खेल मैदान में बाढ़ आश्रय स्थल निमार्ण का ग्रामीण कर रहे है विरोध !

1951
विरोध प्रदर्शन करते ग्रामीण

 

सहरसा (ब्रजेश भारती) : अनुमंडल क्षेत्र के एनएच 107 सौनवर्षाराज-सिमरी बख्तियारपुर पथ के मुरली चैक के समीप सोमवार को खेल मैदान में बाढ़ आश्रय स्थल के निमार्ण का विरोध कर रहे सैकड़ों ग्रामीणों ने सुबह 7 बजे से लेकर दिन के डेढ़ बजेतक सड़क जाम कर रोषपूर्ण प्रर्दशन किया। ग्रामीणों ने बांस बल्ला बोल्डर आदि से सड़क को सुबह जामकर दिया,जाम कि वजह से दिन भर आवाजाही प्रभावित रही वही यात्री परेशान दिखे। बनमा बीडीओं नुतन कुमारी,थानाध्यक्ष जितेन्द्र सहनी ने दोपहर बाद प्रर्दशनकारियों से करीब दो घंटो तक वार्ता किया। इन दोनों के इस आश्वासन पर कि सिमरी बख्तियारपुर एसडीओं से एक शिष्टमंडल मिलकर अपनी बाते रख इस समस्या का सामाधान किया जायेगा।

 खेल मैदान
खेल मैदान

एनएच 107 को 6 घंटों तक जाम कर ग्रामीणों ने किया प्रर्दशन

क्या है मामला- सोमवार को एनएच को जाम कर रहे मुरली व बोरवा के सैकड़ों ग्रामीणों का कहना था कि इस पंचायत में पहले से ही एक बाढ़ आश्रय स्थल है उसके बावजूद स्थानिय ठीकेदार ने जानबुझ कर खेल के मैदान में निमार्ण कार्य शुरू करवाना चाह रहे है जबकि पूर्व में एक उच्च विधालय यहां हुआ करता था एक उच्च विधालय स्वीकृति कि बात चल रही है अगर यहां यह निमार्ण हो गया तो खेल का मैदान एवं उच्च विधालय नही बन सकेगा जिसके कारण बच्चों का भविष्य अधंकारमय हो जायेगा।

सडक जाम करते ग्रामीण
सडक जाम करते ग्रामीण

मामला बनमा-ईटहरी प्रखंड के रसलपुर पंचायत का

क्या है जमीन का मसला-जिस खेल मैदान कि खाली जमीन को लेकर ग्रामीण विरोध कर रहे है वह जमीन जिसका खाता 617 खेसरा 334 रकवा 1.92 डीसमल जिला परिषद शिक्षा विभाग के नाम से हाल सर्वे में कायम हैं उक्त जमीन पर वर्षो पूर्व जनता उच्च विधालय संचालित हुआ करता था परन्तु विधालय सरकारी नही होने कि वजह से समय के साथ विधालय का अस्तित्व समाप्त हो गया,उक्त जमीन पर मेला का आयोजन के साथ बगल के मध्य विधालय के बच्चे खेल मैदान के रूप में इस्तेमाल करते चले आ रहे हैं।