कोसी नदी के जलस्तर में उतार-चढ़ाव जारी ,जिलाधिकारी एवं विधायक ने किया निरीक्षण !

1831
जिलाधिकारी बैधनाथ यादव,, निर्मली विधायक अनिरुद्व प्रसाद यादव सहित अन्य

सुपौल (kx डेस्क) : नेपाल में लगातार हो रही बारिश की वजह से कोसी नदी के जलस्तर में उतार-चढ़ाव जारी है, वहीं सुपौल के निर्मली, मरौना, किसनपुर, सुपौल सदर व सरायगढ़ प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न स्थानों पर तटबंध व स्परों में कटाव तेज हो गया है। जबकि बाढ़ की चपेट में अब तक चार सौ से अधिक परिवारों के घर कोसी नदी में विलीन हो चुके है। प्रभावित इलाके के लोग विभिन्न परेशानियों के बीच जीवन-यापन कर रहे है। बाढ़ को लेकर सुपौल जिलाधिकारी बैधनाथ यादव, निर्मली विधायक अनिरुद्व प्रसाद यादव सहित विभिन्न विभागों के आलाधिकारियों ने मरौना प्रखंड के अतिसंवेदनशील घोघरड़िया पंचायत स्थित मंगासिहौल गांव में पहुंचकर गुरुवार को तटबंधों,स्परों व बाढ़ राहत स्थलों का निरीक्षण किया|koshixpress

सुपौल के 36 पंचायत व 130 गांव में बाढ़

बाढ़ प्रभावित इलाके में निरीक्षण करने पहुंचे डीएम बैधनाथ यादव के समक्ष पीड़ित परिवारों ने प्रशासनिक स्तर पर की जा रही अनियमितता को ले कर शिकायत भी की, लिहाजा डीएम ने आपदा के मद्देनजर अधिकारियों को सख्त निर्देश जारी किया है, बता दें कि जिला प्रशासन के मुताबिक सुपौल के कुल 36 पंचायत स्थित 130 गांव बाढ़ से प्रभावित है।

वहीं इन बाढ़ प्रभावितों का जायजा लेने पहुंचे निर्मली विधायक अनिरुद्ध प्रसाद यादव ने भी बाढ़ राहत शिविर में कमियां होने की बात स्वीकार की है, उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों के द्वारा ससमय सकारात्क कार्यों के निष्पादन करने हेतु बिहार सरकार के नेतृत्व में पीड़ितों को हरसंभव सहायता दिलाने का भरोसा दिया है।koshixpress

निरीक्षण के दौरान डीएम ने भी जताई चिंता

निरीक्षण के दौरान प्रभावित पीड़ित परिवारों की स्थिति देख डीएम ने भी चिंता जताई और संबंधित विभाग के अधिकारियों को मोबाइल पर फटकार भी लगाई, वही राहत शिविर में खाद्यान विभाग के द्वारा चावल देने से इंकार किये जाने के बाद उत्पन्न समस्या को लेकर डीएम ने स्थानीय एवं विभागीय उच्चाधिकारी से भी बात की जिला प्रशासन भी इस आपदा को लेकर काफी  गंभीर है |

सुपौल डीएम एवं  विधायक ने निरीक्षण के दौरान अधिकारियों को कई दिशा निर्देश देते हुए कहा कि आपदा के मद्देनजर एक भी अनियमितता अथवा लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी, सरकार का खजाना सर्वप्रथम आपदा प्रभावितों के लिए खुला हुआ है। किसी भी प्रकार की चूक होने पर संबंधित विभाग के अधिकारियों पर भी गाज गिरेगी।

मौके पर पूर्व विधायक दिलेश्वर कामैत, निर्मली एसडीओ अरुण कुमार सिंह, डीसीएलआर सुधांशु शेखर, डीएसपी संतोष कुमार, मरौना बीडीओ सुशील कुमार, सीओ कृष्ण कुमार यादव, थानाध्यक्ष अजीत कुमार सहित दर्जनों अधिकारी व पुलिस बल मौजूद थे।

(रिपोर्ट- विष्णु /सुपौल )