विश्वविद्यालय प्रशासन के खिलाफ एक जुट होंगे छात्र संगठन !

896

सहरसा (kx डेस्क ) : भूपेंद्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय मधेपुरा मे एनएसयूआई कि बैठक आयोजित कि गई| इस बैठक की अध्यक्षता एनएसयूआई के प्रदेश महासचिव मनीष कुमार ने किया और संचालन एनएसयूआई के पूर्व राष्ट्रीय प्रतिनिधि प्रभात कुमार मिस्टर ने किया |बीएनएमयू मे व्याप्त शैक्षणिक अराजकता एवं दीक्षांत समारोह मे छात्र -संगठनो की नो इंट्री पर विचार-विमर्ष करते हुए एनएसयूआई के प्रदेश महासचिव मनीष कुमार ने कहा कि ‘लोकतंत्र मे शिक्षा ‘जिस तरह संवैधानिक अधिकार है उसी तरह “शिक्षा मे लोकतंत्र ” भी एक संवैधानिक अधिकार है और यह बगैर छात्र -संगठनो के अधूरा है ।WhatsApp-Image-20160630 (6)
ज्ञात हो कि गत बुधवार को विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षांत समारोह काफी उत्सवी माहौल मे संम्पन हुआ पर इस समारोह में छात्र- संगठनो की नो इंट्री लगा कर कुलपति ने विश्वविद्यालय मे छात्रो के लोकतंत्र की हत्या कि है । साथ ही दीक्षांत समारोह मे भारी पक्ष -पात का आरोप लगाते हुए छात्र नेता मनीष ने कहा कि विश्वविद्यालय इतिहास मे पहली बार हुए समारोह मे सभी कोर्स के छात्र -छात्राओ को उपाधि मिलनी चाहिए किन्तु व्यवसायिक पाठ्यक्रम के छात्रो को दीक्षांत समारोह मे उपाधि नहीं मिलना विश्वविद्यालय प्रशासन सवाल खड़ा कर रहा है |NSUIlogo_B_5-8-14
लाखो कि राशि खर्च कर व्यवसायिक पाठ्यक्रम कि पढ़ाई करने वाले छात्र एक डिग्री के भी हकदार नही है ।व्यवसायिक पाठ्यक्रम के छात्रो को दीक्षांत समारोह मे उपाधि नही मिलने का एनएसयूआई पुरजोर विरोध करती है,वही एनएसयूआई के पूर्व राष्ट्रीय प्रतिनिधि प्रभात कुमार मिस्टर ने कहा कि कुलपति के द्वारा दीक्षांत समारोह मे छात्र -संगठनो को नही बुला कर कुलपति ने बहुत बड़ा अपमान किया है यह छात्रो के भविष्य के प्रति बिल्कुल संवेदनहीन है यह दीक्षांत समारोह कुलपति अपने 2 वर्षो के बदहाल और नाकाम कार्यकाल को छुपाने के लिए यह अपने आप का ब्रांडिंग किया है।2598_Bhupendra_Narayan_Mandal_University
साथ ही बैठक मे निर्णय हुआ कि आगामी 5 जुलाई को सर्वदलीय छात्र -संगठन बैठक आहूत कि जाए जिसमे एनएसयूआई कि मुख्य भूमिका के रहेगी और विश्वविद्यालय से शैक्षणिक और वित्तीय अराजकता को मिटाने और छात्रो के अंधकारमय भविष्य को बचाने के लिए “विश्वविद्यालय बचाओ” आंदोलन के लिए रणनीति तैयार होगी ।
इस बैठक मे एनएसयूआई नेता निशांत यादव , गौरव गुप्ता, मौसम झा, कन्हैया झा, चंदन यादव, आंनद कुमार, बिमल कुमार यादव ,कृष्णा, कुंदन कुमार, विकास यादव अभिनव कुमार समेत दर्जनो छात्र नेता मौजूद थे ।।