अज्ञात लड़की बेहोश मिली : जाको राखे साइयां मार सके ना कोय !

2919

मधेपुरा (संजय कुमार सुमन) : ‘जाको राखे साइयां मार सके ना कोय’ चौसा प्रखंड के अरजपुर पश्चिमी पंचायत के खलीफा टोला पोखर में आज अहले सुबह एक लड़की को फेंका पाया गया। लड़की को देखते ही बात आग की तरह फैली और देखने वालों की भीड़ लग गई। जब स्थानीय लोगों ने लड़की के पास जाकर देखा तो लड़की बेहोश अवस्था में थी और वो दर्द से कराह रही थी। ग्रामीणों ने घटना की सूचना चौसा पुलिस को दी और लड़की को इलाज के लिये चौसा अस्पताल लाया गया। प्रथम दृष्टया देखने से ऐसा प्रतीत होता हैं कि लड़की के साथ कुछ गलत काम कर उसे गला दबा कर हत्या करने के उद्देश्य से पोखर में फेंक दिया गया था। लड़की की पहचान नहीं हो पाई है और बेहतर इलाज के लिए मधेपुरा सदर अस्पताल भेज दिया गया है। घटना को लेकर तरह-तरह की चर्चा जोरों पर है।

घायल लड़की
घायल लड़की

बताया जाता है कि चौसा विजयघाट मुख्य सड़क से सटे खलीफा टोला पोखर में एक लड़की को आज रविवार को अहले सुबह फेंका पाया गया। जब कुछ लोग अपने खेत की ओर जा रहे थे तो किसी लड़की के चिल्लाने की आवाज सुनाई दी। ग्रामीण पप्पू कुमार सिंह,अरूण सिंह,,प्रकाश सिंह,सुबोध यादव,चन्द्रिका यादव,निरंजन यादव,जयप्रकाश मंडल ने बताया कि चिल्लाने की आवाज पर जब पोखर के पास गये तो देखा कि एक लड़की तड़प रही है। लड़की की उम्र करीब 18 साल बतायी जाती है। इसकी सूचना चौसा पुलिस को दी। लड़की के फेंके जाने की सूचना क्षेत्र में आग की तरह फैल गई और देखने वालों का तांता लग गया। चौसा पुलिस ने ग्रामीणों के सहयोग से लड़की को चौसा अस्पताल में भर्ती कराया।koshi

चिकित्सा पदाधिकारी डा0यूएन दिवाकर ने प्राथमिक उपचार किया और लड़की की स्थिति अत्यन्त ही दयनीय होने के कारण बेहतर इलाज के लिए मधेपुरा सदर अस्पताल भेज दिया। चिकित्सक सूत्र की माने तो लड़की के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया है और जान मारने की नियत से गला घोंट कर फेंक दिया गया।
लड़की के गले एवं दोनों गाल पर गहरे निशान देखें गये। लड़की हालत अत्यन्त ही गंभीर है। वो कुछ बोल नहीं पा रही है। धटना को लेकर क्षेत्र में तरह-तरह की चर्चा जोरों पर है।
थाना अध्यक्ष सुमन कुमार सिंह ने कहा कि फिलहाल घटना के बारे में कुछ नही बताया जा सकता है। जब तक लड़की की पहचान नहीं हो जाती है।