बिहार के मोतिहारी में फिर दुहराई गई दिल्ली के निर्भया से भी गंभीर कांड !

1078
पीडिता (फोटो-श्रोत )

kx desk : बिहार के मोतिहारी में फिर दुहराई गई दिल्ली के निर्भया से भी गंभीर कांड। खेला गया हैवानियत का ऐसा नंगा खेल की इंसानियत की भी शर्मा गई। हद तो यह की सुशासन की इस सरकार में मामले पर कार्रवाई करने की बजाये प्रशासन लीपापोती में लगा रहा। आप भी जानिये बिहार की इस निर्भया का दर्द।

क्या है मामला……

मोतिहारी सदर अस्पताल के बेड पर जीवन और मौत के बीच झूल रही लड़की एक अल्पसंख्यक परिवार से आती है।इसके साथ जो हुआ उसे बयां करने में रूह काँप जा रही है लेकिन फिर भी इस घटना को जानना जरुरी है की हमारे समाज में भी ऐसे दरिंदे रहते है।जानना जरुरी है ताकि कैंडल मार्च करने वाले जरा इस बच्ची का दर्द भी जाने।ओझा

यह घटना है मोतिहारी के रामगढ़वा थाना क्षेत्र के जमुई टोला की जहां पीड़ित लड़की शौच करने खेतों की और जा रही थी.तभी गाँव का ही समीउल्लाह उसे पकड़ कर उसके साथ दुष्कर्म किया और मोबाइल में वीडियो बना लिया।इस घटना के बाद 13 जून को समीउल्लाह ने उसे उस बनाए हुए वीडियो को दिखाकर फिर उसे बुलाया।तो पीड़िता अपने साथ ब्लेड लेकर गयी और जैसे ही समीउल्लाह ने उसके साथ गलत करने की कोशिश तो तो उसने समीउल्लाह के लिंग पर ब्लेड से वार कर दिया।जिस कारण उसका लिंग कट गया.उसके बाद वह भाग खड़ा हुआ और अपना इलाज कराया।इस बात की जानकी जब उसने अपनी माँ को दी तो उसकी माँ समीउल्लाह के घर गयी और सारी बात बताई तो समीउल्लाह के घरवाले पीड़िता का ही दोष देकर उनलोगो को जान से मारने की धमकी देने लगे |

मरा समझ छोड़ भाग गए…..five-year-old-girl-had-attempted-to-rape-56aceabf66654_l

फिर पंद्रह जून की शाम समीउल्लाह के परिवार के लोग अलीउल्लाह उर्फ छोटन,जावीउल्लाह,शमरुल्लाह,कलीमुल्लाह ,नुरुल्लाह पीड़िता के घर आया और बंदूक और लाठी के बल पर लड़की को लेकर चले गए। घर के बाहर उसके साथ गैंग रेप किया यही नहीं उसके प्राईवेट पार्ट्स में बंदूक की नली और लकड़ी घुसाकर अपने दरिंदगी का परिचय देने लगे.जब उनलोगो को लगा कि वह मर चुकी है तो उसे छोड़कर भाग खड़े हुए.मरणासन्न स्थिति में सड़क पर पड़ी रही। परिवार वालो को घर में बंद कर दिया था। पीड़िता रात में थाना की गाडी देखकर हिम्मत कि और कुछ बोलकर बेहोश हो गयी.उसके बाद पुलिस ने उसे इलाज के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया जहां से चिकित्सकों ने उसे बेहतर इलाज के लिए मोतिहारी सदर अस्पताल भेज दिया। तब से पीड़िता का इलाज मोतिहारी सदर अस्पताल में चल रहा है|

रफा-दफा में जुटी पुलिस ….

लेकिन पुलिस कार्रवाई की बजाए मामले पर पर्दा डालने में लगी रही लेकिन एक स्थानीय सामाजिक कार्यकर्ता के पहल पर मामले का खुलासा हुआ।आप भले ही इसे जिस शासन का उदाहरण माने लेकिन ऐसा तो जंगलराज में भी नहीं होता होगा | नजरिया बदलने वाले ट्विटर बाबू आपके ट्वीट का इंतजार रहेगा और सुशासन के प्रवक्ता आपका भी …

(श्रोतअमिताभ ओझा /न्यूज़ 24 बिहार हेड के फेसबुक पेज से )