जमीन खाली कराए बगैर लौटना पड़ा पुलिस को !

1013
ग्रामीणों से वार्ता करते अधिकारी

मधेपुरा/चौसा (संजय कुमार सुमन) :  चौसा प्रखंड मुख्यालय स्थित काली स्थान के पास जमीनी विवाद में हाई कोर्ट के आदेश पर जमीन खाली करवाने आये प्रशासन को बैरंग लौटना पड़ा। जमीन खाली कराने को लेकर आज दिनभर पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी और माहौल काफी गर्म रहा। पीड़ित लोगों द्वारा चौसा विजयघाट सड़क को घंटों जाम कर आवागमन को भी प्रभावित किया गया।

क्या है मुद्दा …..WhatsApp-Image-20160614 (6)

मालूम हो की चौसा काली स्थान के पास वर्षों से राणविजय यादव बनाम दसरथ पासवान,झालिया देवी,प्रदीप यादव के बीच वर्षों से जमीनी विवाद चल रहा था।इसी बीच राणविजय यादव,झालिया देवी,प्रदीप यादव लड़ते लड़ते इस दुनियां को छोड़ कर चले गए।लेकिन उनके वारिस लड़ने लगे।आखिर कार हाई कोर्ट ने जमीन खाली करने का आदेश दे दिया।

हाई कोर्ट के आदेश पड़ आज अनुमंडल पदाधिकारी मुकेश कुमार,डीएसपी रहमत अली,डीसीएलआर विनय कुमार अपने दल बल के साथ जमीन खाली कराने चौसा आये।लेकिन यहाँ का माहौल काफी तनाव पूर्ण देखा गया।

क्या कहते है लोग….WhatsApp-Image-20160614 (7)

दसरथ पासवान का कहना है हम और झालिया देवी,प्रदीप यादव, भूमिहीन है। सड़क किनारे पिछले 40 वर्षों से घर बनाकर रहते आरहे हैं।1997 में हम लोग पर्चा कटवाए है। हम लोगों को इसी जमीन सरकार द्वारा इदिरा आवास भी मिला है जो हम लोगों ने बनवाया भी है।इसी पर अपना गुजर वासर करते आ रहे हैं।किसी भी शर्त पर जमीन खाली नही होगा। प्रशासन को जो करना है सो करे। उधर जमीन खाली कराने के विरोध में आक्रोशित लोगों ने चौसा-विजय घाट पथ को घंटों जाम कर आवागमन को प्रभावित किया गया जिसे स्थानीय लोगों के पहल पर हटाया गया।