युवा तुर्क पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर पर पूर्व सांसद आनंद मोहन की दो टूक !

5170
पूर्व प्रधानमंत्री के साथ पूर्व सांसद (फाइल फोटो)

चन्द्रशेखर……..

चन्द्रशेखर जी अब नहीं रहे । हम सभी उनकी 89 वीं जयंती मना रहे है । उनके निधन से एक राजनीतिक युग का अंत हो गया है । एक प्रखर और स्पष्टवक्ता चन्द्रशेखर पहले पूरे देश में युवा – तुर्कके नाम से जाने गए और बाद में विचारोंवाली राजनीतिक धारा के अंतिम राजनेता बनकर उभरे । ठेठ गवई अंदाज , धोती , कुरता , चप्पलवाले , साधारण लिवास , बिन सवारे बाल , खिचड़ी दाढ़ी , अलमस्त चाल , मजबूत कद – काठी , आकर्षक व्यक्तित्व , आम और खास दोनों से बगैर बनावटी औपचारिकता बातचीत की बेवाक शैली … देशवासियों , खासकर ग्रामीण भारत से जुड़ाव उनकी विशिष्टता थी । वे भारतीय राजनीति के उन पुरोधाओं में थे , जिन्होंने राजनीति अपनी शर्तों पर की । शुद्ध बलियावी ठसक के साथ ।

padyatra2सुविख्यात समाजवादी चिंतक मधु लिमये ने चन्द्रशेखर को धोती , कुरता , चप्पलवाला अक्खड़ प्रधानमन्त्री बतलाया । शपथ या विदेश दौरों के लिए जिन्होंने रातों – रात शूट या शेरवानी नहीं बनवाई । राष्ट्रीय – अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर जिसने पढ़ कर भाषण नहीं किया । जब जो अंदर मन ने कहा , वही बाहर रखा । वे ‘ पोलिटिशियन ‘ नहीं ‘ स्टेट्स मैन ‘ थे । उनके पास छुपाने को कुछ नहीं था । जो सोचते थे – वही कहते थे , जो कहते थे – वही करते थे । अदभुत निर्णयक्षमता के धनी चन्द्रशेखर सही अर्थों में ‘ गाँव और गुदड़ी ‘ के लाल थे । कई – कई बार अपने ढंग से उन्होंने देश को दिशा दी । गरीबी हटाओ , बैंको का राष्ट्रीयकरण , प्रिविपर्स की समाप्ति जैसे काँग्रेस और इंदिरा जी के समाजवादी कदमों के पीछे चन्द्रशेखर जी की ही सोच थी ।indira-gandhi-chandrasekhar-5336ef844c7a4_exlst

काँग्रेस प्रवेश के वक्त इंदिरा जी ने पूछा – आपके जैसे मुखर समाजवादी आखिर काँग्रेस में आने को क्यों तैयार हुए ? उनका स्पष्ट जवाब था – मैं कांग्रेस के चाल – चरित्र और चेहरा को बदलने आया हूँ । फिर इंदिरा जी ने पूछा – अगर ऐसा सम्भव नहीं हुआ ? चन्द्रशेखर जी ने सवाल पर सवाल दागा , सच सुनेंगी ? इंदिरा जी ने कहा – मैं आपसे सच की ही उम्मीद रखती हूँ । उनका जवाब था – फिर मैं कांग्रेस को तोड़ दूंगा ।कांग्रेस विभाजन के वक्त के. कामराज , मोरारजी देसाई , निजलिंगगप्पा , नीलम संजीव रेड्डी , चन्द्रभानू गुप्त , सत्येन्द्र नारायण सिंह , तारकेश्वरी सिन्हा , डॉ. राम सुभग सिंह जैसे सिंडिकेट के धाकड़ों की बनिस्बत अपेक्षाकृत कमजोर इंदिरा जी के साथ खड़ा होना , ‘ अंतरात्मा की आवाज ‘ के नाम पर राष्ट्रपति वी. वी. गिरी के चुनाव में उनकी वैचारिक भूमिका और फिर इंदिरा जी के विरोध के बावजूद कांग्रेस – कार्यसमिति में उनके प्रत्याशी को हराकर भारी अंतर से जीत ने बहुत पहले ही उन्हें भारतीय राजनीति में ‘ विशिष्ट ‘ बना दिया था । उन्हें लीक पर चलना स्वीकार नहीं था । अपनी दृढ़ वैचारिक पृष्ठभूमि के चलते वे धारा के प्रतिकूल चलने और साहस के साथ सार्थक हस्तक्षेप करनेवाले भारतीय राजनीति की शायद अंतिम कड़ी थे ।edition_banner5

