थी ।फिर भी,पुलिस वालों ने दो दिन बाद उसके परिवार का पता लगा ही लिया और उससे संपर्क किया ।लेकिन परिवार वाले गुड़िया से मिलने से कतरा रहे थे ।पुलिस के दबाव में वे गुड़िया से मिलने तो पहुंचे लेकिन गुड़िया की हालत बिगड़ती गई और आखिरकार 5 दिन बाद डीएमसीएच में उसकी मौत हो गई । गुड़िया की मौत के बाद पुलिस ने गुड़िया के पिता के बयान पर उसके कथित प्रेमी और अन्य 03 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था ।लेकिन अब सारा धुंध छंट चुका है और पुलिसिया अनुसंधान में यह मामला ऑनर किलिंग का निकला है ।पुलिस ने मृतक गुड़िया के पिता नवल किशोर यादव और रिश्ते में लगने वाले सुपारी किलर मामा शंकर यादव को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है ।

बेटी की सुपारी देने वाला पिता
बेटी की सुपारी देने वाला पिता
  • ऑनर किलिंग से दहला इलाका

उक्त मामले की जानकारी देते हुए ए.एस.पी.राजेश कुमार ने बताया की मुख्य आरोपी अभी भी फरार चल रहा है जिसने इस घटना को अंजाम दिया है ।जल्द ही उसे भी पकड़ कर जेल भेजा जाएगा ।इस दौरान सदर थानाध्यक्ष मनीष कुमार और चौसा थानाध्यक्ष सुमन कुमार सिंह भी मौजूद थेएएसपी ने बताया कि उक्त कांड के अन्य अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए छापामारी जारी है

गुड़िया के पिता ने क्या कहा 

गुड़िया के पिता ने बताया कि मधेली के गजेन्द्र शर्मा ने गुडिय़ा को अपने प्रेम जाल में फंसाकर अपने दोस्त विजेन्द्र शर्मा एवं पप्पू शर्मा के साथ मार्च में अपहरण कर लिया। चार जून को गुड़िया मधेली वापस आई। पूछने पर उसने कुछ नहीं बताया। जब गुडिय़ा की शादी किसी अन्य जगह की बात किया जाने लगा तो वह फिर भाग गयी। उसके बाद अपने साला शंकर यादव एवं फुफेरे साला झिटकिया निवासी संजय यादव से कहा कि बहुत बेइज्जती हो चुकी है। अब गुड़िया को जाने से मरवा देना है। पंजाब से कमा कर संजय यादव को गुड़िया की हत्या के लिए 60 हजार रुपये दिया। जून माह के अंत में गुडिय़ा वापस आयी तो संजय यादव लेकर उसे झिटकिया अपने गांव चला गया। दो जुलाई को उसकी हत्या की योजना के तहत वाहन से गुडिय़ा को संजय यादव एवं अन्य के द्वारा विजय घाट की ओर ले जाया गया। काफी तेज बारिश के कारण गाड़ी चौसा फोरलेन के पास फंस गई। उसी जगह गुडिय़ा को जहर खिला, गला दबाकर उसे मृत समझ संजय यादव सहित अन्य के द्वारा फेंक दिया गया। संयोग से वह तत्काल बच गई। और उसे उठाकर अस्पताल लाया गया।

गुड़िया के रिश्ते के मामा
गुड़िया के रिश्ते के मामा
  • 60 हजार में सुपारी देकर बाप ने करायी बेटी की हत्या

गुड़िया अब इस दुनिया में नहीं है ।लेकिन समाज से वह कई सवाल कर रही है ।क्या उसे अपने तरीके से जीने का हक नहीं था ?उसकी ख़ुशी से ज्यादा उसके घर वालों को आखिर किस सम्मान की भूख थी ?आखिर जाति और धर्म की दीवार कब धराशायी होगी ?जिसने पैदा किया आखिर उसने ही दरिंदगी से उसे क्यों मार डाला ?हमारे समाज में लड़के और लड़की के प्यार और मुहब्बत से लोग नफरत करते हैं,यह घटना उसकी बानगी है ।यही नहीं,गुड़िया की मौत हमारे समाज की उस सोच को भी बयाँ करती है,जहाँ जाति और परम्परा के बंधन में जकड़े लोग ना तो प्रेम को पचा पाते हैं और ना ही अंतरजातीय प्रेम संबंध को स्वीकार करना ही चाहते हैं ।जाहिर तौर पर,आज के इस दौर में,प्यार करना गुड़िया के लिए इतना मंहगा साबित हुआ की उसकी ईहलीला ही खत्म कर डाली गयी ।

समाज में झूठी शान की बलि चढ़ गयी गुड़िया ।हद तो यह है की ऑनर किलिंग की घटना अब सभ्य और विकसित समाज में भी ना के बराबर ही देखने को मिलती है लेकिन बिल्कुल रिमोट इलाके में जहां विकास भी ठीक से नहीं पहुंचा है,वहाँ इस तरह की घटना,निश्चित रूप से सकते में डाल रहा है ।प्यार करने वाले हो जाओ होशियार और खबरदार….मौत तुम्हारा पीछा कर रही है ।