देशद्रोही को रहने के लिए हिन्दुस्तान में एक इंच भी जगह नहीं मिलनी चाहिए !

603

kx डेस्क : कल से मैँ काफी परेशान हुँ तरह तरह के ख्याल मेरे मन मेँ आ रहा है देश के अंदर घिनौनी सियासत का खेल कुछ पापियोँ के द्वारा शुरु किया जा रहा है तभी तो जेएनयु से शुरु हुए पाकिस्तान जिँदाबाद के नारे कश्मीर बंगाल के बाद अब बिहार की राजधानी पटना कारगिल चौक पर भी पाकिस्तान जिँदाबाद की गुँज क्या  साबित करना चाहती है |किसने आदत लगाई नापाक देश के नाम के नारे लगाने की वो भी अपने मुल्क हिन्दुस्तान मेँ कब तक अपने देश मेँ नापाक देश के नारे ये सब निकलता रहेगा आखिर कब तक,इसका जिम्मेदार कौन |जेएनयू के अंदर से पहले पाकिस्तान जिँदाबाद के गुँज बाहर निकला उस नापाक नारे की गुँज ने कुछ नपाक को भी भोँकने की आजादी दिला दिया आजाद भारत मेँ पाकिस्तान जिँदाबाद के नारे लगाने की आजादी दोगले को चाहिए मुझे तो शक होने लगा है ऐसे लोगोँ पर कहीँ ये लोग देश को कमज़ोर करने का ठेका तो नहीँ ले लिया है ऐसे लोगोँ पर तुरंत कार्यवाही होनी चाहिए, अगर ऐसे लोग देश को कमज़ोर करने का ठेका ले रखा है तो ऐसे लोग को ठेका के बदले पहले ठोक देना चाहिए अफसोस के साथ साथ रोना भी आता है कितना ज़मीर गीरा लिया है आज के नेता,शायद हमसे बेहतर पुरा देश जान चुकी है तभी तो टोपी वाले नारा लगाते हैँ तो नेता देश की चिँता छोङ कर सेक्युलर नेता बनने की जुगाङ मेँ भीङ जाते हैँ,जेएनयु मेँ देश विरोधि नारा लगाते हैँ तो गिरफ्तारी के खिलाफ सेक्युलर का चोँगा बदल कर केँद्र को मजबुर करने मेँ लग जाता है आखिर ऐसे मेँ हमारा देश कैसे मजबुत बनेगा|

अगर ऐसा ही खेल चलता रहा तो आने वाले दिनोँ मेँ इस तरह के घटिया नापाक नारे लगते रहेँगे और राज नेता इस पर गंदी सियासत करते रहेंगे , आखिर देशद्रोही को जब गिरफ्तार किया जाता है तो लोग उनके पक्ष मेँ क्योँ आ जाते हैँ| लोग के साथ साथ राज्य की सरकार भी देशद्रोही को सुरक्षा मुहैया करा देती है आखिर क्योँ ये सब खेल आगे और कब तक चलेगा| राजनीती जरुर हो एक दुसरे का विरोध जरुर हो पर इसका मतलब ये तो नहीँ के देश विरोधि नारा लगाए हम हाथ पर हाथ रख कर चुप बैठे रहेँ,देश के विरोध मेँ नारा लगाने वाले का विरोध खुलकर करेँ जब देश ही सुरक्षित नहीँ रहेगा फिर हिन्दु मुस्लिम सिख, ईसाइ किस काम का हम तो कहते हैँ देशद्रोही नारा लगाने वाले जो कोई हो जिसे अपने वतन से प्यार नहीँ वैसे देशद्रोही का जीभ काट कर टुकङे टुकङे कर कुत्ते को खिला देना चाहिए और देशद्रोही के समर्थन करने वाले को कङी से कङी सजा मिलनी चाहिए,अंत मेँ एक बात और बोल ही देता हुँ सबसे बङा दोसी अपने आपको सेक्युलर समझने वाले नेता है अगर नहीँ था तो देशविरोधि नारे लगाने वाले को सरकार गिरफ्तार किया तो ऐसे लोग देशबिरोधि के बचाव मेँ कियोँ आ गये, आज देख लीजिए जिस राज्य ने बचाव मेँ आया पाकिस्तान जिँदाबाद के नारे वहीँ गुँज उठी अब देशद्रोही के बचाव मेँ आगे आने वाले नेता बताएँ अब भी समझदारी आया की नहीँ अगर थोङी भी अपने वतन से मुहब्बत है तो खुलकर ऐसे देशद्रोही के खिलाफ आवाज बुलंद करेँ तभी देश बचेगा और जनता का भला होगा ये देश एक ही पार्टी की नहीँ जो बेचारी अकेले देशद्रोही से लङता रहे आप सबका भी उतना ही फर्ज है जितना  केँद्र सरकार का है इसलिए देशद्रोही और आतंकी का खुलकर विरोध करेँ… जय हिन्द|

आपका मित्र इफ्फतुर रहमान स्वतंत्र भारतीय नागरिक बेगूसराय बिहार  

श्रोत-( इफ्फतुर रहमान के ब्लॉग से )