कश्मीर पर शेख अब्दुल्ला का मजबूती से साथ , डी. के. बरुआ की ‘ सीमित तानाशाही के सिद्धांत ‘ पर कदम बढ़ा चुकी इंदिरा जी की ‘ इमर्जेंसी के खिलाफ कांग्रेस में रहते श्री कृष्णकांत , मोहन धारिया , रामधन ‘ जैसे मित्रों सहित 60 सांसदों के साथ जे. पी. के पक्ष में खड़ा होना और जेल जाना , ऑपरेशन ‘ ब्लू स्टार ‘ की वाह – वाही के बीच उसे ‘ अक्षम्य अपराध ‘ और ‘ एतिहासिक भूल ‘ करार देना , नेपाल में राजशाही के खात्में और लोकशाही की स्थापना के संघर्ष में अविस्मरणीय भूमिका उनके ‘ एकला चलो ‘ राजनीति के उदाहरण हैं । आतंकवादियों के खिलाफ सिख आस्था के प्रतीक ‘ स्वर्ण मंदिर ‘ पर सैनिक अभियान पर कई विकल्प सुझाते हुए उनका दूरंदेशी कथन कि ‘ देश को इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी ‘ । बाद के दिनों में प्रधानमन्त्री इंदिरा जी की हत्या और देशव्यापी सिख – विरोधी दंगों में जान – माल की अपार क्षति ने उनकी भविष्यवाणी को सच साबित कर दिया ।धोखे और धुर्तई की आज की राजनीति में वो दोस्ती और वचन निभानेवाले राजनेता के रूप में मशहूर थे । वे यारों के यार थे ।कांग्रेस के समर्थन के कारण भारी आलोचनाओं , युवा आक्रोश के विस्फोट और उन्माद में जलते देश की बागडोर संभालने के साथ ही चौतरफा शांति , बाबरी मस्जिद – रामजन्मभूमि विवाद पर सदभावपूर्ण सार्थक पहल , उनके कुशल नेतृत्व के कुछ प्रमाण थे , जिसे समयाभाव में अंजाम नहीं मिल पाया । देश यह भी जानता है कि बात – बेबात कांग्रेस की समर्थन वापसी की धमकी से तंग आकर एक दिन जब उन्होंने इस्तीफे का मन बना लिया तो दोनों ही तरफ के मित्रों ने समझौते की पहल की । राजीव जी तो मान गये , परन्तु चन्द्रशेखर जी अड़ गये । उन्होंने कहा – प्रधानमन्त्री का पद देश के सम्मान से जुड़ा है । छोटी – छोटी शर्तों पर उसके झुकने से इस पद की मर्यादा जाती रहेगी । बतौर व्यक्ति चन्द्रशेखर कहीं झुक भी सकता है , परन्तु प्रधानमन्त्री चन्द्रशेखर कदापि नहीं ।vajpayee1977_121810032632

