आखिर जून में ही क्यों होता है सहरसा स्टेशन पर हंगामा : एक तरफ हंगामा तो दूसरी तरफ जश्न !

1717

सहरसा: (desk) -आज का दिन कोशी सीमांचल के लोगों के लिए ऐतिहासिक दिन है एक तरफ तरफ देश के रेल मंत्री सुरेश प्रभाकर प्रभु पूर्णिया-सहरसा रेलखंड का परिचालन लगभग आठ वर्षों के बाद शुरू किया गया,जिसका उद्घाटन रेलमंत्री ने मोतिहारी में रिमोट का बटन दबाकर किया, पूर्णिया में भी उद्घाटन के मौके पर पूर्णिया सांसद संतोष कुशवाहा ,विद्यायक विजय खेमका एवं रेल मंडल के अधिकारी ने हरी झंडी दिखाकर रेलगाड़ी का परिचालन का उद्घाटन किया |

1728516837436340_6796095692184603199_o

जिससे पूर्वोत्तर से रेल संपर्क पुनः बहाल किया जा रहा था तो वही दूसरी ओर सहरसा जँ. का रेल परिसर स्थित टिकट काउंटर पर आक्रोशित यात्रियों ने तोड़ फोर किया। तोड़-फोड़ का कोई वास्तविक कारणों का खुलासा अब तक नहीं हो सकी है, लेकिन सूत्रों के अनुसार टिकट में अवैध वसूली और टिकट वापस न करने से गुस्साई भीड़ के द्वारा तोड़-फोड़ करने की बात सामने आ रही है। इस हंगामे से जो भी हो इस तरह की हड़कत से पब्लिक को ही नुकसान उठाना पड़ता है। अभी कोसी से श्रम पलायन मतलब मजदूरी और रोजी-रोजगार के लिए हज़ारों की तायदाद में रोज जनसेवा एक्सप्रेस सहित अन्य ट्रेन से हजारो लोगो का पलायन जारी  है।

13346801_1221216527897957_7829595068643098582_n13427846_1221216591231284_2747976218128303404_n

लोगों की भीड़ के आगे ट्रेनों की कमी के कारण ट्रेन में बैठने की जगह नहीं होने पर यात्री रेल इंजन तक पर सफ़र करने को मज़बूर होते हैं। जान जोखिम में डालना शोक नहीं बल्कि दो जून की रोटी के जुगार के लिये सब कुछ को जायज मानते  है। ट्रेन में गिरने-पड़ने की दुर्घटना हुई तो खुद मर जायेंगे,अगर समय पर रोजगार नहीं मिली तो पूरा परिवार भी भूख से मर सकता है। इसलिये परिवार को बचाये रखने के लिए जान जोखिम में डालने जैसे चुनौती भी स्वीकार करना आसान लगता है।,
आज की घटना के संबंध में बताया जाता है कि चापाकल पर पानी पी रहे एक युवक को आरपीएफ के जवान ने उस लड़के को पकड़ कर हाजत की ओर ले ही जा रहा था की अन्य यात्रियों का गुस्सा रेल पुलिस के विरोध में फुट पड़ा। यात्रियों की हुजूम ने उक्त जवान को बुरी तरह से पिटाई कर डाला। इसके बाद क्या स्टेशन परिसर में भगदर मच गयी।
रेल मंत्री के नए तोफे के साथ नयी घटना भी सहरसा रेल अनुमंडल में घटित होना दुर्भाग्यपूर्ण बात है | हालाँकि संबाद प्रेषण तक घटना के कारणों की बिभागीय पुष्टि नही हो सकी है |

हंगामा की यह पहली घटना नही : इससे पुर्व भी कई बार सहरसा रेलवे जंक्शन पर जुन माह में हो चुकी है हंगामा….