कह गया अलविदा,युवा कलम का सिपाही सुदीप !

1116

सहरसा (kx डेस्क) : वह युवा था,खूबसूरत, बहादुर और लेखनी का जादूगर भी था ।अपनी लेखनी के हुनर और जौहर से खबरों में जान डालना उस शगल था ।युवा पाठकों के दिलों पर वह राज करता था ।जी हम बात कर रहे हैं दैनिक जागरण ग्रुप पटना के आई नेक्स्ट के सीनियर पत्रकार सुदीप सिन्हा की जो अब हम सबों के बीच नही रहे ।

आई नेक्स्ट में छपी उनकी रिपोर्ट
आई नेक्स्ट में छपी उनकी रिपोर्ट

सहरसा के कायस्थ टोला निवासी गोपाल कृष्ण सिन्हा के पुत्र सुदीप सिन्हा(35 वर्ष ) का निधन सोमवार को पटना में ईलाज के दौरान हो गया ।प्राप्त जानकारी के अनुसार युवा पत्रकार सुदीप कई वर्षो से डायबिटीज के मरीज थे ।गत दिनों अत्यधिक बीमार पड़ने के बाद इन्हें पटना के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था,जहां वे सोमवार को इस दुनिया को अलविदा कह गए ।

स्याही से जो रंग उकेरे थे,छोड़ गए आधे-अधूरे

प्रकाश झा से वार्ता करते सुदीप (फाइल फोटो)
प्रकाश झा से वार्ता करते सुदीप (फाइल फोटो)


जानकारी के अनुसार सुदीप सिन्हा का बचपन सहरसा जिला मुख्यालय के न्यू कॉलोनी में ही बीता ।उस वक़्त सुदीप सिन्हा के पिता गोपाल कृष्ण सिन्हा कमिश्नरी ऑफिस में कार्यरत थे ।बाद में सेवानिवृत के बाद कायस्थ टोला में सेवानिवृत पिता ने अपना घर बना लिया और सभी वहीँ रहने लगे ।तीन भाई–बहन में सुदीप मंझले थे और सभी को बेहद प्यारे थे ।सुदीप बचपन से ही निडर,मिलनसार और काफी तेज तर्रार थे ।पत्रकारिता में अभी उन्हें कई सीढियां चढ़नी थी ।कई अनोखे और ऐतिहासिक काम करने थे ।लेकिन उनके तमाम हौसलों को ब्रेक लग गया और एक सितारा झटके में हम सभी को छोड़ गया ।koshixpress

युवा तेजतर्रार इस पत्रकार की असमायिक निधन से पूरा इलाका मर्माहत है ।इलाके के पत्रकारों ने शोक व्यक्त करते हुए दिवंगत पत्रकार की आत्मा की शान्ति के साथ–साथ इस दुःख को सहने की अकूत ताकत उनके परिजनों को मिले,इसकी कामना ईश्वर से की है ।