कटिहार : मिला पोलियो ग्रस्त बच्चा !

2038

कटिहार (शदाब आलम ) : कटिहार में पोलियों से ग्रसित बच्ची मिलने का मामला उजागर हुआ है…। बरारी प्रखंड के रौनिया गौरीडीह मुशहर टोली में एक पांच बर्षीय बच्ची विकलांगता की शिकार हो गयी है…। गरीबी से जुझते परिवार ने बरारी रेफरल अस्पताल लाया जहां से कटिहार रेफर कर दिया गया…। सरकारी इलाज से कोई फायदा नहीं मिलने पर परिजनों ने बच्ची को घर पर ही रख कर मालिस कर रहे है…। वही स्वास्थ्य विभाग ने बच्ची के शौच को महिनों पहले जांच के लिए भेजकर अपने कर्तव्य से इतिश्री कर लिया है…। 

15 (1)

खन्तर ऋषि,पोलियों पीडित बच्ची के दादा : दादा की अंगुलियों को पकड कर चलती और दौडने का प्रयास करती यह पांच साल की बच्ची सेखी कुमारी है…। जन्म के बाद जब इसने चलना शुरु किया तो सहीं सलामत थी…। अचानक तबीयत खराब हुआ और पैर से विकलांगता शुरु हो गयी…। तबीयत खराब होने पर परिवार वालों ने किसी तरह बरारी रेफरल अस्पताल लाया…। जहां से बेहतर इलाज के लिए कटिहार भेजा गया…। जहां इलाज के नाम पर बच्ची के शौच को जांच के लिए कोलकाता भेज दिया गया…। 29 फरवरी को तबीयत खराब होने पर परिवार वालों ने इलाज कराया था…। जिसके बाद सरकारी स्तर पर इलाज होता नहीं देख अब घर में ही मालिश का सहारा लिया जा रहा है…।

 

 स्वास्थ्य महकमा के वरीय अधिकारी भी मानते है कि पोलियों मुक्त होने के बाद भी एक लाख में तीन बच्चे पोलियों से ग्रसित हो सकते है…। लेकिन जांच के लिए शौच भेजकर अपने कर्तव्य से मुक्त हो गये ये लोग…। और अब लकवा के प्रकार गिनाते है…।

करोडों रुपये खर्चकर देश को पोलियों मुक्त बनाने की कवायद सालों से चल रही है…ऐसे में अगर कोई विकंलागता से ग्रसित बच्चा मिलता है तो स्वास्थ्य विभाग की उदासिनता क्यों रहती है…जिसपर विचार करने और पीडित बच्ची को समुचित इलाज की जरुरत बनती है|