मासूम की पुकार: कब आऐगा अच्छे दिन कब होगा बिहार में बहार !

3014
परिजन के गोद में मासूम (फोटो- अजय कुमार)

सहरसा (kunal kishor):  कोसी की इस बाढ़ सुखाड़ एवं रेतीली ज़मी पर गरीबी और मुफ्लासी ने राजनीती के आँगन में एक गरीब असहाय एक माँ बाप को अपने 9 माह के मासूम बच्चे की ईलाज के लिए दर-दर भटकने को मजबूर और बेबस होना पर रहा है |

राजकुमार का घर (फोटो-अजय पत्रकार)
राजकुमार का घर (फोटोअजय पत्रकार)

जी हाँ हम बात कर रहे है बिहार के सहरसा जिले के सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल के मटिहानी गाँव में रहने वाले महादलित समुदाय के राजकुमार सादा की | जैसे-तैसे अपने परिवार का भरण-पोषण करने वाले राजकुमार के घर 9 माह पहले एक बेटे का जन्म हुआ बेटे का जन्म लेना ही राजकुमार के जीवन के लिए दंश बन गया | जी है जहाँ अपने समाज में बेटे के जन्म पर ख़ुशी मनाई जाती है लेकिन यह महादलित परिवार के लिए नासूर बन गया है |

क्या है मामला :

परिवार के साथ मासूम (फोटो- अजय पत्रकार)
परिवार के साथ मासूम (फोटोअजय पत्रकार)

राजकुमार सादा का महज 9 माह का यह मासूम की तस्वीर देख कर आप कुछ देर के लिए सिहर जाएंगे |आप सोचने पर मजबूर हो जायेगे कि 9 माह के बच्चे का चेहरा इतना भयानक कैसे हो गया| लेकिन इस भयानक चेहरे के पीछे की दर्द भरी दास्ताँ पढ़ कर यकीनन आपकी आँखों से आंसू बरबस निकल जायेगा और सोचने को मजबूर हो जाएगे |इस मासूम बच्चे का जन्म से ही आंख और नाक खराब है| नाक के नीचे छोटा सा छिद्र है,जिससे बामुश्किल साँस लेकर अविनाश जिन्दा है लेकिन जीवन की इस भीषण त्रासदी को 9 माह का मासूम ढो रहा है|लेकिन मज़बूरी में अपने कलेजे के टुकड़े की बदहाल हालत को देखकर राजकुमार सादा के आँखों से आंसू थम नही रहा है|मासूम अविनाश को इंतजार है तो बस उस रहनुमा का जो उसे नया जीवन दे सके |थोड़ी सी मदद ही उसके जीवन में खुशियां भर सकती है

तरस तो खाता है पर मदद को कोई आगे नही आता

चेहरा ऐसा डरावना है कि जिसे देखकर हर कोई तरस तो खाता है लेकिन कोई आगे नही आता है | मंत्री विधायक नेताओं ना जाने कितनी चौखटो पर राजकुमार ने अपने बेटे के लिए गुहार लगाई है इस के बाद भी किसी ने नही सुनी|

माँ के गोद में मासूम (फोटो- अजय पत्रकार)
माँ के गोद में मासूम (फोटोअजय पत्रकार)

इस मासूम को अच्छे दिन और बहार आने का है इंतजार

प्रधानमंत्री मोदी 21वीं सदी के भारत में अच्छे दिनों के सपने दिखा रहे है तो बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार बिहार में बहार के साथ विकास की बड़ी-बड़ी बातें कर रहे है|दलितों के नाम पर वोट बैंक का दावा करने वाले खाद्य मंत्री रामविलास पासवान भी इस मासूम के दर्द को देखकर चुप है| उधर स्थानीय सांसद महबूब अली कैसर भी आम लोगों के दर्द से कोसों दूर है| अब इस मासूम इसी उम्मीद में जिंदा है कि कोई ना कोई तो उसे नया  जीवन की सौगात दे सके |

 मदद के लिए सम्पर्क करे – अजय कुमार/कोसी बिहार(09431828599)

समाचार सहयोग-रमेश ठाकुर ,धनंजय झा ( पत्रकार, नई दिल्ली) एवं अजय कुमार (सभी फोटो)