मेरिट लिस्ट बनाने से पहले ही हो इन्टरव्यू – ABVP

1254

बिहार सरकार के इस निर्णय का हम स्वागत करते है जिसमें कहा गया है कि 2017 ईस्वी से इंटर के टॉपर बने छात्रो को इंटरव्यू दे कर ये बताना होगा कि वाकई में छात्र टॉपर बनने योग्य है। राज्य सरकार के दिए आदेश में कहा गया है कि भविष्य में दसवी और बारहवी की परीक्षाओ में टॉपर का मेरिट लिस्ट जारी करने से पहले उनका ब्यक्तिगत इंटरव्यू लिया जाय।
अभाविप सहरसा के जिला संयोजक मुरारी कुमार मयंक ने यूजीसी, केंद्रीय एचआरडी मिनिस्टर, बिहार के शिक्षा मंत्री, BNMU के कुलपति को पत्र लिख कर मांग किया है कि हमेशा से छात्रो को समस्या  में धकेल कर बलि का बकरा बनाने वाले BNMU के सभी संकायों के प्रथम 20 छात्रो का रिजल्ट भी राज्य सरकार ने जो आदेश इंटर कौंसिल को दिया है उसी के अनुरूप BNMU भी छात्रों का मेरिट या 80% से ज्यादा प्राप्तांको वाले छात्रो का रिजल्ट इंटरव्यू के आधार पर जारी करे  क्योंकि अगर राज्य सरकार के नामी शैक्षणिक एजेंसियों में घोर अनियमिता हो सकती  है तो BNMU भी कोई दूध का धुला नही हैं।BNMU हमेशा अपने कारनामे को लेकर हमेशा चर्चा का विषय बनी रहती है।इसके सत्र में काफी बिलंब होने के बाद रिजल्ट प्रकाशन में बिलंब,फिर छात्रो को प्रमोटेड कर सालो-साल विवि के चक्कर लगाने के लिए छात्रो को मजबूर करती रही है।
BNMU के वीक्षकों पर भी ऊँगली उठना लाजमी है,क्योकि इस विवि के आधे से अधिक कॉलेज निजी है जिसके प्राध्यापक बेतन नही मिलने के कारण दूसरे कामो में ब्यस्त रहते है तो वो छात्रो का मूलयांकन कैसे कर पाएंगे।
जब छात्रो का परीक्षा के समय मोबाइल चिट पुर्जा और गहन चेकिंग से गुजरकर अंदर जाना होता है तब वीक्षकों को परीक्षा केंद्र पर मोबाइल और बिना जाँच के प्रवेश क्यों दिया जाता है क्या वो जाँच में धांदली नही करते है क्या वो छात्रो के जीवन से खिलवार नही करसकते है..अगर भूपेंद्र नारायण मण्डल विश्विद्यालय इस पर कोई ठोस कदम नही उठती है तो अभाविप विशाल आंदोलन करने को बाध्य होंगा ।