शिक्षकों ने आमने सामने होकर शिक्षा मंत्री का किया विरोध !

1033

सुपौल (kx डेस्क) : सेवा शर्त प्रकाशन,समान काम का समान वेतन,अप्रशिक्षित शिक्षकों को ग्रेड पे,सभी अप्रशिक्षित शिक्षकों को एक साथ दो वर्षीय प्रशिक्षण ,लंबित वेतन का भुगतान,अंतर वेतन का भुगतान, विद्यालयों मे पुस्तक और स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता,विषयवार शिक्षक,समान शिक्षा प्रणाली लागू करने,शिक्षकों को गैर शैक्षणिक कार्य से मुक्ति सहित अन्य समस्याओं को लेकर बिहार पंचायत-नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ सुपौल ने शिक्षा मंत्री के पद यात्रा का भीक्षाटन यात्रा और काला झंडा दिखाकर आमने सामने हो कर विरोध किया।koshixpresskoshixpress

जिला अध्यक्ष पंकज कुमार सिंह के नेतृत्व में निकले भीक्षाटन यात्रा कि वजह से शिक्षा मंत्री एवं उनके समर्थकों  और शिक्षकों के बीच धक्का मुक्की तक की नौबत आ गयी |जिला अध्यक्ष श्री सिंह ने कहा की 31 मार्च के महाधरना पश्चात बिहार पंचायत-नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ के शिष्टमंडल और शिक्षा मंत्री के बीच घंटों वार्ता उपरांत शिक्षा मंत्री ने आश्वस्त कराया था कि सेवा शर्त का प्रकाशन तीन माह के अंदर किया जाएगा तथा ससमय प्रति माह वेतन भुगतान किया जाएगा लेकिन तीन माह से अधिक होने के बाद भी सेवा शर्त सहित अन्य समस्याओं का समाधान नही किया जाना,दूर्भाग्यपूर्ण है।बोले कि एक तरफ चार माह से शिक्षकों को वेतन भुगतान नही होने से भयानक आर्थिक संकट उत्पन्न हो गया है,जिस वजह से शिक्षक आत्महत्या पर उतारु हो रहे हैं तो दूसरे तरफ तानाशाह शिक्षा मंत्री पद यात्रा कर राजनीति कर रहे है।सरकार के गलत शिक्षा नीति के चलते शिक्षा और शिक्षक दोनों तबाह हो रहे हैं।उन्होंने कहा की आज बिहार के शिक्षा और शिक्षकों के सम्मान को बचाने के लिए बिहार पंचायत-नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ हर जिलों में शिक्षा मंत्री के पद यात्रा का विरोध करेगी और कर रही है ।koshixpresskoshixpress

इस मौके पर जिला उपाध्यक्ष श्रवण चौधरी,जिला कोषाध्यक्ष अनिल कुमार,जिला संयुक्त सचिव मो जहाँगीर,शारदा सोनी,नीरज कुमार सिंह,रश्मि राजेंद्र,संजीव कुमार,दीपक पासवान,बिजय कुमार भारती,राकेश रंजन,एहतेशामूल हक,,अफसाना परवीन,निसार अहमद,राजीव झा,पंकज कुमार,अमित दत्त,सोनु झा,प्रमानंद प्रभाकर,संतोष मंडल,मनोज मंडेला,जवाहर कुमार,राजकुमार शर्मा,मिथलेश कुमार,रंजीत उराँव,प्रशांत झा,प्रदीप चौधरी,आशुतोश कुमार,शहनवाज अख्तर,राजीव कुमार,गुणानंद सिंह सहित सैकड़ों शिक्षक मौजूद थे।