सदन में एक प्रतिपक्षी मित्र के इस व्यंग्य कि – ‘ इतिहास में प्रधानमन्त्री के रूप में चन्द्रशेखर सबसे छोटे कार्यकाल के लिए जाने जायेंगे ‘ , उन्होंने जवाब में कहा – एवरेस्ट पर लोग झंडा गाड़ने जाते हैं – घर बनाने नहीं … उनके हीरक जयंती समारोह पर अपने उदगार में तत्कालीन प्रधानमन्त्री अटल जी ने ठीक ही कहा – अपने पाँच दशकों के संसदीय जीवन में मैंने लोकतंत्र के दो ही पक्ष देखे – ‘ सत्ता पक्ष और प्रतिपक्ष ‘ लेकिन चन्द्रशेखर की मौजूदगी ने भारतीय लोकतंत्र को तीसरा मजबूत पक्ष दिया – ‘ निष्पक्ष ‘…! सच , आनेवाली पीढ़ी चन्द्रशेखर को एक निर्भीक और निष्पक्ष नायक के रूप में याद करेगी । पगडंडियों से चल कर राजपथ और गाँव और गरीबी के परिवेश से निकलकर शिखर तक पहुँचनेवाले चन्द्रशेखर देश की राजनीति के विरल पुरुष थे । p180920024
महात्मा गाँधी को प्रेरक और आचार्य नरेन्द्र देव को अपना आदर्श माननेवाले चन्द्रशेखर जी जयप्रकाशी थे । आपातकाल के पूर्व , जयप्रकाश आन्दोलन के दौरान उन्होंने जे. पी. से न भिड़ने की इंदिरा जी को बार – बार सलाह दी । उन्होंने समझाया – ‘ सत्ता जब – जब संत से टकराई है , पराजय सत्ता की ही हुई है ‘ ।
गाँधी और विनोवा के बाद वह चन्द्रशेखर ही थे जिन्होंने पाँव – पैदल ‘ भारत यात्रा ‘ की । उस यात्रा – क्रम में उन्होंने देश की दारुण दुर्दशा , भूख , प्यास , बेबसी और बीमारी को और करीब से देखा । वे ग्रामीण भारत के प्रतिनिधि – प्रवक्ता थे , जिन्होंने गरीबी को न सिर्फ देखा था बल्कि स्वंय भोगा भी था । उनके राजनीतिक जीवन और चिन्तन के मूल में ‘ गाँव और गरीब ‘ थे ।chandra-shekhar_070811092419 इसलिए वो मन और आचरण से समाजवादी थे । उनके निधन से समाजवाद का एक बड़ा आधारस्तंभ ढह गया । डंकल हो या गैट , उदारीकरण हो या नई आर्थिक नीति , उन्होंने देश को इसके दुष्परिणामों से लगातार सचेत किया । वे अपनी अस्वस्थता के पूर्व अकेले घूम – घूम कर इसका मुखर विरोध करते रहे । उनका स्पष्ट मत था , कि भारत अपने स्वदेशी और स्वावलंबन के गाँधीवादी समाजवाद के फ्रेम में ही आगे बढ़ेगा ।ch1
चन्द्रशेखर जी से मेरी कई व्यक्तिगत यादें जुड़ी है । विस्तार में जाने का यह वक्त नहीं है , लेकिन मैं उन खुशनसीबों में हूँ , जिसके शादी – समारोह में प्रधानमन्त्री चन्द्रशेखर ने वायुसेना के कई हेलिकॉप्टरों से अपने आधे कैबिनेट के साथ मेरे गाँव पंचगछिया पहुँचकर मेरा मान बढ़ाया । पूरे भरोसे के साथ बिहार पार्टी के ‘ उर्जा श्रोत ‘ की युवा – शाखा की मुझे कमान सौंपी । विधायक बनने के तुरंत बाद वर्ष 1990 में नेपाल में राजशाही के खिलाफ लोकशाही की स्थापना की निर्णायक लड़ाई में कूदने का आदेश दिया ।
पदार्पण से प्रस्थान तक चन्द्रशेखर जी भारतीय राजनीति में हर समय प्रासांगिक थे । इस विचारवान विराट व्यक्तित्व को कुछ करने के लिए निहायत सीमित समय ( चार महीना मात्र ) मिला … परन्तु गांधी , लोहिया , जयप्रकाश की विरासत इस व्यक्ति ने देश की राजनीति पर अपने ढंग से अलग छाप छोड़ी । अब वे हमारे बीच आज सशरीर नहीं हैं , फिर भी उनके संघर्ष , विचार और आदर्श युवा पीढ़ी को अपनी पूरी प्रासंगिकता के साथ मार्गदर्शन करते रहेंगे ।
उनकी 89 वीं जयंती पर श्रद्धा – सुमन के साथ … !

श्रोत-( प्रखर समाजवादी नेता , पूर्व प्रधानमन्त्री स्व. चन्द्रशेखर जी की 89 वीं जयंती पर पूर्व सांसद श्री आनन्द मोहन जी का सन्देश । जेल डायरी से... )

फोटो श्रोत- गूगल