अवैध रूप से चल रहे चकले घर से तीन लड़किया मुक्त,दो संचालक गिरफ्तार !

1619

सहरसा (कुणाल किशोर) : सहरसा के भारतीय नगर (रेड लाइट एरिया) में पुलिस की मदद से एक एनजीओ ने छापेमारी कर 3 लड़कियों को बरामद किया है। आरोप है कि इन लड़कियों से जबरन देह व्यापार कराया जा रहा था। पुलिस के इस छापेमारी में 2 की गिरफ़्तारी भी हुई है|

IMG_20160615_132629

पटना के NGO के पास थी लड़कियों की सूचना

पटना के एनजीओ जस्टिस एंड केयर को यहां के रेड लाइट एरिया में लड़कियों से जबरन काम कराने की खबर थी।

जस्टिस एंड केयर नामक एनजीओ के  सदस्यों ने बुधवार को सहरसा पुलिस से संपर्क किया।

इसके बाद पुलिस और अपराध शाखा टीम के साथ मिलकर छापेमारी की।

टीम ने एनजीओ की जानकारी के आधार पर बिनोद कुमार उर्फ़ मो० कमरुल के घर पर छापाा मारा, जहां घर के अलग-अलग कमरे से 3 लड़कियां बरामद हुईं।लड़कियों के अलावा कमरे से नये एवं उपयोग हुए काफी मात्रा में निरोध भी मिला है।

पुलिस ने बिनोद की पत्नी मंजु उर्फ़ मनीषा खातुन को भी हिरासत में लिया है।

IMG_20160615_132646

जबरन कराया जाता था देह व्यापार

पुलिस की छापेमारी में मुक्त तीनों लडकिया सुमन,रूबी एवं रजनी(तीनो काल्पनिक नाम) ने बताया की गिरफ्तार बिनोद उसकी पत्नी मनीषा सहित अन्य जबरन किसी के साथ यौन संबंध बनाने के लिए मजबूर करती थी |उनकी बात नहीं मानने पर मारा जाता था साथ ही अंगो को ज़ख़्मी भी करते थे | मुक्त करायी गयी लडकियों ने पुलिस को बताया की लाचार बेबस होकर उनलोगो की बातें मानने को मजबूर थी | मालूम हो की देह व्यापार के क्रम में बरामद लडकियों में रूबी को पांच वर्ष की एक लड़की है तो सुमन को एक वर्ष का बच्चा भी है |

घर में कैद कर रखा जाता था

छापेमारी में बरामद लडकियों की आपबीती सुनकर आप भी हैरान हो जाएंगे की रात 11 बजे कमरे में बंद किया जाता था और सुबह करीब 7 बजे घर के सामने बने झोपडी में देह व्यापार के लिए छोड़ दिया जाता था,और खाना खाने के समय रुखी-सुखी खाना खिला कर पुनः झोपडी में भेज देता था| झोपडी में छोड़ने के बाद हम पर नज़र रखा जाता था |इतना ही नही मालदार ग्राहक को फसा कर रुपये भी लेने को मजबूर किया जाता था जिस दिन कम कमाई होती थी तो बिनोद और मनीषा मारपीट करते और खाना भी नही देते और बीच-बीच में लोगों से जबरदस्ती रूपए लेने का भी दबाब देते रहते थे |

IMG_20160615_133222

छापेमारी में शामिल

एनजीओ जस्टिस एंड केयर के पुरुष एवं महिला सदस्यों के अलावे अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सुबोध कुमार विश्वाश,एसआई नितेश कुमार,कमलेश सिंह,महिला थानाध्यक्ष आरती सिंह,महिला सिपाही रश्मि कुमारी,मीणा कुमारी,बेबी कुमारी,सिपाही छेदी राय,मिथिलेश सिंह,सुन्दरकांत झा,अपराध शाखा के पुलिस निरक्षक अमरकांत झा,प्रभाकर मिश्र,सिपाही शिवदत्त यादव सहित अन्य पुलिस जवान छापेमारी दल में थे |